Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

जानिए अपनी कौन सी बुरी आदतों से परेशान हैं आपके चहेते टीवी सितारे

आम हो या खास, सभी में कुछ ना कुछ अच्छी-बुरी आदतें होती हैं। बुरी आदतों को कोई बेझिझक बता देता है तो कोई छुपाता है। हमारे टेलीविजन सितारे भी इनसे अछूते नहीं हैं। अपनी इन्हीं बुरी आदतों के बारे में बता रहे हैं, कुछ जाने-माने टीवी स्टार्स

जानिए अपनी कौन सी बुरी आदतों से परेशान हैं आपके चहेते टीवी सितारे

आम हो या खास, सभी में कुछ ना कुछ अच्छी-बुरी आदतें होती हैं। बुरी आदतों को कोई बेझिझक बता देता है तो कोई छुपाता है। हमारे टेलीविजन सितारे भी इनसे अछूते नहीं हैं। अपनी इन्हीं बुरी आदतों के बारे में बता रहे हैं, कुछ जाने-माने टीवी स्टार्स।

शक्ति अरोरा

मेरे अंदर कोई बड़ी बुरी आदत तो नहीं है। हां, दो ऐसी बुरी आदतें जरूर हैं, जो कहने को छोटी हैं लेकिन उनका इफेक्ट मेरी हेल्थ पर होता है। जैसे मैं पानी बहुत कम पीता हूं, लंच और डिनर के बाद तो बिल्कुल भी नहीं पीता। कभी-कभी तो खाने के एक घंटे बाद मुझे याद आता है कि मुझे पानी भी पीना है। जिसका असर मेरे डाइजेस्टिव प्रोसेस पर पड़ता है, जोकि मेरी हेल्थ के लिए बिल्कुल भी अच्छा नहीं है। मेरी दूसरी बुरी आदत मीठा खाने की है। मुझे शुरुआत से मीठा खाना बहुत पसंद है, जबकि मैं जानता हूं ज्यादा मीठा सेहत के लिए नुकसानदायक होता है।

समीर ओंकार

देर से सोना और सुबह देर से उठना मेरी सबसे बुरी आदत है। इससे एक्सरसाइज करने में देर होती है, ब्रेकफास्ट से लेकर लंच टाइम भी डिले हो जाता है। पूरे दिन का शेड्यूल ही बिगड़ जाता है। जिसका खामियाजा मेरी हेल्थ को भुगतना पड़ सकता है। इन दिनों मैं अपनी इस बुरी आदत को छोड़ने में लगा हुआ हूं। अब मैं जल्दी सोने की कोशिश करता हूं, जिससे सुबह जल्दी टाइम पर सोकर उठ सकूं। शुक्र है कि सीरियल ‘ये रिश्ता क्या कहलाता है’ में मेरी जब से रिएंट्री हुई है, तब से मैं सुबह जल्दी उठने लगा हूं। मेरी पूरी कोशिश होगी कि फ्यूचर में भी मैं इसे कायम रखूं, जिससे मेरी लाइफस्टाइल हेल्दी बनी रहे।

डेलनाज ईरानी

मेरी दो आदतें बहुत बुरी हैं, पहला यह कि मैं छोटी-छोटी चीजों के बारे में बहुत सोचती हूं, जैसे ऐसा क्यों हुआ होगा? उसने ऐसा क्यों कहा? क्या कारण था? मेरी बात से वो नाराज तो नहीं हो गया होगा? मेरी इस आदत से तो कभी-कभार दूसरों को भी परेशानी हो जाती है। मेरी दूसरी बुरी आदत यह है कि मैं छोटी से छोटी चीज में परफेक्शन ढूंढ़ती हूं, जो कि कभी मुमकिन नहीं है। अब मैं अपनी इन दोनों बुरी आदतों से भी पीछा छुड़ाने में जुटी हूं। मेरी पूरी कोशिश होगी कि मैं अपने इस काम में कामयाब हो जाऊं, जिससे अगले इंटरव्यू में मैं कह सकूं कि मेरे अंदर कोई बुरी आदत नहीं है।

आशी सिंह

मेरे अंदर बुरी आदत यह है कि जहां मामला सीरियस होता है, लोग चुप रहते हैं, गंभीर रहते हैं, वहां मुझे ना जाने क्यों बहुत हंसी आ जाती है। मेरी इस बुरी आदत की वजह से कई बार सिचुएशन और भी सीरियस हो जाती है। इसी तरह जब कोई मेरे सामने रोता है, तब भी मैं पूरी तरह से ब्लैंक हो जाती हूं। क्या रिएक्ट करना है? मैं समझ नहीं पाती। इसका मतलब यह नहीं है कि मैं इमोशनल नहीं हूं, लेकिन पता नहीं क्यों मेरे साथ ऐसा होने लगता है। इस तरह मेरी दोनों ही बुरी आदतें मेंटली हैं, जिस पर काबू पाना थोड़ा मुश्किल है, लेकिन मैं इससे टैकल करने की पूरी कोशिश कर रही हूं।

लक्ष्य लालवानी

अकसर लोगों की बुरी आदतें नॉर्मल होती हैं, जैसे कोई देर तक जागता है तो कोई बिना सोचे-समझे जंक फूड खाता है। ऐसी और भी कई बुरी आदतें लोगों में होती हैं, लेकिन मेरी बुरी आदत सबसे अलग है। ना जाने क्यों और ना चाहते हुए भी मैं अकसर अपने साथ के लोगों के सामने ऐसे रिएक्ट करने लगाता हूं कि कि मैं बहुत शॉर्ट टेंपर्ड पर्सन हूं। जबकि मैं ऐसा बिल्कुल भी नहीं हूं। इसका मेरी पर्सनालिटी पर बहुत बुरा असर पड़ रहा है। मैं सीरियसली अपनी इस बुरी आदत को छोड़ने में लगा हूं। मुझे पूरा यकीन है कि मैं जिस दिन अपने इस मकसद में कामयाब हो जाऊंगा, मेरी पर्सनालिटी और भी निखर जाएगी।

सुधा चंद्रन

मेरी सबसे खराब आदत है, हर चीज में परफेक्शन ढूंढ़ना। मुझे पर्सनली ऐसा लगता है कि हर चीज का परफेक्ट होना बहुत जरूरी है। वैसे कई लोग इस बात को अच्छा भी मानते हैं, लेकिन मेरी मानें तो यह आदत इतनी भी अच्छी नहीं है। मैं ऐसा इसलिए कह रही हूं, क्योंकि अपनी इस आदत की वजह से मैं छोटी-छोटी खुशियों के पल को मिस करती हूं। जब वक्त मेरे हाथ से चला जाता है तब मुझे लगता है कि अरे! मुझसे यह गलती कैसे हो गई? मैंने यह क्या कर दिया? मेरी इस आदत के लिए आप मुझे परफेक्शनिस्ट भी कह सकती हैं। वैसे मैं अपनी इस आदत पर पूरी तरह से कंट्रोल करना चाहती हूं।

Next Story
Share it
Top