Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मोदी सरकार का मेक इन इंडिया मेडिकल ATM, 58 तरह के हो सकेगें टेस्ट, जानें पूरी जानकारी

आपने आज तक पैसे निकालने वाले एटीएम के बारे में सुना होगा, लेकिन आज हम आपको मेडिकल एटीएम (Medical ATM) के बारे में बता रहे हैं। जो आपके डेंगू, हीमोग्लोबिन, टाइफाइड, एचआईवी, मलेरिया, चिकनगुनिया, एलिफेंटियासिस, मूत्र परीक्षण, ईसीजी समेत कुल 58 तरह के टेस्ट करने में सक्षम होगा। इस एटीएम की खासियत ये है कि इसकी रिपोर्ट भी तत्काल मिल सकेगी। आइए जानते हैं मेडिकल एटीएम (Medical ATM) से जुड़ी अन्य जानकारियां...

अब खुलेगा मेडिकल ATM, 58 तरह के हो सकेगें टेस्ट, जानें पूरी जानकारीWhat is Medical ATM and How will work In Hindi

आज के दौर में बढ़ते प्रदूषण और खान-पान की गलत आदतों की वजह से बच्चे और बड़े निरंतर गंभीर बीमारियों के शिकार हो रहे हैं, लेकिन उन बीमारियों का पता लगाने के लिए जरुरी मेडिकल जांच यानि पैथोलॉजी टेस्ट लैब की कमी लोगों की मुश्किलें और ज्यादा बढ़ा देती हैं, लेकिन एनीटाइम हेल्थ मॉनिटरिंग यानि मेडिकल एटीएम (Medical ATM) जैसी सुविधा लोगों को मिलने से बीमारियों का सही समय पर पता चल सकेगा और सही तरीके से इलाज करवाने में भी मदद मिल सकेगी। चलिए आपको बताते हैं मेडिकल एटीएम के काम करने का तरीका, कहां मिलेगी सुविधा आदि...

क्या है मेडिकल एटीएम (What is Medical ATM)

एनीटाइम हेल्थ मॉनिटरिंग (Medical ATM), एक ऐसी तकनीकी सुविधा है जिसमें आप स्वयं एएचएम कियोस्क के जरिए अपनी पैथोलॉजी टेस्ट को खुद कर पायेगें और तत्काल रिपोर्ट भी पा सकेगें। देश में जल्द ही इस सुविधा का शुभारंभ होने वाला है। इस पैथोलॉजी टेस्ट लैब की शुरुआत करने का मुख्य उद्देश्य बिना कठिनाई के लोगों तक उन्नत पैथोलॉजी मेडिकल सुविधा पहुंचाना है।




मेडिकल एटीएम कैसे करेगा काम (How Medical ATM will work)

मेडिकल एटीएम (Medical ATM) तकनीक को संस्कारी टेक स्मार्ट सोल्यूशन्स प्राइवेट लिमिटेड नामक स्टार्टअप कंपनी ने विकसित किया है। ये भारत के चिकित्सा के क्षेत्र में स्वास्थ्य जांच का सबसे उन्नत POCT सिस्टम होगा। स्टार्टअप के प्रतिनिधि के मुताबिक, मेडिकल एटीएम का उपयोग करना बेहद सरल है। उपयोगकर्ता को इस तकनीक का प्रयोग करने के लिए कम्प्यूटर की बेसिक जानकारी होनी चाहिए, जिसके बाद वो सामान्य प्रक्रिया से इसके माध्यम से अपनी टेस्ट रिपोर्ट प्राप्त कर सकेगा।

मेडिकल एटीएम में कौन-कौन से टेस्ट होगें (What Tests will be Done at Medical ATM)

मेडिकल एटीएम से लोग कुल 58 तरह के टेस्ट कर पायेगें, जिसमें डेंगू, खून में ग्लूकोज, हीमोग्लोबिन, मलेरिया, चिकनगुनिया, एलिफेंटियासिस, टाइफाइड, एचआईवी,मूत्र परीक्षण, ईसीजी, कान का परीक्षण और त्वचा का परीक्षण शामिल हैं। इस हाईटेक टेस्टिंग सिस्टम में कुछ ही मिनटों में इलेक्ट्रॉनिक और प्रिंट दोनों ही रुपों में रिपोर्ट मिल सकेगी, जबकि सामान्य तौर पर इन दोनों तरह की रिपोर्ट को मिलने में कई घंटे या दिन लग जाते हैं।




कहां कहां उपलब्ध होगी ये सुविधा (Where will this Facility be Available)

स्टार्टअप कंपनी के मुताबिक, मेक इन इंडिया ये तकनीकी उपकरण मेडिकल सेक्टर में क्रांति लाने में सफल होगा। इसे निजी और सरकारी दोनों ही तरफ से सराहा जा रहा है। फिलहाल ये सुविधा अभी भुवनेश्वर, गुड़गांव और इंदौर जैसे शहरों में उपलब्ध होगी। इस मशीन को कियोस्क बिजनेस पार्क, ग्रामीण स्वास्थ्य केंद्रों,उद्योगों, आवासीय कॉलोनियों चिकित्सकों के क्लिनिकों, शॉपिंग मॉल,कॉर्पोरेट भवनों और हवाई अड्डों पर स्थापित किया जा सकता है।

Next Story
Top