Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मैं आशिक मिजाज बिल्कुल नहीं हूँ: अंथर हबीब

अथर हबीब के एक्टिंग करियर की शुरुआत जी टीवी के सीरियल ‘चलती का नाम गाड़ी’ से हुई

मैं आशिक मिजाज बिल्कुल नहीं हूँ: अंथर हबीब

अभी तक सीरियस रोल करते रहे अथर हबीब इन दिनों कॉमेडी करते नजर आ रहे हैं। रोमांटिक कॉमेडी सीरियल ‘वो तेरी भाभी है पगले’ में वह एक ऐसी हसीना के दीवाने बने हैं, जिसका कोई और भी दीवाना है। सीरियल के कैरेक्टर से हबीब अपने आपको कितना रिलेट करते हैं? अगर रियल लाइफ में एक हसीना के दो दीवाने हो जाएं तो ऐसी सिचुएशन में क्या करना चाहिए? दिलचस्प बातचीत अथर हबीब से।

इसे भी पढ़ें- ‘फितूर’ में रियलिस्टिक-फैंटेसी के बीच की दुनिया है: अभिषेक कपूर

अथर हबीब के एक्टिंग करियर की शुरुआत जी टीवी के सीरियल ‘चलती का नाम गाड़ी’ से हुई। वैसे उन्हें पहचान मिली स्टार प्लस के शो ‘ये रिश्ता क्या कहलाता है’ से। पांच साल तक शौर्य का कैरेक्टर निभाने के बाद जब उनका मन ऊब गया तो सीरियल छोड़ दिया। हबीब कुछ पंजाबी फिल्में भी कर चुके हैं। इन दिनों वह सब टीवी के कॉमेडी सीरियल ‘वो तेरी भाभी है पगले’ में नजर आ रहे हैं। सीरियल की कहानी में एक लड़की दीया के दो दीवाने हैं, ऐसे में कॉमेडी क्रिएट होती है। सीरियल कैरेक्टर और करियर से जुड़े सवाल अथर हबीब से।

अभी तक आप सीरियस रोल में नजर आते थे, क्या सोचकर कॉमेडी रोल करने लगे?

हर एक्टर की ख्वाहिश होती है कि वो अलग-अलग कैरेक्टर निभाए और पुरानी इमेज को ब्रेक करे।

कॉमेडी के लिए आपने ‘वो तेरी भाभी है पगले’ को ही क्यों चुना?

इस सीरियल में मेरे लिए लीक से हटकर करने को बहुत कुछ था, इसलिए मैं इसका हिस्सा बन गया।

शो में आप एक आशिक मिजाज डॉक्टर के रोल में हैं, कितना चैलेंजिंग है यह रोल निभाना?

चैलेंजिंग तो नहीं कहूंगा, क्योंकि मैं इस कैरेक्टर को बहुत मजे लेकर निभा रहा हूं। मेरा मानना है, मैं एक्टर हूं और एक्टिंग करना मेरा काम है। अगर मुझे कॉमेडी नहीं आती, रोमांस करना नहीं आता, तो किस बात का एक्टर हूं। एक्टिंग करने के लिए ही तो मैं बना हूं।

अपने कैरेक्टर से खुद को किस तरह रिलेट करते हैं आप?

इस कैरेक्टर को मैं खुद से रिलेट नहीं करता हूं। अपने कैरेक्टर रणबीर की तरह मैं आशिक मिजाज बिल्कुल नहीं हूं। लेकिन मैं इस कैरेक्टर का मुखौटा पहनने में कुछ हद तक कामयाब हो गया हूं।

सीरियल में आप एक ऐसी लड़की के दीवने हैं, जिसका एक और दीवाना भी है। क्या कभी आपको अपनी रियल लाइफ में ऐसी सिचुएशन से दो-चार होना पड़ा है?

नहीं ऐसी सिचुएशन में अभी तक नहीं पड़ा हूं। मैं शुरू से ही मां का लाडला रहा हूं। स्कूल-कॉलेज करने के बाद मैं एक्टिंग करने के लिए सीधे मुंबई आ गया। एक्चुअली इन सब चीजों के लिए मुझे वक्त ही नहीं मिला।

वो तेरी भाभी है पगले’ अन्य कॉमेडी सीरियल्स से किस तरह अलग है?

सबसे पहले तो इसका कॉन्सेप्ट बहुत अच्छा है। ऐसा नहीं है कि यह सिर्फ यंगस्टर्स के लिए है। बच्चे भी इसे बहुत चाव से देखते हैं। एक्चुअली, हमारे शो में टॉम एंड जैरी वाली सिचुएशन क्रिएट होती है, जो हर किसी को गुदगुदाती है।

शो में को-स्टार्स कृष्णा गोकानी के बारे में आप क्या कहेंगे?

कृष्णा बहुत अच्छी एक्ट्रेस हैं। इस शो में वो डॉक्टर दीया का रोल बखूबी निभा रही हैं। उनके साथ मेरी और अली असगर की केमिस्ट्री बहुत अच्छी चल रही है।

आखिर इस शो में दीया का कौन बनेगा पिया?

यह हम बता देंगे तो शो का सस्पेंस और मजा ही चला जाएगा। इसके लिए ऑडियंस को शो लगातार आखिर तक देखना पड़ेगा।

और अली असगर के बारे में क्या कहेंगे?

अली भाई मुझ से बहुत सीनियर हैं। काम और उम्र में भी मैं उनसे बहुत छोटा हूं। उनकी कॉमिक टाइमिंग बहुत जबरदस्त है। मैं ऑन स्क्रीन उनका राइवल हूं लेकिन ऑफ स्क्रीन हमारे संबंध भाइयों जैसे हैं।

एक हसीना, दो दीवाने हों तो ऐसी सिचुएशन में हसीना का दिल जीतने के लिए लड़के को क्या करना चाहिए?

मुझे लगता है कि ऐसी सिचुएशन में लड़के को सबसे पहले लड़की के नेचर को समझना चाहिए। दो दीवाने हैं तो दूसरे लड़के से आपको बढ़कर ही होना चाहिए। लेकिन मेरा मानना है कि लड़के को अपनी ईमानदारी नहीं छोड़नी चाहिए। वो जो है, वही दिखना चाहिए। सच्चाई के साथ निभाए गए रिश्ते हमेशा मजबूत और टिकाऊ होते हैं।

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top