Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

गर्मियों में दिमाग को ठंडा रखने के उपाय

Health Tips : गर्मी की शुरुआत होते ही अक्सर लोगों का गुस्सा और चिड़चिड़ापन बढ़ने लगता है। जो शरीर के तापमान बढ़ने के साथ ही दिमाग की बढ़ती गर्मी का संकेत माना जाता है। लंबे समय तक इस स्थिति का बरकरार रहना। सेहत के लिए बेहद नुकसानदायक साबित हो सकता है। ऐसे में अगर कुछ सावधानियां बरती जाएं और कुछ आसान उपाय अपनाए जाएं, तो तेज गर्मी में भी दिमाग को ठंडा रखा जा सकता है। इसलिए आज हम आपको गर्मियों में दिमाग को ठंडा रखने के उपाय बता रहे हैं।

गर्मियों में दिमाग को ठंडा रखने के उपाय

Health Tips : गर्मी की शुरुआत होते ही अक्सर लोगों का गुस्सा और चिड़चिड़ापन बढ़ने लगता है। जो शरीर के तापमान बढ़ने के साथ ही दिमाग की बढ़ती गर्मी का संकेत माना जाता है। लंबे समय तक इस स्थिति का बरकरार रहना। सेहत के लिए बेहद नुकसानदायक साबित हो सकता है। ऐसे में अगर कुछ सावधानियां बरती जाएं और कुछ आसान उपाय अपनाए जाएं, तो तेज गर्मी में भी दिमाग को ठंडा रखा जा सकता है। इसलिए आज हम आपको गर्मियों में दिमाग को ठंडा रखने के उपाय बता रहे हैं।

गर्मियों में दिमाग को ठंडा रखने के उपाय :

1. अगर आप भी गर्मी में अक्सर चिड़चिड़े और बेवजह गुस्सा करने की आदत से परेशान हैं और उसे दूर करना चाहते हैं, तो ऐसे में सबसे पहले दिन भर में 8-10 गिलास पानी का सेवन जरूर करें। इससे शरीर का तापमान सामान्य बना रहता है। बार-बार आने वाले गुस्से से भी राहत मिलती है।

2. नियमित रूप से गर्मियों में छाछ का सेवन करना बहुत फायदेमंद होता है। छाछ की तासीर ठंडी होती है। इसके साथ छाछ में विटामिन सी के अलावा कई जरूरी पौषक तत्व पाए जाते हैं। जो शरीर को अंदर से मजबूत बनाने का काम करते हैं और गुस्से, चिड़चिड़ेपन से राहत मिलती है।

3.गर्मियों में ग्रीन टी पीने भी बेहद लाभदायक होता है। आमतौर पर लोग ग्रीन टी वजन घटाने के लिए पीना पसंद करते हैं। इसके अलावा ग्रीन टी आपके मूड को अच्छा बनाती है। जिससे घबराहट, चिड़चिड़ेपन की समस्या से राहत मिलती है।

4. अगर आपको गर्मियों में दिमाग को ठंडा रखना चाहते हैं, तो ऐसे में सौंफ, इलायची जैसे मसालों का सेवन करना कारगर होता है। क्योंकि इनकी तासीर ठंडी होती है। जिससे मूड रिफ्रेश फील करता है।

5.गर्मियों में दिमाग को ठंडा रखने के लिए अक्सर फास्ट फूड और मैदा, ऑयली फूड खाने से बचना चाहिए। क्योंकि इनमें काबरेहाइड्रेट की मात्रा अधिक पाई जाती है। जो हमारे शरीर में इन्सुलिन की मात्रा को बढ़ा देता है, जिससे मूड और बिहेवियर डिस्ऑर्डर का शिकार आसानी से बन जाते हैं और तेज गर्मी या असुविधा में भयानक गुस्सा कर बैठते हैं।

Next Story
Top