Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

एक ऐसी महिला पंडित, जो बिना कन्यादान के कराती है शादी

बंगाल की ऐसी महिला पंडित है, जो कन्यादान की रस्म के बिना लड़कियों की शादी करवाती हैं। यह महिला पंडित के रूप में न सिर्फ धर्म-अनुष्ठान कराती है, बल्कि लड़कियों की बिना कन्यादान के शादी भी करती है।

एक ऐसी महिला पंडित, जो बिना कन्यादान के कराती है शादी
X

महिलाओं ने अपने दम पर हर क्षेत्र में न सिर्फ मुकाम हासिल किया है, बल्कि अपनी एक अलग पहचान बनाई है। आज हम आपको एक ऐसी महिला पंडित के बारे में बताने जा रहे हैं, जो बिना कन्यादान की रस्म के लड़कियों की शादी करवाती हैं।

अब तक आपने शादी-विवाह या धर्म-अनुष्ठान की प्रक्रिया को पूर्ण करवाते हुए पुरुष पंडित को ही देखा होगा। लेकिन एक ऐसी महिला है, जो पंडित के रूप में न सिर्फ धर्म-अनुष्ठान कराती है, बल्कि लड़कियों की बिना कन्यादान के शादी भी करती है।

जी हां, पहली महिला पंडित के रूप में अपनी अलग पहचान बनाने वाली महिला का नाम है नंदिनी भौमिक। बंगाल की रहने वाली नंदिनी पंडित की तरह हर कार्य संपन्न करवा रही हैं।

ऐसे करवाती हैं शादी

नंदिनी पुरुष पंडित की ही तरह शादी के सभी अनुष्ठान संपन्न करवाती हैं, लेकिन उनका तरीका बेहद अलग है। वह संस्कृत के कठिन श्लोकों को बंगाली और अंग्रेजी भाषा में पढ़ती हैं, जिससे दुल्हन-दूल्हा समेत बाकी लोगों को उसके मतलब समझ आएं। साथ ही जब भी वह शादी करवाती हैं, वहां बैकग्राउंड में रबींद्र संगीत बजता है। साथ ही वह कन्यादान और पिरी घोरानो जैसी रस्मों के बिना ही शादी संपन्न करवाती हैं।

पेशे से नहीं है पंडित

नंदिनी पंडितों की तरह कार्य करने वाली बंगाल की पहली महिला हैं। नंदिनी पेशे से पंडित नहीं है, बल्कि वह एक प्रोफेसर और ड्रामा आर्टिस्ट है। नंदिनी पिछले 10 सालों से ऐसी ही शादियां करवा रही हैं और अब तक 40 से ज्यादा शादियां करवा चुकी हैं।

यह भी पढ़ें: इस राशि वाले लोगों से कभी न करें प्यार, नहीं तो जिंदगी हो जाएगी बर्बाद

उनका मानना है कि 'मैं उस सोच से इत्तेफाक नहीं रखती, जहां बेटी को धन समझा जाता है और शादी के वक्त उसे दान कर दिया जाता है। लड़कियां भी लड़कों की ही तरह एक इंसान हैं, इसलिए उन्हें वस्तु की तरह नहीं समझना चाहिए।'

नंदिनी ने कोलकाता और उसके आसपास के कई इलाकों में अंतर्जातीय, अंतरधार्मिक विवाह कराएं हैं। इतना ही नहीं नंदिनी ने अपनी 2 बेटियों की शादी भी बिना कन्यादान के ही संपन्न करवाई है।

एक घंटे में करवाती हैं शादी

हिन्दू रीति-रिवाज में आमतौर पर एक शादी होने में सारी रात लग जाती है, लेकिन नंदिनी एक घंटे में ही शादी संपन्न करवा देती हैं। इस बारे में नंदिनी का कहना है कि 'मैं कन्यादान नहीं करवाती हूं और यही कारण है कि काफी समय बच जाता है। साथ ही मुझे यह परंपरा काफी पिछड़े सोच की भी लगती है।'

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

और पढ़ें
Next Story