Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बीमारियों के बावजूद बढ़ी लोगों की उम्र, मौत को मात दें रहे हैं लोग- जानिए कैसे?

पिछले करीब ढ़ाई दशक में दुनियाभर में लोगों के जीने की औसतन आयु में करीब साढ़े सात साल का इजाफा सामने आया है।

बीमारियों के बावजूद बढ़ी लोगों की उम्र, मौत को मात दें रहे हैं लोग- जानिए कैसे?
X
नई दिल्ली. इस आधुनिकता के युग में बढ़ती जरूरतों के साथ लोगों के गले लगती नई-नई बीमारियों के बावजूद पिछले करीब ढ़ाई दशक में दुनियाभर में लोगों के जीने की औसतन आयु में करीब साढ़े सात साल का इजाफा सामने आया है। खासकर भारत में अन्य देशों के मुकाबले ज्यादा जीवन प्रत्याशा वृद्धि देखने को मिली है।
अमेरिका की मनुष्यों पर शोध करने वाली एजेंसी की हाल ही में जारी एक रिपोर्ट ने भारत के लोगों को जीवन जीने की शैली का यह संदेश देकर सबक दिया है कि इस शोध में सबसे ज्यादा जीवन प्रत्याशा में वृद्धि करने वाला भारत सबसे आगे हैं, जहां वर्ष 1990 के मुकाबले 2014 तक पुरुषों की औसत आयु में 7.6 साल और महिलाओं की औसत आयु में 10.6 साल की जीवन प्रत्याशा बढ़ी है। हालांकि वर्ष 2013 तक यह क्रमश: सात व 10 साल थी।
रिपोर्ट में शोधकर्ताओं ने एक दुखद पहलू यह भी पाया है कि भारत में आत्महत्या के मामलों में बेहताशा बढ़ोत्तरी हुई है। मसलन दुनिया भर में आत्महत्या के कुल मामलों में से 50 प्रतिशत भारत और फिर चीन में सामने आ रहे हैं। इस रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया में जहां 1990 में लोगों की औसत आयु 65.3 साल थी, वहीं 2014 में यह बढ़कर करीब औसतन 73 से भी अधिक हो गई है, जो वर्ष 2013 में 72.5 साल थी। अमेरिकी शोधकर्ताओं के मुताबिक लीवर कैंसर और गुर्दे की भयानक बीमारियों के बढ़ने के बावजूद दुनिया भर में लोगों की इस औसत आयु में बढ़ोतरी होती जा रही है। इन करीब ढाई दशक के बीच दुनिया भर में लोगों की आयु में करीब 7.5 साल की औसत उम्र बढ़ी हैं, जिसमें पुरुषों की जीवन प्रत्याशा औसतन 6.8 साल जबकि महिलाओं की जीवन प्रत्याशा 7.6 साल बढ़ गई है। वर्ष 2013 के मुकाबले यह एक साल और बढ़ी है। शोधकर्ताओं ने इस
औसत आयु
के बढ़ने के पीछे तर्क दिया है कि बीमारियों के प्रति जागरूता के कारण कैंसर और एड्स जैसी लाइलाज बीमारियों से मरने वालों की संख्या तेजी से कम हुई है।
इस शोध रिपोर्ट में यह भी पाया गया है कि कई जानलेवा बीमारियों से मौत के मामलों में बढ़ोतरी भी हुई है, जैसे हिपेटाइटिस सी के कारण होने वाला लीवर कैंसर 1990 के मुकाबले अब तक 125 फीसदी बढ़ चुका है। इसके अलावा किडनी की समस्याओं में 37 फीसदी वृद्दि हुई है, डायबिटीज 9 फीसदी और आंतों के कैंसर के मामले 7 फीसदी बढ़े हैं। बीमारियों के वैश्विक बोझ के बारे में शोध रिपोर्ट में पाया गया कि कम आमदनी वाले देशों जैसे नेपाल, रवांडा, इथियोपिया, नाइजीरिया, मालदीव और ईरान में पिछले 24 सालों में इन भयानक बीमारियों ने खूब पैर पसारे हैं।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, खास बातें -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story