Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हैप्पी और सक्सेसफुल रिलेशनशिप के लिए न करें इन 10 चीजों को बर्दाश्त

बेलैंस, रिसपेक्ट, अंडरस्टैंडिग इन सबका तालमेल सुखी जीवन के लिए जरूरी माना जाता है।

हैप्पी और सक्सेसफुल रिलेशनशिप के लिए न करें इन 10 चीजों को बर्दाश्त
X

नई दिल्ली. रिलेशनशिप को हैप्पी और सही तरीके से चलाने की जिम्मेदारी महिला या पुरष दोनों में से एक पर नहीं बल्कि दोनों की ही होती है। बेलैंस, रिसपेक्ट, अंडरस्टैंडिग इन सबका तालमेल सुखी जीवन के लिए जरूरी माना जाता है लेकिन किसी भी एक चीज के डिसबेलैंस होने से रिलेशनशिप खत्म होने की कगार पर आ जाती है। इसके अलावा भी कुछ चीजें हैं रिलेशनशिप में जिनकी पहल होते ही उन्हें रोकने की कोशिश करनी चाहिए वरना यह बात को बढ़ाती है और रिलेशनशिप में दूरी पैदा करती हैं। आइए जानते हैं इनके बारे में।

इसे भी पढ़ें- लड़कियों के एसे ड्रामे जो लड़कों को मजबूर कर देते हैं हां कहने पर

अपशब्द बोलना- रिलेशनशिप में रिसपेक्ट होना बहुत ही जरूरी है। कई बार पार्टनर प्यार से एक-दूसरे के लिए अब्यूसिव लैंग्वेज का इस्तेमाल करते हैं। जिन्हें इग्नोर करने पर आगे चलकर वो आदतों में शुमार हो जाता है। जो दूसरे के सामने शर्म का कारण भी बन सकता है। इससे आगे चलकर बच्चों पर भी नेगेटिव इफेक्ट पड़ता है। अब्यूसिव लैंग्वेज न खुद इस्तेमाल करें और न ही पार्टनर को इस्तेमाल करने की इजाजत दें।

फोर्सफुल रिलेशन- पार्टनर को कभी भी रिलेशनशिप बनाने के लिए फोर्स न करें क्योंकि ये मेंटली और फिजिकली दोनों तरह का टॉर्चर होता है जो रिलेशनशिप में दूरियों का कारण बन सकती हैं। पार्टनर द्वारा पहली बार किए गए ऐसे किसी भी कोशिश को बिल्कुल भी न सहें क्योंकि इससे उन्हें बढ़ावा मिलता है।

ब्लेम गेम खेलना- शादी के बाद महिलाओं को पुरुषों की फैमिली, उनके जॉब और उनकी आदतों के साथ एडजस्ट करने में थोड़ी प्रॉब्लम हो सकती है। जिसे पार्टनर के साथ शेयर करके काफी हद तक दूर किया जा सकता है। लेकिन जब पार्टनर इन परेशानियों को सुनने के बजाय उसका मजाक उड़ाए, उसके लिए आपको ब्लेम करें तो संभल जाएं। इसे बिल्कुल भी बर्दाश्त न करें। रिलेशनशिप में चल रही परेशानियों को दूर करने की कोशिश में ऐसी चीजें अक्सर बाधा बनती हैं।

इसे भी पढ़ें- जब हो वैवाहिक संबंधों में उम्र का फासला, तो ऐसे संवारें दांपत्य जीवन

हर बात के लिए जिम्मेदार ठहराना- बिखरे घर से लेकर खाने के स्वाद तक के लिए जब पुरुष पार्टनर महिला पार्टनर को जिम्मेदार ठहराने लग जाए तो ध्यान देने की जरूरत है। ऐसा कहीं नहीं लिखा कि इन कामों को करने की पूरी जिम्मेदारी सिर्फ महिलाओं की होती है। इसलिए कामों को मिलबांट कर खत्म करने की कोशिश करें और एक-दूसरे पर आरोप लगाने का सिलसिला बंद करें।

कम्पेयर करना- रिलेशनशिप में दूरियों के बढ़ने की एक खास वजह कम्पेरिजन भी है। पुरुष पार्टनर अक्सर अपने पार्टनर के फिजिक की तुलना अपनी किसी सुंदर और स्लिम ट्रिम महिला दोस्त से करने लगते हैं और उनकी तरह बनने को फोर्स करते रहते हैं जो महिलाओं को मेंटली डिस्टर्ब करता है। ऐसी किसी भी समस्या से दूर रहने का एकमात्र तरीका है कि इसकी पहल होते ही इसे रोकें। समझाएं हर पुरुष-महिला एक जैसे नहीं हो सकते।

प्रियोरिटी न देना- आपको अवॉयड करना, आपकी बातों पर ध्यान न देना, वक्त की कमी जैसे बहाने बनाकर दूरी बनाना। ऐसी किसी भी समस्या का सामना करना पड़े तो खुलकर इस मुद्दे पर पार्टनर से बात करें और उसे दूर करने की कोशिश करें। उन्हें टॉलरेट करने से बात बिगड़ सकती है।

इसे भी पढे़ंः जानिएः दिल्ली में 7 ऐसी जगह, जहां कपल्स बिता सकते हैं प्यार भरे पल

रिसपेक्ट न करना- प्यार के साथ ही रिलेशनशिप में रिसपेक्ट का होना भी बहुत ही जरूरी है। मेल पार्टनर को हमेशा अपने पार्टनर के डिसीजन, उनके विचार की रिस्पेक्ट करनी चाहिए। कोई ऐसी बात जिससे सहमत नहीं हैं तो उसे शांति से समझा दें।

पुरानी बातों पर तानें मारना- अगर रिलेशनशिप में पार्टनर आपकी द्वारा की गई पुरानी गलतियों, डिसीजन को बार-बार दोहराएं, आपको ब्लेम करें, उसे लेकर तानें मारें तो इसे रोकें। हंसी में टालना या चुप रहना उन्हें बढ़ावा देगा और फ्यूचर में परेशानी।

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, खबर से जुड़ी अन्य जानकारी -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story