Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जानें सर्दियों में बच्चों की स्किन का कैसे रखें ख्याल

सर्दियों में आमतौर पर शिशुओं को ठंड से बचाने के लिए गर्म कपड़ों में लपेटकर रखा जाता है, ऐसे में अगर उन्हें सप्ताह में 2-3 के दिन के अंतराल में नहलाएं। नहलाने से पहले शरीर पर अच्छी क्वॉलिटी के तेल की मसाज करें। इससे त्वचा अंदरुनी रुप से मॉश्चराइज होती है और शरीर को गर्माहट मिलती है, साथ ही शरीर में ब्लड सर्कुलेशन भी बेहतर होता है।

जानें सर्दियों में बच्चों की स्किन का कैसे रखें ख्याल
X

Winter Skin Care For Babies : बच्चों की त्वचा बड़ों की तुलना में बहुत ज्यादा नाजुक होती है ऐसे में उन्हें एक्स्ट्रा केयर की जरुरत होती है। खासकर सर्दी के मौसम में ठंडी हवाओं से बचाने के लिए गर्म कपड़े पहनाना एक अच्छा ऑप्शन है, लेकिन इससे त्वचा की नमी को बरकरार नहीं रखा जा सकता है। ऐसे में आज हम आपको बच्चों की त्वचा को सर्दी में भी सॉफ्ट और मॉश्चराइज रखने के टिप्स बता रहे हैं।

कम से कम नहलाएं

सर्दियों में आमतौर पर शिशुओं को ठंड से बचाने के लिए गर्म कपड़ों में लपेटकर रखा जाता है, ऐसे में अगर उन्हें सप्ताह में 2-3 के दिन के अंतराल में नहलाएं। नहलाने से पहले शरीर पर अच्छी क्वॉलिटी के तेल की मसाज करें। इससे त्वचा अंदरुनी रुप से मॉश्चराइज होती है और शरीर को गर्माहट मिलती है, साथ ही शरीर में ब्लड सर्कुलेशन भी बेहतर होता है। आप शिशु या बच्चे को नहलाते समय गुनगुने पानी का ही इस्तेमाल करें, क्योंकि तेज गर्म से बच्चे की स्किन जलने का खतरा रहता है साथ ही त्वचा मे मौजूद तेल में कमी आती है।

हर्बल साबुन का करें इस्तेमाल

अगर आप बच्चे की स्किन को साफ और सॉफ्ट बनाना चाहती हैं, तो ऐसे में हमेशा बिना खुशबू वाला एक हर्बल साबुन या क्लींजर का यूज करें। इसके बाद बच्चे के शरीर को रगड़कर सुखाने से बचें और हल्के हाथ से थपथपाते हुए सुखाएं। इससे त्वचा पर रेशेस नहीं आएंगें।

Also Read: जी हो जाएगी दिवाली शॉपिंग

नेचुरल चीजों से करें हाइड्रेट

छोटे शिशुओं की त्वचा को सर्दियों में हाइड्रेट रखने का सबसे आसान तरीका मां का दूध पिलाना। अगर आपका बच्चा 6 महीने से बड़ा है, तो उसे दूध के अलावा पानी और अन्य फलों के रस का सेवन दिन में जरुर करवाएं। इसके अलावा अगर दांत निकलने या बीमारी की वजह से त्वचा में रुखापन आ रहा है, तो शरीर में पानी की कमी को पूरा करने के लिए ओरआरएस (ORS) का घोल दिन में 2-3 बार पिलाएं।


Next Story