Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Happy New Year 2019 : जानें क्यों मनाया जाता है नया साल, जानें इससे जुड़ी पंरपरा

यूं तो न्यू ईयर यानि नया साल (Happy New Year 2019) पूरी दुनिया में ही 31 दिसंबर की रात 12 बजे मनाया जाता है, लेकिन क्या आपने कभी न्यू ईयर मनाने की वजह पता है। इसके साथ ही क्या आप जानते हैं कि न्यू ईयर मनाने की शुरूआत कहां से हुई, और इसे मनाने की पंरपरा क्या हैं।

Happy New Year 2019 : जानें क्यों मनाया जाता है नया साल, जानें इससे जुड़ी पंरपरा
X

Happy New Year 2019

यूं तो न्यू ईयर यानि नया साल (Happy New Year 2019) पूरी दुनिया में ही 31 दिसंबर की रात 12 बजे मनाया जाता है, लेकिन क्या आपने कभी न्यू ईयर मनाने की वजह पता है। इसके साथ ही क्या आप जानते हैं कि न्यू ईयर मनाने की शुरूआत कहां से हुई, और इसे मनाने की पंरपरा क्या हैं। अगर नहीं, तो आज हम आपको न्यू ईयर (Happy New Year 2019) से जुड़ी हर जानकारी बताने वाले हैं जिनमें इसके मनाने की वजह, शुरूआत की जगह के बारे में बता रहे हैं। इसके साथ ही (New Year) पर लिए जाने वाले रेजोल्यूशन (संकल्प) के इतिहास के बारे में बताएगें।

नए साल की परंपराओं का इतिहास (New Year Traditions History)

वैसे तो पूरी दुनिया में ही 31 दिसंबर को ही New Year मनाया जाता है, और ये माना जाता है कि इस दिन यानि साल के पहले दिन से शुरू किए गए हर काम में सफलता मिलती है। 31 दिसंबर को New Year मनाने के इतिहास के बारे में बात करें, तो सबसे पहले रोमन साम्राज्य में इसकी शुरूआत हुई। 742 में रोम का दौरा करने वाले इंग्लैंड के एक मिशनरी सेंट बोनिफेस को ये जानकर हैरानी हुई कि रोम के लोग जनवरी के पहले दिन को कैसे मनाते हैं क्योंकि वो नए साल पर "गलियों में नाच रहे थे, तो कुछ गीत गा रहे थे। प्राचीन रोम में New Year छह दिनों तक मनाया जाता था। इसके बाद से ये पंरपरा इग्लैंड भी पहुंच गई और वहां के लोग भी पहली जनवरी को
New Year
मनाने लगे।
इसके अलावा (New Year) मानने का समय रोमन संस्कृति की तरह ही अलग-अलग संस्कृतियों में अलग होता है। जैसे हिंदू, चीनी संस्कृतियों में New Year चैत्र मास (Mid of March) में मनाया जाता है। तो वहीं स्कॉटलैंड में, इन दिनों में किसी भी अदालत में काम नहीं किया जाता है और आयरलैंड की परंपरा के मुताबिक यदि कोई व्यक्ति New Year के बारह दिनों के दौरान मर गया, तो वह सीधे स्वर्ग में चला जाता है।

नया साल मनाने के अनोखे तरीके (Unique Ways to Celebrate the New Year)

इसके साथ ही दुनिया के हर देश में लोग अपने आने वाले साल से जुड़ी अपनी भविष्यवाणी के बारे में जानने को उत्सुक रहते हैं। यही नहीं,
इटली
के कुछ शहरों में,लोग नए साल (New Year) से पहले की शाम पर अपने पुराने सोफे, कुर्सियां ​​और यहां तक ​​कि रेफ्रिजरेटर को अपनी खिड़कियों से बाहर निकालते हैं। इक्वाडोर में, लोग पिछले वर्ष की घटनाओं का प्रतिनिधित्व करने के लिए, पुआल से भरे डमी बनाते हैं। जिनको रात में जलाकर अपने बुरे अतीत से छुटकारा पाने की पंरपंरा प्रचलित है।
नए साल (New Year) से पहले की शाम को सभी लोग उत्सव मनाते हैं। तो वहीं, अमेरिका में जिसे प्यार करते हैं और आधी रात को उन्हें चूमते हैं, उसके साथ रात बिताने का अमेरिकी पंरपरा यह बताता है कि आने वाले साल में ये दौरान रिश्ता पनपेगा। जबकि ब्राजील के
रियो डी जनेरियो
में 31 दिसंबर को 'योरुबन' ('Yaruban') यानि "मदर ऑफ द सी " ("Mother of the Sea") के सम्मान में समुद्र पर दस लाख से अधिक लोग इकट्ठा होते हैं और एक उत्सव मनाते हैं। इसके साथ ही नए साल (New Year) के पहले दिन ब्राजील में रंग-बिरंगे अंडरवियर पहनने की पंरपंरा है,जिसके मुताबिक गुलाबी प्यार, पीला, समृद्धि लाता है और सफेद, शांति और खुशी।
जबकि कई संस्कृतियों में नए साल (New Year) की शुरूआत एक उत्सव की तरह की जाती है। नए साल (New Year) के दिन ऋणों का भुगतान करना, उधार वस्तुओं को वापस करना, किसी की कमियों को निकालने की आदत को छोड़ना झगड़े करना, भिक्षा देना जैसे कामों को करना अच्छा माना जाता है।

New Year पर रेजोल्यूशन (संकल्प) के इतिहास (New Year Resolution History)

New Year पर लिए जाने वाले रेजोल्यूशन (संकल्प) की भी शुरूआत रोम से ही हुई थी। इसके पीछे की मान्यता के मुताबिक, नए साल पर लिए गए संकल्प पूरे साल हमें आगे बढ़ने में मदद करते हैं। जिससे हम अपनी बुरी आदतों तक को भी छोड़ सकते हैं। इसलिए ही तब से पूरी दुनिया में भी धीरे-धीरे लोग New Year पर रेजोल्यूशन लेते हैं। रोम के बाद New Year पर रेजोल्यूशन (New Year Resolution) की पंरपरा मिस्र, ग्रीक और मेसोपेटामिया की संस्कृतियों में भी पाई गई।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story