Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

फेफड़ों को मजबूत रखने के लिए हर रोज जरूर करें ये योगासन

लोगों के गलत रवैये के चलते इसका सबसे ज्यादा बुरा असर फेफड़ों पर ही पड़ रहा है। जिस कारण ज्यादातर लोग टीबी, अस्थमा, ब्रोन्काइटिस जैसी बीमारियों का शिकार हो रहे हैं। इस तरह बीमारी फेफड़ों में इंफेक्शन होने की वजह से हो रही हैं। फेफड़ों में इंफेक्शन होने से कई खतरनाक बीमारियां होने का खतरा होने लगता है। वहीं कोरोना वायरस भी रेस्पिरटरी सिस्टम पर अटैक करता है। ऐसे में फेफड़ों के स्वस्थ रखना बहुत जरूरी हो गया है।

फेफड़ों को मजबूत रखने के लिए हर रोज जरूर करें ये योगासन
X
फेफड़ों को ऐसे करें मजबूत (फाइल फोटो)

फेफड़े शरीर का सबसे महत्तवपूर्ण हिस्सा होता है। वहीं लोगों के गलत रवैये के चलते इसका सबसे ज्यादा बुरा असर फेफड़ों पर ही पड़ रहा है। जिस कारण ज्यादातर लोग टीबी, अस्थमा, ब्रोन्काइटिस जैसी बीमारियों का शिकार हो रहे हैं। इस तरह बीमारी फेफड़ों में इंफेक्शन होने की वजह से हो रही हैं। फेफड़ों में इंफेक्शन होने से कई खतरनाक बीमारियां होने का खतरा होने लगता है। वहीं कोरोना वायरस भी रेस्पिरटरी सिस्टम पर अटैक करता है। ऐसे में फेफड़ों के स्वस्थ रखना बहुत जरूरी हो गया है। इसी बीच आज हम आपको फेफड़े स्वस्थ रखने के लिए कुछ योगासन बताने जा रहे हैं। जिसके द्वारा फेफड़ों को अकदम स्वस्थ रखा जा सकता है।

भस्त्रिका प्राणायाम

इसे करने के लिए आप सबसे पहले पद्मासन मुद्रा में बैठें। इसके बाद अपनी गर्दन और रीढ़ की हड्डी को एक दम सीधा रखें। फिर लंबी सांस लें और फेफड़ों में हवा को भरने दें। इसके बाद तेजी से एक बार में सांस छोड़ दें। इसे आप कम से कम 10 बार करें। इसे करने से आपका रेस्पिरेटरी सिस्टम मजबूत होता है।

अनुलोम विलोम

इसे करने के लिए आप सबसे पहले अलथी पलथी माक कर बैठ जाएं। फिर अपने दाएं अंगूठे से सीधी नाक पकड़ें और बाई नाक से सांस अंदर लें। इसके बाद अनामिका उंगली से बाएं नाक को बंद करें। इसके बाद दाई नाक खोलें। फिर दाई नाक से सांस अंदर लें। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इससे आपके लंग्स मजबूत होते हैं।

मंडूकासन

इसे करने के लिए आप सबसे पहले वज्रासन में बैठें। इसके बाद आप अपने दोनों हाथों की हथेलियों की मुठ्ठी बांध लें। फिर इसे अपनी नाभि के पास रखें। ध्यान रखें कि ऐसा करते वक्त मुठ्ठी खड़ी और उंगलियां आपकी तरफ हों। अब सांस छोड़ते हुए आगे की तरफ झुकें और सीने को इस तरह नीचें लाएं कि वो जांघों पर टिकी रहे। इसका ज्यादा दबाव नाभि पर डालें। फिर धीरे - धीरे सांस लें और धीरे धीरे सांस छोड़ें।

कपालभाति

इसे करने के लिए आप सबसे पहले पद्मासन मुद्रा में बैठें और फिर अरने दोनों हाथों को घुटनों पर रखें। इसके बाद आप गहरी लंबी सांस लें और धीरे धीरे सांस को छोड़ें। इसे आप कम से कम 2 बार करें। इसके बाद नाक से सांस लें और बाहर की तरफ निकालें। ध्यान रखें कि जब आप सांस को बाहर निकालें तो पेट अंदर की तरफ खींचे। इसे आप 15 से 20 बार करें। आपको बता दें कि 15 से 20 बार ऐसा करने पर कपालभाति का एक राउंड होता है। ऐसे में आप तीन या चार राउंड करें। यह फेफड़ों के लिए काफी अच्छा प्राणायाम है। इससे ब्लड शुगर लेवल भी कंट्रोल रहता है।

Also Read: Tamarind Benefits : डायबिटीज से लेकर बीपी कंंट्रोल करती है इमली, इसके फायदे जान रह जाएंगे हैरान

भुजंगासन

इसे करने के लिए आप सबसे पहले मैट पर पेट के बल लेटें और फिर पैरों के तलवे छत की तरफ करें। आप अपने बाजुओं को धड़ की लंबाई के साथ सीधा रखें। इसके बाद हाथों को आगे लाएं और सिर के पास रखें। ऐसा करते वक्त आपके पेट के नीचे का भाग जमीन पर ही रहना चाहिए। फिर पैरों को उंगलियों के बल टिकाएं। पीठ को आराम से मोड़ें और सांस अंदर लें और फिर बाहर छोड़ें। ऐसा आप 30 से 60 सेकेंड तक करें। यह स्टेस और थकान को दूर करने के लिए बहुत ही बेस्ट योगा है।

Next Story