Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पद्मावत फिल्म रिव्यू: क्रूर खिलजी और राजपूतों की वीरता की कहानी है ''पद्मावत''

भारी विवादों के बीच निर्देश संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत 25 जनवरी को देशभर में रिलीज होने को तैयार है।

पद्मावत फिल्म रिव्यू: क्रूर खिलजी और राजपूतों की वीरता की कहानी है

भारी विवादों के बीच निर्देश संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत 25 जनवरी को देशभर में रिलीज होने को तैयार है। पद्मावत फिल्म खिलजी की सनक, उसके झक्कीपन, उसकी इच्छाओं, उसकी मर्जी, उसकी सेक्शुएलिटी, उसके जुनून को लेकर है। अलाउद्दीन खिलजी हर नायाब चीज पर अपना कब्जा करने की चाहत रखता है। वह रानी पद्मावती की एक झलक देखने की ख्वाहिश कर तड़प कर रह जाता है।

लेकिन चित्तौड़ के राजपूत राजा अलाउद्दीन खिलजी घुटने टेकने पर मजबूर कर देते हैं। लेकिन अलाउद्दीन खिलजी छल करके राज्य हड़पने में कामयाबी हासिल कर लेता है। लेकिन रानी पद्मावती अपनी सूझबूझ और दिमाग का इस्तेमाल करके सनकी खिलजी की उस एक ख्वाहिश को अधूरा रख छोड़ती हैं, यही संजय लीला भंसाली ने अपनी फिल्म 'पद्मावत' में बड़े शानदार ढंग से दिखाया है।

यह भी पढ़ें- 'पद्मावत' विवाद: करणी सेना की गुंडागर्दी, गुरुग्राम में स्कूल बस में तोड़फोड़, रोडवेज की बस फूंकी

आपको बता दे कि निर्देशक संजय लीला भंसाली की फिल्म में एक शानदार परफॉर्मेंसेज हैं। सिनेमा हॉल से बाहर आकर दो चीजें आपके दिमाग पर दस्तक देंगी, एक तो खिलजी के रूप में रणवीर सिंह का दमदार अंदाज और दूसरा यह कि आखिर इस फिल्म पर इतना विवाद हो क्यों रहा है, जबकि फिल्म में तो वैसा कुछ भी नहीं है।फिल्म पद्मावत की कहानी मलिक मोहम्मद जायसी के महाकाव्य ‘पद्मावत’ पर आधारित है।

जो राजपूत महारानी रानी पद्मावती के शौर्य और वीरता की गाथा कहती है। पद्मावती मेवाड़ के राजा रावल रतन सिंह की पत्नी हैं और वह बेहद खूबसूरत है। रानी पद्मावती बुद्धिमान, साहसी और बहुत अच्छी धनुर्धर भी हैं। अलाउद्दीन खिलजी रानी की इन्हीं खूबियों के प्रभावित होता जाता है, और चित्तौड़ के किले पर अलाउद्दीन खिलजी हमला बोल कर देता है।

यह भी पढ़ें- जम्मू-कश्मीर: शोपियां में सुरक्षाबलों ने एक आतंकी को किया ढेर, मुठभेड़ जारी

फिल्म पद्मावत के लास्ट सीन में मेवाड़ के राजा रावल रतन सिंह तलवारबाजी में रतन सिंह अपने उसूलों, आदर्शों और युद्ध के नियमों का पालन करते हुए अलाउद्दीन खिलजी को निहत्था कर देते हैं। लेकिन रानी पद्मावती को पाने की चाहत में अलाउद्दीन खिलजी छल 'धोका' से मेवाड़ के राजा रावल रतन सिंह को यह कहकर मार डालता है कि जंग का एक ही उसूल होता है, जीत।

राजा रावल रतन सिंह की हत्या के बाद रानी पद्मावती अपनी आन-बान-शान की खातिर द्मावती किस तरह जौहर के लिए निकलती हुए खिलजी की ख्वाहिशों को ध्वस्त कर देती हैं यही फिल्म की कहानी है। चित्तौड़ के मशहूर सूरमा गोरा और बादल की शहादत को भी फिल्म में पूरे सम्मान के साथ दर्शाया गया है। फिल्म पद्मावत के हर सीन में सिर से पांव तक ढकीं रानी पद्मावती यानी दीपिका पादुकोण ने अपने चेहरे के हाव भाव और खासतौर से आंखों के जरिए जो दमदार अभिनय किया है।

यह भी पढ़ें- ऑस्ट्रिया: संवेदनशील दस्तावेजों के साथ पाकिस्तानी एंबेसी का अधिकारी लापता

वह सराहनीय है। करीब 30-30 किलों के खूबसूरत लहंगों, भारी गहनों और खासतौर पर नाक की नथ में दीपिका खूब जमी हैं। सजी-धजी दीपिका की मौजूदगी को पूरे स्क्रीन पर इस कदर दिखाया गया है कि आसपास सब कुछ बौना नजर आता है। करीब 200 करोड़ की लागत से बनी 'पद्मावत' अब तक की सबसे महंगी फिल्म बताई जाती है।

फिल्म में शाहिद कपूर शुरू से अंत तक शालीन नजर आए लेकिन एक किरदार जो पूरी फिल्म को अपने कब्जे में करता है वह हैं अलाउद्दीन खिलजी यानी रणवीर सिंह।रणवीर सिंह कई डायलॉग्स आपको सिनेमा हॉल से बाहर निकलते हुए याद रह जाएंगे। मसलन खिलजी की क्रूरता दिखाता एक डायलॉग- सीन में उनकी पत्नी उनसे कहती हैं कुछ तो खौफ खाइए।

यह भी पढ़ें- लाभ पद मामला: दिल्ली हाईकोर्ट का आदेश, सुनवाई तक न हो उपचुनाव की घोषणा

इस पर वह पलटकर पूछते हैं आज खाने में क्या-क्या है? जब उन्हें बताया जाता है कि खाने में ढेर सारे पकवान हैं तो खिलजी का जवाब होता है, जब खाने में इतना कुछ है तो खौफ क्यों खाऊं? हालाकि भारी विवादों के बीच निर्देश संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत 25 जनवरी को देशभर में रिलीज हो रही है।

Next Story
Top