Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अब ATTRACTIVE फिगर पाना हुआ आसान, जानिए कैसे मिलेगी PERFECT शेप

टाइप्स- स्ट्रेचिंग कई प्रकार की होती है, जिनमें प्रमुख हैं, स्टेटिक और डायनेमिक स्ट्रेचिंग। स्टेटिक स्ट्रेचिंग में धीमी गति में बॉडी को स्ट्रेच किया जाता है। इसमें हम जिस लेवल तक अपनी बॉडी को स्ट्रेच कर सकते हैं, उतना करते हैं। यह स्ट्रेचिंग बहुत आसान होती है। इस तरह की स्ट्रेचिंग स्कूलों में स्टूडेंट्स को कराई जाती है। इसको करने से चोट से बचाव होता है और परफॉर्मेंस बेहतर होती है। डायनेमिक स्ट्रेचिंग थोड़ी स्पेसिफिक होती है। इसके जरिए शरीर के कुछ विशेष अंगों, खासकर हाथ और पैर के मसल्स और नर्व्स को स्ट्रेच किया जाता है। इसमें स्ट्रेच की स्पीड और मूवमेंट काफी इंपॉर्टेंट होते हैं। इसकी स्पीड तेज होती है।

Next Story