logo
Breaking

मशहूर लेखक पाउलो ने कहा- भेदभाव करता है हॉलीवुड, शाहरुख थे असली ''अॉस्कर'' के हकदार

पाउलो ने फिल्म की 7वीं सालगिरह पर शाहरुख की तारीफ की।

मशहूर लेखक पाउलो ने कहा- भेदभाव करता है हॉलीवुड, शाहरुख थे असली
मुंबई. मशहूर राइटर पाउलो कोल्हो ने 2008 में रिलीज हुई माई नेम इज खान एंड आई एम नॉट ए टेरेरिस्ट फिल्म को एक अॉस्कर वीनिंग फिल्म बताया है। पाउलो ने बस फिल्म की तारीफ ही नहीं की बल्कि यह भी कहा कि इस फिल्म के लिए शाहरुख को अॉस्कर मिलना चाहिए था।
पाउलो ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा कि शाहरुख की इतनी फिल्मों में से एकमात्र फिल्म जो मैंने देखी, वह 'माई नेम इज खान' है। यह फिल्म साल 2008 में रिलीज हुई थी। यह फिल्म न केवल शानदार थी बल्कि इस फिल्म में की गई एंक्टिंग के लिए सुपरस्टार शाहरुख खान ऑस्कर के हकदार थे। लेकिन हॉलीवुड में होने वाली भेदभाव के कारण वह इसे हासिल नहीं कर सके।
69 साल के उपन्यासकार ने करण जौहर के डायरेक्शन में बनीं इस फिल्म की 7वीं सालगिरह पर शाहरुख की तारीफ की। पाउलो ने ट्विटर पर लिखा, माई नेम इज खान और आई एम नॉट ए टेरेरिस्ट। इस शानदार फिल्म की सातवीं सालगिरह पर पर बधाई हो शाहरुख।
पाउलो कोल्हो ने अपने फेसबुक पेज का स्क्रीनशॉट भी पोस्ट किया है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Share it
Top