Logo
election banner
Rohit Sharma statement: रोहित शर्मा ने रांची टेस्ट में मिली जीत के बाद ये साफ कर दिया है कि हम उन्हीं खिलाड़ियों को मौका देंगे, जिनमें जीत की और बेहतर प्रदर्शन करने की भूख होगी।

नई दिल्ली। इंग्लैंड को रांची टेस्ट में रौंदने के बाद भारतीय कप्तान रोहित शर्मा ने युवा खिलाड़ियों को साफ संदेश दिया है। उन्होंने मैच के बाद हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में साफ कर दिया कि अगर टीम इंडिया में जगह बनानी है तो फिर कड़ी मेहनत करनी होगी और पूरा समर्पण दिखाना होगा। रोहित ने इस बात पर जोर दिया कि टीम इंडिया में उन्हीं खिलाड़ियों को जगह मिलेगी जिनमें सफल होने और जीतने की भूख होगी। 

बता दें कि भारत ने रांची टेस्ट में इंग्लैंड को पांच विकेट से हराया। ये भारत की घर में लगातार 17वीं सीरीज जीत है। भारत की इस सीरीज में युवा खिलाड़ियों का बड़ा हाथ रहा। सरफराज खान, ध्रुव जुरेल, यशस्वी जायसवाल और आकाश दीप ने मिले मौकों को पूरी तरह भुनाया। रोहित ने युवा खिलाड़ियों के प्रदर्शन पर संतोष जताया। 

जिसमें जीतने की भूख नहीं, वो बाहर होगा: रोहित
रोहित ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, जिन लोगों को भूख है, हम उन्हीं लोगों को टीम में मौका देंगे। इससे ये साफ हो गया है कि भारतीय टीम मैनेजमेंट उन खिलाड़ियों के नाम पर शायद ही विचार करेगा, जो बेहतर प्रदर्शन के लिए जी-जान लगाने को तैयार नहीं है। 

रोहित ने ईशान-श्रेयस पर निशाना साधा
रोहित ने आगे कहा, "अगर खिलाड़ी में अच्छे प्रदर्शन की भूख ही नहीं तो फिर उनको खिलाने को कोई मतलब नहीं।" रोहित के इस बयान को इससे भी जोड़कर देखा जा सकता है कि बीसीसीआई ने हाल ही में ईशान किशन और श्रेयस अय्यर जैसे खिलाड़ियों को रणजी ट्रॉफी में हिस्सा लेने के निर्देश दिए थे। हालांकि, दोनों खिलाड़ियों ने बीसीसीआई के इस निर्देश को अनसुना कर दिया और इस पर अमल नहीं किया। ऐसे में इन दोनों के लिए वापसी की राह अब आसान नहीं होगी। 

'टेस्ट क्रिकेट में मौके कम मिलते हैं'
भारतीय कप्तान ने जोर देकर कहा कि मैंने टीम इंडिया में किसी खिलाड़ी को ऐसा नहीं देखा, जिसमें बेहतर प्रदर्शन करने की भूख न हो। सभी युवा खिलाड़ी जो टीम में हैं, वो अच्छा करना चाहते हैं। लेकिन टेस्ट क्रिकेट के साथ बात यह है कि आपको बहुत कम मौके मिलते हैं। अगर आप उन्हें भुना नहीं पाए तो फिर वो हाथ से निकल जाते हैं। 

'किसको अच्छे प्रदर्शन की भूख नहीं ये पता चल जाता है'
यह पूछे जाने पर कि क्या आईपीएल या दूसरी टी20 लीग युवा खिलाड़ियों के टेस्ट में खेलने की जुनून को प्रभावित कर रही। इस पर रोहित ने कहा, "टेस्ट क्रिकेट सबसे कठिन प्रारूप है। अगर आप इस प्रारूप में उत्कृष्टता हासिल करना चाहते हैं और सफलता हासिल करना चाहते हैं, तो आपको भूख दिखानी होगी।

बिना किसी का नाम लिए रोहित ने टीम प्रबंधन द्वारा सेलेक्शन के लिए तय किए कड़े पैमानों की ओर इशारा करते हुए कहा, ये पता चल जाता है कि किसको भूख नहीं है और किन लोगों को यहां पर रहना नहीं है। जिन खिलाड़ियों को भूख है, मुश्किल कंडीशंस में खेलना है, उन लोगों को तरजीह दी जाएगी। ये बिल्कुल आसान सी बात है।  

jindal steel Ad
5379487