Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

एक रहस्य है सगाई की अगूंठी चौथी अंगुली में पहनना

दुनिया में अलग-अलग संस्कृतियों में इंगेजमेंट-रिंग को बाएं हाथ की अंगुली में पहनाने के पीछे बहुत सारी धारणाएं हैं।

एक रहस्य है सगाई की अगूंठी चौथी अंगुली में पहनना
X
नई दिल्ली. क्या अपने कभी सोचा है कि क्यों शादी का जोड़ा एक-दूसरे को अनामिका (चौथी) अंगुली में ही अंगूठी पहनाता हैं। इंगेजमेंट-रिंग के लिए बाएं हाथ चार अंगुलियों में से चौथे नंबर की अंगुली को ही क्यों चुना जाता है। ये बात तो आप भी जानते होंगे कि रिंग एक्सचेंज करने का मतलब एक-दूसरे के प्रति प्यार और विश्वास जताना है तो क्या अंगूठी को बाएं हाथ की अनामिका अंगुली में पहनाने के पीछे कोई रीति-रिवाज या रहस्य हैं?
जी हां इस मामले में हम आपकी जिज्ञासा को शांत करे देते हैं। दुनिया में अलग-अलग संस्कृतियों में इंगेजमेंट-रिंग को बाएं हाथ की अंगुली में पहनाने के पीछे बहुत सारी धारणाएं हैं और इसके कई रिवाज और गुण भी बताए गए हैं।
इसलिए आइए हम आपको बताते हैं कि क्यों लड़का और लड़की एक दूसरे को शादी की अंगूठी बाएं हाथ की अनामिका अंगुली में ही पहनाते हैं -
द चाइनीज थ्योरी
चीनी मिथकों के अनुसार, हाथ की हरेक उंगली हमारे जीवन के किसी न किसी महत्वपूर्ण भाग से जुड़ी होती है। ऐसा माना जाता है कि हाथ की पांचों उंगलियों का अपना एक कर्तव्य होता है। हाथ का अंगूठा परिवार के लिए, तर्जनी ऊंगली भाई-बहन के लिए है, मध्यमा उंगली आपके खुद के लिए है, अनामिका उंगली जीवन साथी के लिए और कनिष्ठा यानि छोटी उंगली बच्चों के लिए मानी जाती है। इसलिए शादी की अंगूठी हमेशा अनामिका में ही पहनाई जाती है। इस थ्योरी के साथ ही चीन में दोनों हाथों को इस तरह जोड़कर प्रैक्टिकल भी किया है। जब आप अपने दोनों हाथों कि अंगुलियों को इस तरह से जोड़तें हैं तो हाथ के अंगूठे सहित सभी तीन अंगुलिया अलग हो जाती है लेकिन रिंग फिंगर्स यानी अनामिका अंगुलियां नहीं होती, जिसका मतलब है कि आपका जीवनसाथी हर सुख दु:ख में हमेशा आपके साथ रहेगा।
रोमन थ्योरी
रोमन लोगों का मानना है कि हमारे शरीर में एक अमोरिस नस होती है जो दिल से सीधे बाएं हाथ की चौथी उंगली से जुड़ी होती है, इसलिए इसे प्यार की नस भी माना जाता है। यहीं कारण है कि ग्रीक और रोमन लोग भी इंगेजमेंट-रिंग अनामिका उंगली में ही पहनाते हैं। उनका मानना है कि एसे वह अपने पार्टनर के साथ दिल से जुड़े होते हैं।
द अमेरिकन थयोरी
यूं तो इंगेजमेंट-रिंग एक लंबे समय से अनामिका उंगली में पहनी जा रही है। तो वहीं अमेरिका में इंगेजमेंट-रिंग को अनामिका उंगली में ही पहनने का कोई खास कारण नहीं था। अमेरिका में ऐसा माना जाता है कि हाथ की मध्यमा उंगली बहुत जल्दी घायल हो जाती है और दिनचर्या में इसका सबसे अधिक इस्तेमाल होता है। अगर आप बीच की उंगली में इंगेजमेंट-रिंग पहनते हैं तो इसके खराब होने का डर रहता है।
वहीं बाएं हाथ की हाथ की छोटी ऊंगली इंगेजमेंट-रिंग के लिये ज्यादा छोटी हो जाती है और बाकि उँगलियों में यह कुछ ख़ास नहीं दिखती। अमेरिकी लोगों का मानना है कि इंगेजमेंट-रिंग के लिए अनामिका अंगुली ही ज्यादा उपयुक्त लगती है। बाकि दुनिया में लोग अपनी पसंद के हिसाब से हाथ से इसे किसी भी उंगली में पहन सकते हैं।
इन तथ्यों को जानकार आपको आश्चर्य हुआ होगा न?
किसी को अपना जीवन-साथी बनाने के लिए दुनिया में अलग-अलग तरह के रीति-रिवाज हैं। कहीं-कहीं लोग बाएं हाथ की चौथी उंगली में अंगूठी पहनते हैं तो कहीं बाएं हाथ पर शादी की अंगूठी पहनने का कोई रिवाज ही नहीं है। यह सब परंपरा से जुड़ी बाते हैं, जिनका कोई न कोई सार्थक मतलब जरूर होता है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story