Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राज़ी रिव्यू: अक्षय कुमार पर भारी है आलिया का देश प्रेम

आलिया भट्ट फिल्म राज़ी (रिटायर्ड) एल.टी कमांडर और हरिंदर एस सिक्का की नोवल सहमत पर बेस्ड है। यह नोवल एक कश्मीरी लड़की की कहानी को दर्शाता है, जो सिख- मुस्लिम परिवार से तालुख रखती है, और उसकी शादी पाकिस्तान के बड़े औदे की मिलिट्री परिवार में भारत के लिए जासूस बनने के लिए की जाती है।

राज़ी रिव्यू: अक्षय कुमार पर भारी है आलिया का देश प्रेम

बॉलीवुड ने हमें कई ऐसी फिल्में दी जो वतन और मुल्क पर बनाई गई थी। जी हां, हम बात कर रहे हैं भारत और पाकिस्तान की। हिन्दी सिनेमा की सबसे मशहूर फिल्म ‘गदर एक प्रेम कथा’, ‘वीर-जारा’ समेत कई फ़िल्में हैं जनके बारे में तो आपने सुना ही होगा। ये वही हिन्दी सिनेमा की सूपरहिट फिल्में हैं, जिसमें भारत-पाकिस्तान की दुश्मनी को दर्शाया गया है। वहीं एक बार फिर बॉलीवुड के मशहूर निर्माता करण जौहर आप सबके लिए लाए हैं, एक ऐसी फिल्म जिसे देखने के बाद आपका नजरिया भारत-पाकिस्तान को लेकर बदल जाएगा। भारत-पाकिस्तान की दुशमनी दिखाते हुए, यह फिल्म कुछ अलग नजरिए से बनाई गई है।

राज़ी फिल्म की कहानी

आलिया भट्ट फिल्म राज़ी (रिटायर्ड) एल.टी कमांडर और हरिंदर एस सिक्का की नोवल सहमत पर बेस्ड है। यह नोवल एक कश्मीरी लड़की की कहानी को दर्शाता है, जो सिख- मुस्लिम परिवार से तालुख रखती है, और उसकी शादी पाकिस्तान के बड़े औदे की मिलिट्री परिवार में भारत के लिए जासूस बनने के लिए की जाती है।

राजी 1971 की एक सच्ची कहानी है, जिसमें इंडियन नेवी की भी कहानी बताई गई है। इस फिल्म में उन दो परिवारों को दर्शाया गया है, जो एक समय में एक ही मुल्क का हिस्सा हुआ करते थे, लेकिन आज वो वतन और मुल्क के हिस्से में बंट चुके हैं।

लेकिन फिर भी उनके मन में आज भी अपने वतन के लिए प्रेम और एक दूसरे के लिए दोस्ती की दस्तक है। वहीं यह कहानी एक नया मोड़ लेती है। जहां सहमत के पिता (रजीत कपूर) और ससुर की कॉलेज की दोस्ती रिशतेदारी में बदल जाती है। जहां सहमत यानी की आलिया भट्ट की शादी पाकिस्तान के परिवार में होती है।

एक भारतीय होने के नाते सहमत यानी आलिया भट्ट को घर पर, बाहर कई मुशकिलों का सामना भी करना पड़ता है। वहीं दूसरी तरफ सहमत का हल्का परदा परिवार के लिए परेशानी की वजह बन जाता है, जिससे वह आसानी से भारत में पाकिस्तान की खूफीयां बातें पहुचाती थी।

फिल्म की निर्देशक मेघना गुलजार ने इस फिलम को बहुत ही खूबसूरती से दर्शाया है। फिल्म में सभी किरदारों ने बखूबी अपने-अपने काम को दर्शाया है। जिस वजह से यह फिल्म सफलता के कदम चूम रही है।

Next Story
Top