Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

महाराष्ट्र में बन सकती है कांग्रेस-शिवसेना गठबंधन सरकार, पुणे में लगाए गए पोस्टरों से तेज हुई अटकलें

महाराष्ट्र में पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और उद्धव ठाकरे की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद कांग्रेस और शिवसेना गठबंधन सरकार बनने की अटकलें तेज हो गई हैं। महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे, सोनिया गांधी और शरद पवार के पोस्टर भी लग गए हैं।

महाराष्ट्र में बन सकती है कांग्रेस-शिवसेना गठबंधन सरकार, पुणे में लगाए गए पोस्टरों से तेज हुई अटकलेंशिवसेना प्रमुख उद्धाव ठाकरे, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, एनसीपी प्रमुख शरद पवार के महाराष्ट्र में लगे पोस्टर

महाराष्ट्र (Maharashtra) में सरकार गठन (Government Formation) को लेकर भाजपा (BJP) और शिवसेना (Shiv Sena) के बीच विवाद सुलझने का नाम नहीं ले रहा है। दोनों में से कोई भी पार्टी मुख्यमंत्री पद की दावेदारी पर हार मानने को तैयार नहीं है। दोनों पार्टियों के नेताओं के बीच लगातार एक दूसरे पर आरोप लगाए जा रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने प्रेस कांफ्रेंस एक-दूसरे पर आरोप लगाए। जिसके बाद यह स्पष्ट हो चुका है कि दोनों पार्टियों के बीच दूरी आ चुकी है। ऐसे में शिवसेना नेता संजय राउत (Sanjay Raut) के एनसीपी (NCP) प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) से मिलने पर प्रदेश में शिवसेना-कांग्रेस, एनसीपी गठबंधन सरकार बनने की संभावनाएं बढ़ गई हैं।

भाजपा-शिवसेना की सरकार बनना मुश्किल

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर शिवसेना द्वारा भाजपा पर लगाए गए सारे आरोपों को खारिज कर दिया। शिवसेना द्वारा लगातार भाजपा पर किए जा रहे हमलों को लेकर उन्होंने कहा कि शिवसेना की बेमतलब की बयानबाजी की वजह से वह और अन्य पार्टी कार्यकर्ता आहत हैं। प्रेस वार्ता में देवेन्द्र फडणवीस द्वारा कही इन बातों से यह स्पष्ट हो चुका है कि भाजपा शिवसेना की शर्तों के आगे झुक कर महाराष्ट्र में सरकार गठन नहीं करेगी। इसके अलावा फडणनवीस की ये बातें भी इशारा करती हैं कि दोनों पार्टियां सरकार बनाने के लिए अब एक नहीं होंगी।

* भाजपा ने कभी शिवसेना को ढ़ाई वर्षों के लिए सीएम पद देने का वादा नहीं किया।

* बीजेपी महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव 2019 में सबसे ज्यादा सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी बनकर सामने आई है और बीजेपी का चुनावों में जीत का स्ट्राइक रेट 70 फीसदी रहा है।

* गठबंधन को बहुमत मिलने के बाद भी सरकार नहीं बना पाने का अफसोस होगा।

* अमित शाह के साथ सीएम पद को लेकर कोई बात ही नहीं की गई। उन्होंने कहा कि यदि ऐसी कोई बात भी थी तो इस पर बैठकर आराम से बात हो सकती थी।

शिवसेना के भी तेवर तल्ख

वहीं दूसरी तरफ शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने भी शुक्रवार को देवेन्द्र फडणवीस की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद प्रेस वार्ता आयोजित की। जिसमें उन्होंने फिर वही दावे किए जो लंबे समय से शिवसेना नेताओं द्वारा किए जा रहे हैं। उन्होंने भाजपा पर झूठ बोलने का आरोप लगाया। प्रेस वर्ता में उद्धव ठाकरे द्वारा कही गई यह बातें स्पष्ट कर देती हैं कि शिवसेना महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री पद को लेकर अपने दावे से पीछे नहीं हटेगी:

* मैंने बालासाहेब से वादा किया था कि एक दिन प्रदेश में शिवसेना का मुख्यमंत्री होगा। इस वादे को मैं पूरा करूंगा। इसके लिए मुझे अमित शाह या देवेन्द्र फडणवीस की जरूरत नहीं है।

* बहुत दुख की बात है कि गंगा की सफाई के दौरान उनके दिमांग भी प्रदूषित हो चुके हैं। मुझे दुख है कि हमें गलत लोगों के साथ गठबंधन किया।

* हमनें कभी चर्चा के लिए अपने दरवाजे बंद नहीं किए। भाजपा ने हमसे झूठ बोला इसलिए हमने उनसे बात नहीं की।

महाराष्ट्र में पोस्टरों ने दिए नई राजनीति के संकेत

महाराष्ट्र के पुणे में शुक्रवार को पोस्टर लगे दिखे। जिनमें शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, कांग्रेस अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी और एनसीपी प्रमुख शरद पवार को एक साथ देखा जा सकता है। ऐसा पहले कभी नहीं हुआ कि भाजपा सहयोगी दल शिवसेना के नताओं के पोस्टर कांग्रेस नेताओं के साथ लगाए गए। जिसके बाद राज्य में शिवसेना और कांग्रेस गठबंधन सरकार की अटकलें तेज हो गई हैं। माना जा रहा है कि जल्द ही महाराष्ट्र में शिवसेना और कांग्रेस में सरकार का गठन होने की सूचना मिल सकती है।

Next Story
Share it
Top