Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Simran Kaur Interview : आप वॉयसओवर आर्टिस्ट हैं, एक्टिंग भी करती हैं, दोनों में से क्या ज्यादा टफ है?

टीवी वर्ल्ड में अब डिफरेंट कॉन्सेप्ट पर फोकस किया जा रहा है। हाल ही में शुरू हुए सीरियल ‘अघोरी’ में एक साधारण लड़की और एक अघोरी की कहानी दिखाई जा रही है। इसमें मेन फीमेल लीड सिमरन कौर निभा रही हैं। वह सीरियल ‘अघोरी’ के कॉन्सेप्ट को कैसे देखती हैं? सीरिनयर एक्टर गौरव चोपड़ा के साथ केमिस्ट्री कैसी है? टीवी के बाद क्या फिल्में भी करना चाहेंगी सिमरन कौर?

नोबिता के कैरेक्टर को आवाज देने वाली सिमरन दिखेंगी इस मशहूर सीरियल में, जानें उनका अबतक का सफरSimran Kaur interview Simran leads the lead role in the new serial Aghori

सिमरन कौर, टीनएज से कार्टून कैरेक्टर डोरेमोन पर बेस्ड शो में नोबिता के कैरेक्टर को अपनी आवाज देती आ रही हैं। वह फेमस वॉयस ओवर आर्टिस्ट हैं। साथ ही कई टीवी सीरियलों में भी सिमरन एक्टिंग कर चुकी हैं। वह 'ना आना इस देस लाडो', 'अनामिका', 'खिड़की' में अलग-अलग तरह के किरदार निभा चुकी हैं। हाल ही में जीटीवी पर शुरू हुए नए सीरियल 'अघोरी' में सिमरन लीड रोल निभा रही हैं। इस सीरियल के कॉन्सेप्ट को वह काफी नया और अलग मानती हैं। पेश है, सिमरन कौर से हुई बातचीत के चुनिंदा अंश-

आपके सीरियल 'अघोरी' की कहानी क्या है?

मैं इसमें कामाक्षी का किरदार निभा रही हूं, जिसे अदविक से प्यार हो जाता है। लेकिन वह इस बात को नहीं जानती है कि अदविक एक अघोरी है। जब उसे इस बारे में पता चलेगा तो क्या होगा? यह देखने के लिए दर्शकों को सीरियल देखना होगा। सीरियल का कॉन्सेप्ट बहुत अलग है।

आपके इस सीरियल में क्या अघोरी साधुओं की सच्चाई को भी पेश किया जाएगा?

हमने पढ़ा या सुना है कि अघोरी तंत्र विद्या और तपस्या करके कई सारी शक्तियां हासिल करते हैं। वह महाकाल के उपासक होते हैं। लेकिन हम सीरियल में अघोरियों के बारे में थोड़ा बहुत बता रहे हैं। बेसिकली हम सीरियल में एक अघोरी और एक सामान्य लड़की की लव स्टोरी दिखा रहे हैं। दर्शकों लिए यह कॉन्सेप्ट अलग तरह का होगा।

अपने किरदार कामाक्षी से आप कितना रिलेट करती हैं?

काफी सारी बातें मुझमें और कामाक्षी में कॉमन हैं। हम दोनों ही शांत स्वभाव के हैं। जब फन टाइम होता है तो हम दोनों ही खूब मस्ती करते हैं। मेरा और कामाक्षी का सच्चे प्यार में विश्वास है। जितनी पॉजिटिव कामाक्षी है, उतनी ही रियल लाइफ में मैं भी पॉजिटिव हूं। इस तरह मैं अपने रोल से बहुत रिलेट करती हूं।

क्या आप असल जिंदगी में अघोरी और तंत्र जैसी बातों में विश्वास करती हैं?

भूतों के बारे में मैं कुछ नहीं बोल सकती हूं, क्योंकि उनको कभी देखा नहीं। लेकिन अघोरी साधुओं को तो देखा है, हमसे से कई लोगों ने। मैंने भी इनके बारे में सुना है। उनका जीवन कैसा होता है? उनके जीवन का क्या मकसद है? इसकी झलक दर्शकों को सीरियल में देखने को मिलेगी। इन बातों पर मुझे कहीं न कहीं थोड़ा बहुत विश्वास है।

सीरियल 'अघोरी' तक पहुंचने, सशक्त किरदार निभाने तक का सफर कैसा रहा?

हां, बहुत संघर्ष किया है। मैं दस साल की उम्र से स्ट्रगल कर रही हूं। सीरियल 'अघोरी' से पहले काफी हार्डवर्क करना पड़ा। पहले मैं वॉयसओवर के लिए ऑडिशन देती थी। उसके बाद मुझे ऑल इंडिया रेडियो में वॉयसओवर का काम मिला। फिर मैंने बच्चों के फेवरेट काटॅून 'डोरेमोन' में नोबिता के कैरेक्टर की आवाज दी। मैं 12 साल की उम्र से नोबिता को आवाज दे रही हूं। नोबिता का कैरेक्टर मेरे लाइफ का इंपॉर्टेंट हिस्सा है। इसके बाद मैंने एक्टिंग के लिए स्ट्रगल किया। 2009 में मुझे पहला सीरियल मिला, इसके बाद मैंने कई सीरियलों में काम किया।

सीरियल 'अघोरी' में आप सीनियर एक्टर गौरव चोपड़ा के साथ काम कर रही हैं, उनके साथ वर्किंग एक्सपीरियंस कैसे रहे?

गौरव सीनियर एक्टर जरूर हैं लेकिन उससे पहले अच्छे और मिलनसार इंसान भी हैं। उनका बिहेवियर इतना दोस्ताना है कि स्क्रीन पर हमारी केमिस्ट्री नेचुरल लग रही है। गौरव के साथ एक्टिंग करना आसान रहता है, पता ही नहीं चलता है कि एक सीन कब खत्म हुआ और दूसरा कब शुरू हुआ। उनसे मुझे एक्टिंग से जुड़ी बारिकियां सीखने को भी मिली।

आप वॉयसओवर आर्टिस्ट हैं, एक्टिंग भी करती हैं, दोनों में से क्या ज्यादा टफ है?

मेरे लिए दोनों ही काम आसान है। मैं वॉयसओवर को एंज्वॉय करती हूं और एक्टिंग मेरा पैशन है। जब वॉयसओवर करती हूं तो भी हाव-भाव दिखाने पड़ते हैं। जब एक्टिंग करती हूं तो हाव-भाव के साथ आवाज का भी पूरा ध्यान रखना पड़ता है। इस तरह दोनों कामों में बराबर मेहनत लगती है।

क्या आपका अगला कदम फिल्मों की तरफ होगा?

फिल्मों में काम करना हर कलाकार का सपना होता है। अगर फिल्मों में मुझे कोई दमदार रोल ऑफर होगा तो मैं जरूर करना चाहूंगी।


प्रस्तुति - आरती सक्सेना

Next Story
Top