Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राधे मां से अखाड़ा परिषद ने बनाई दूरी, 'बिग बॉस' में जाने वाली बात पर कहा- 'उनका ये निजी मामला'

साधु संतों की सबसे बड़ी संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने राधे मां से दूरी बना ली है। 'बिग बॉस' में जाने वाली बात पर अखाड़ा परिषद ने कहा- 'उनका ये निजी मामला है'

राधे मां से अखाड़ा परिषद ने बनाई दूरी, बिग बॉस में जाने वाली बात पर कहा- उनका ये निजी मामला
X

राधे मां कलर्स टीवी के शो 'बिग बॉस' में शामिल होने को लेकर काफी चर्चाओं में है। इसको लेकर खूब बवाल हो रहा है। राधे मां पर सनातन धर्म की बदनामी करने का आरोप लगाया जा रहा है। इस कड़ी में अब साधु संतों की सबसे बड़ी संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद भी राधे मां के विरोध में खड़ी हो गई है। अखाड़ा परिषद ने राधे मां से दूरी बना ली है। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी ने कहा है कि राधे मां का किसी भी अखाड़े से फिलहाल कोई सम्बन्ध नहीं है। वो न ही कोई संन्यासी हैं और न ही साध्वी है।

महंत नरेन्द्र गिरी ने कहा कि पहले जूना अखाड़े ने उन्हें सनातन धर्म के प्रचार और प्रसार के लिए महामंडलेश्वर की पदवी जरूर दी थी, लेकिन बाद में उनके बारे में सच्चाई का पता चलने पर जूना अखाड़े ने उन्हें अखाड़े से निष्कासित भी कर दिया था। उन्होंने आगे कहा कि राधे मां माता की चौकी करती है। वो कहां पर किस शो में जाती है, ये उनकी प्राइवेट लाइफ है। इससे अखाड़ा परिषद या साधु संतों का कोई लेना देना नहीं है। उन्होंने अपने बयान में आगे कहा कि राधे मां को धार्मिक आस्था की कोई जानकारी भी नहीं है। सिर्फ गाने बजाने और नाचने से धर्म की स्थापना नहीं होती है।


लोगों से अपील करते हुए महंत नरेन्द्र गिरी ने कहा- 'राधे मां (Radhe Maa) को साधु संतों की कैटेगरी में न देखे, राधे मां के सनातन धर्म की परंपरा के खिलाफ काम करने पर अखाड़ा परिषद कार्रवाई भी करेगा। आपको बता दें कि मेकर्स ने जब बिग बॉस के घर में राधे मां की एंट्री का वीडियो शेयर किया था तो माना जा रहा था कि वो बिग बॉस (Bigg Boss 14) के कंटेस्टेंट्स में से एक होंगी। लेकिन बाद में कहा जाने लगा कि राधे मां सिर्फ घरवालों को अपना आशीर्वाद देने आई थीं।

Next Story