Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

भंसाली की फिल्म पद्मावत को देखने के लिए तैयार करणी सेना, इस शख्स ने किया राजी

करणी सेना फिल्म देखने के लिए तैयार और वहीं दूसरी तरफ आज पद्मावत पर बैन लगाने की मांग पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होनी है। करणी सेना फिल्म देखने के लिए तैयार और वहीं दूसरी तरफ आज पद्मावत पर बैन लगाने की मांग पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होनी है।

भंसाली की फिल्म पद्मावत को देखने के लिए तैयार करणी सेना, इस शख्स ने किया राजी

संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत को लेकर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। एक तरफ करणी सेना फिल्म देखने के लिए तैयार हो गई है तो वहीं दूसरी तरफ आज पद्मावत पर बैन लगाने की मांग पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होनी है।

संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत पर जारी गतिरोध को खत्म की दिशा में कदम बढ़ाते हुए श्री राजपूत करणी सेना ने भंसाली प्रोडेक्शन की ओर से फिल्म देखने के आमंत्रण भेजा।

यह भी पढ़ें- गणतंत्र दिवस 2018: 'इन फिल्मों ने बढ़ाया देशभक्ति का जज़्बा'

जिसके बाद करणी सेना के प्रमुख लोकेंद्र सिंह कालवी रिलीज से पहले फिल्म 'पद्मावत' देखने के लिए राजी हो गए। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने के बाद उन्होंने कहा कि वह 'पद्मावत' देखने के लिए तैयार हैं, लेकिन संजय लीला भंसाली ने अभी फिल्म दिखाने की तारीख नहीं बताई है।

बता दें फिल्म की शूटिंग के समय से विवाद कर रही करणी सेना सुप्रीम कोर्ट के बैन पर रोक लगाने के वाबजूद विरोध जता रही है। हाल ही में कालवी ने कहा था कि वह किसी भी हाल में फिल्म को रिलीज नहीं होने देंगे।

भंसाली टीम ने भेजा न्योता

जानकारी के लिए बता दें कि भंसाली प्रोडेक्शन ने 20 जनवरी को श्री राजपूत करणी सेना और राजपूत सभा जयपुर को एक पत्र लिखकर फिल्म देखने के लिए आमंत्रित किया था। पत्र में बताया गया था कि फिल्म में रानी पद्मावती और अलाउद्दीन खिलजी के बीच किसी प्रकार का प्रेम प्रसंग को नहीं दिखाया गया है।

इसे भी पढ़ें : अर्शी खान की खुल गई किस्मत,बाहुबली के साथ करेंगी इस फिल्म में काम

पद्मावत का ये दल करेंगे विरोध

वहीं विश्व हिन्दू परिषद के अंतर्राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि फिल्म पद्मावत का विहिप, बजरंग दल, उससे जुडे हुए हिन्दू संगठन जोर शोर से विरोध करेंगे और फिल्म को परदे पर नहीं उतरने देंगे। तोगड़िया ने कहा कि हिन्दू संगठनों को सड़कों पर उतरकर लोकतांत्रिक तरीके से फिल्म का विरोध करना चाहिए।

Next Story
Top