Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

बोल्ट, फेल्प्स की विदाई से सूना पड़ जाएगा ओलंपिक

30 साल के बोल्ट ने नौ जबकि 31 साल के फेल्प्स ने 23 स्वर्ण पदक जीते हैं

बोल्ट, फेल्प्स की विदाई से सूना पड़ जाएगा ओलंपिक

रियो डि जिनेरियो. फर्राटा किंग उसेन बोल्ट और महान तैराक माइकल फेल्प्स के ढेरों ओलंपिक स्वर्ण पदकों ने ओलंपिक का पूरा परिदृश्य बदल दिया और खेलों के महाकुंभ में उनकी आखिरी भागीदारी के बाद ओलंपिक में एक बड़ा सूनापन आ जाएगा।

अंतराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के प्रमुख थॉमस बाक ने दोनों खिलाड़ियों को महानायक बताया है लेकिन 31वें ओलंपिक खेल खत्म होने के बाद वह सोचेंगे कि इस सूनेपन को कैसा भरा जाए। 30 साल के बोल्ट ने नौ जबकि 31 साल के फेल्प्स ने 23 स्वर्ण पदक जीते हैं। बाक ने कहा, हमने ऐसे खिलाड़ी देखे हैं जो यहां आने से पहले ही महानायक बन गए थे, जिन्होंने महानायकों के तौर पर अपनी स्थिति मजबूत की जैसे कि माइकल फेल्प्स और उसेन बोल्ट।
दोनों ने ओलंपिक में पहली बार हिस्सा लेने के बाद से लगातार अपना प्रदर्शन बेहतर किया। 15 साल के फेल्प्स ने पहली बार 2000 के सिडनी ओलंपिक में 200 मीटर में हिस्सा लिया था जबकि 17 साल के बोल्ट 2004 के एथेंस ओलंपिक में 200 मीटर की अपनी हीट में पांचवें स्थान पर रहे थे। लेकिन एथेंस ओलंपिक में फेल्प्स ने जबरदस्त प्रदर्शन करते हुए छह स्वर्ण एवं दो कांस्य पदक जीतकर मार्क स्प्ट्जि के सात खिताबों के रिकार्ड को चुनौती दी थी।
सिद्ध की महानता
2008 के बीजिंग ओलंपिक में उन्होंने तैराकी की अपनी सभी आठ प्रतिस्पर्धाओं में आठ स्वर्ण जीतकर इतिहास रच दिया जबकि बोल्ट ने वहां 100 मीटर, 200 मीटर और चार गुणा 100 मीटर दौड़ स्पर्धाओं में स्वर्ण जीतकर बर्डस नेस्ट स्टेडियम में दर्शकों को अपना दीवाना बना दिया।
2012 के लंदन ओलंपिक में बोल्ट ने फिर से तीनों स्पर्धाओं में स्वर्ण पदक जीता जबकि फेल्प्स ने अपने खाते में चार और स्वर्ण जोड़े। रियो में पांच स्वर्ण जीतकर अमेरिकी तैराक ने 23 स्वर्ण सहित अपने पदकों की कुल संख्या 28 कर ली जबकि बोल्ट ने फिर से तीन स्पर्धाओं का स्वर्ण जीत लिया। बोल्ट के नाम नौ ओलंपिक स्वर्ण हैं।
खास बातें
-फर्राटा किंग और महान तैराक ने ओलंपिक का पूरा परिदृश्य बदल दिया
-30 साल के बोल्ट ने नौ जबकि 31 साल के फेल्प्स ने 23 स्वर्ण पदक जीते हैं
-अंतराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के प्रमुख थॉमस बाक ने दोनों खिलाड़ियों को बताया महानायक
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top