Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जम्मू-कश्मीर लाइट इन्फ्रेंट्री को मिले 460 जवान, जनरल एमके दास बोले- ड्रोन हमलों को नेस्तनाबूत करने के लिए मिला स्पेशल प्रशिक्षण

जम्मू कश्मरी लाइट इन्फेंट्री के ट्रेनिंग ग्राउंड (Training Ground of Jammu Kashmir Light Infantry) पर इन जवानों की परेड हुई। इस परेड का निरीक्षण चेन्नई ट्रेनिंग अकादमी के कमांडेंट लेफ्टिनेंट जनरल एमके दास (Lt Gen MK Das) ने किया है।

जम्मू-कश्मीर लाइट इन्फ्रेंट्री को मिले 460 जवान, जनरल एमके दास बोले- ड्रोन हमलों को नेस्तनाबूत करने के लिए मिला स्पेशल प्रशिक्षण
X

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में बॉर्डर पार से हो रहे ड्रोन हमलों (Drone attacks) को अब भारतीय सुरक्षाबलों (Indian security forces) के द्वारा करारा जवाब दिया जाएगा। ड्रोन हमलों को नेस्तनाबूत करने की जिम्मेदारी जम्मू कश्मीर लाइट इन्फेंट्री ( Jammu Kashmir Light Infantry ) को दी गई है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, आज इस इन्फेंट्री में 460 नए जवानों को शामिल किया गया है।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, जम्मू कश्मरी लाइट इन्फेंट्री के ट्रेनिंग ग्राउंड (Training Ground of Jammu Kashmir Light Infantry) पर इन जवानों की परेड हुई। इस परेड का निरीक्षण चेन्नई ट्रेनिंग अकादमी के कमांडेंट लेफ्टिनेंट जनरल एमके दास (Lt Gen MK Das) ने किया है। बता दें कि इन जवानों को इस तरीके से प्रशिक्षण (Trained) दिया गया है, जिससे वे हमलों के नए-नए तरीकों का करारा जवाब दे सकें।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, लेफ्टिनेंट जनरल एमके दास ने कहा कि सेना प्रमुख ने ड्रोन हमलों को बड़ी चुनौती के रूप में लिया है। इस चुनौती से निपटने के लिए भारतीय सेना और जम्मू कश्मीर लाइट इन्फ्रेंट्री (Indian Army and J&K Light Infantry) पूरी तरह तैयार है। जम्मू कश्मीर लाइट इन्फ्रेंट्री में भर्ती किए गए नए जवान साइबर सुरक्षा (Cyber security), नई चुनौतियों से निपटने में पूरी तरह सक्षम हैं।

इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि जवानों को इस तरह से प्रशिक्षित (trained) किया गया है, जिससे वे विशेष तौर पर ड्रोन हमले जैसी चुनौतियों से निपट पाए। ड्रोन का संचालन (Drone operation) इनके प्रशिक्षण का अहम हिस्सा रहा है।

Next Story