Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

सिद्धार्थ क्यों बन गया ज्योति ताई - रवि दुबे

जीटीवी के सीरियल ‘जमाई राजा’ में सिद्धार्थ की भूमिका से लोगों की ज्यादा नजर में आए हैं।

सिद्धार्थ क्यों बन गया ज्योति ताई - रवि दुबे
मुंबई. जीटीवी के सीरियल ‘जमाई राजा’ में सिद्धार्थ की भूमिका निभा रहे रवि दुबे इन दिनों एक फीमेल कैरेक्टर ज्योति ताई के गेटअप में नजर आ रहे हैं। सीरियल में कौन सी ऐसी सिचुएशन आ गई, जो उन्हें फीमेल गेटअप में आना पड़ा? रवि के लिए फीमेल कैरेक्टर निभाना कितना चैलेंजिंग है? साथ ही जीटीवी के ही एक और शो ‘इंडियाज बेस्ट ड्रामेबाज’ सीजन टू को उनके लिए होस्ट करना कितना आसान है? कैसे मैनेज कर लेते हैं रवि एकसाथ दोनों शोज?
नया ट्विस्ट का चुका है जीटीवी के सीरियल ‘जमाई राजा’ में। सीरियल में सिद्धार्थ का लीड रोल कर रहे रवि दुबे आजकल फीमेल कैरेक्टर ज्योति ताई के गेटअप में नजर आ रहे हैं। रवि किसलिए एक फीमेल गेटअप में ज्योति ताई बने, पूछने पर वह बताते हैं, ‘सीरियल में मेरा ज्योति ताई बनने का एक मकसद है। दरअसल, सिद्धार्थ यानी मेरे कैरेक्टर की वाइफ रोशनी की मेमोरी लॉस हो गई है, वह सबकुछ भूल चुकी है, सिद्धार्थ को भी भूल गई है।
साथ ही एक दबंग फैमिली का दावा है कि रोशनी उनके बेटे की पत्नी है, क्योंकि दोनों की शादी बचपन में हो गई थी। आजकल रोशनी इसी परिवार की देख-रेख में रह रही है। ऐसे में सिद्धार्थ, रोशनी के सामने नहीं आ सकता है। इसलिए वह ज्योति ताई बनकर अपनी पत्नी की देखभाल करना चाहता है, उसके पास रहने के लिए आता है। जहां तक ज्योति ताई के कैरेक्टर की बात है, तो यह एक उम्रदराज मराठी महिला है। इस किरदार के लिए मुझे मराठी टोन को अपने डायलॉग बोलना होता है। यह काफी मुश्किल काम है।’
अकसर मेल एक्टर जब फीमेल कैरेक्टर निभाते हैं, तो वह लाउड हो जाते हैं, लेकिन ज्योति ताई का कैरेक्टर काफी सिंपल है, वह धीमे बोलती हैं, बड़ी ही समझदारी वाली बातें करती हैं। किरदार को ऐसा रखने की वजह रवि बताते हैं, ‘दरअसल, यह एक सीरियस कैरेक्टर है, इसलिए उसे लाउड रखने का सवाल ही नहीं उठता है। इस कैरेक्टर के लिए कुछ बातें मैंने अपनी मम्मी से ली हैं, वह भी बहुत सिंपल रहती हैं, बहुत ही प्यार से और धीमे बोलती हैं।’
आज तक कई फिल्म एक्टर्स ने फी-मेल कैरेक्टर अलग-अलग अंदाज में निभाए हैं। रवि को इन सभी एक्टर्स के निभाए कैरेक्टर्स पसंद हंै। वह कहते हैं, ‘कमल हासन हों या गोविंदा या हॉलीवुड के रॉबिन विलियम्स हों, इन सभी ने महिला किरदारों को खास अंदाज में निभाया है। हर एक्टर अपने लेवल पर कैरेक्टर को इंप्रोवाइज भी करता है। मैं भी पूरी कोशिश कर रहा हूं कि मेरा किरदार बिलकुल रियल-नेचुरल लगे। यह मेरे लिए किसी चैलेंज से कम नहीं है।’
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top