Logo
election banner
Sanjay Raut PM Post Remarks: लोकसभा चुनाव के लिए अभी सिर्फ एक फेज का चुनाव हुआ है। छह चरणों के चुनाव होना बाकी है। इससे पहले INDI गठबंधन में प्रधानमंत्री पद को लेकर सिर-फुटौव्वल शुरू हो गई है।

Sanjay Raut PM Post Remarks: लोकसभा चुनाव के लिए अभी सिर्फ एक फेज का चुनाव हुआ है। छह चरणों के चुनाव होना बाकी है। इससे पहले INDI गठबंधन में प्रधानमंत्री पद को लेकर सिर-फुटौव्वल शुरू हो गई है। रविवार, 21 अप्रैल को उद्धव ठाकरे शिवसेना गुट के सांसद संजय राउत ने पीएम पद के दावेदार को लेकर बड़ा बयान दिया। संजय राउत ने कहा कि राहुल गांधी इस देश के नेता हैं। अगर वह प्रधानमंत्री बनना चाहते हैं तो उनका स्वागत है। लेकिन देश में और कई चेहरे भी हैं।

संजय राउत ने ऐसे समय बयान दिया है जब झारखंड में रविवार को ही INDI गुट की बड़ी रैली होने वाली है। रांची के प्रभात तारा मैदान में 14 दलों के नेता एक मंच पर आएंगे। अरविंद केजरीवाल की पत्नी सुनीता केजरीवाल भी रैली को संबोधित कर सकती हैं।

सुनिए संजय ने क्या-क्या कहा?

अगर हम अपनी पार्टी नेता का नाम लें तो गलत क्या है?
संजय राउत ने कहा कि यह पीएम पद के लिए लड़ाई नहीं है। कांग्रेस समझ नहीं पा रही है कि हम क्या कहना चाह रहे हैं। राहुल गांधी इस देश के नेता हैं और अगर वह पीएम बनना चाहते हैं उनका स्वागत है। हालांकि, ममता बनर्जी, अखिलेश यादव, उद्धव ठाकरे और मल्लिकार्जुन खड़गे जैसे कई अन्य चेहरे भी हैं। इसलिए अगर हम अपनी पार्टी के नेता (उद्धव ठाकरे) का नाम लेते हैं तो इसमें गलत क्या है? 

संजय राउत ने रांची की रैली पर भी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि हेमंत सोरेन की ओर से उनकी पत्नी ने मुझसे और उद्धव ठाकरे से भी बात की है। जैसा कि आप देख सकते हैं कि चुनाव प्रचार अपने चरम पर है। महाराष्ट्र में चुनाव चरम पर है। आज भी उद्धव ठाकरे मुंबई से बाहर जा रहे हैं। हालांकि, हमने तय किया है कि हमारी पार्टी से कोई न कोई वहां जरूर जाएगा।

चंपई सोरेन का दावा- केंद्र की तानाशाही का करेंगे खुलासा
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जमीन घोटाले में जेल में बंद हैं। ईडी ने उन्हें गिरफ्तार किया था। इसके बाद उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दिया था। हेमंत सोरेन की जगह चंपई सोरेन सीएम बने। उन्होंने दावा किया है कि रैली में केंद्र सरकार के तानाशाही रवैए का खुलासा किया जाएगा। उन्होंने एक्स पोस्ट में लिखा कि यह रैली राज्य के आदिवासियों, मूल निवासियों पर केंद्र सरकार की तरफ से किए जा रहे अत्याचार के विरोध में है। उन्हें जल, जंगल, जमीन से दूर करने की साजिश का पर्दाफाश होगा।

jindal steel Ad
5379487