Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ट्रोलिंग पर सोनाक्षी सिन्हा का बयान, 'बोलने की आजादी' को लोग 'गाली देने की आजादी' समझ रहे हैं

सोनाक्षी सिन्हा ने ट्रोलिंग को लेकर अपना बयान दिया। सोनाक्षी सिन्हा ने कहा- 'बोलने की आजादी' को लोग 'गाली देने की आजादी' समझ रहे हैं'

ट्रोलिंग पर सोनाक्षी सिन्हा का बयान, बोलने की आजादी को लोग गाली देने की आजादी समझ रहे हैं
X
सोनाक्षी सिन्हा

बॉलीवुड एक्ट्रेस सोनाक्षी सिन्हा ने सोशल मीडिया से दूरी बना ली है। वो लगातार ट्रोलिंग से काफी परेशान हैं। जिसके चलते उन्होंने ट्विटर से अलविदा कह दिया। नेपोटिज्म को लेकर सोनाक्षी सिन्हा लोगों के निशाने पर आई। इन सब को लेकर सोनाक्षी सिन्हा ने अपनी प्रतिक्रिया दी। पिंकविला को दिए इंटरव्यू में सोनाक्षी सिन्हा ने कहा- 'बोलने की आजादी' को लोग 'गाली देने की आजादी' बना चुके हैं। लोग काफी बड़ी गलती कर रहे है। अपनी अभिव्यक्ति की आजादी को गलत फायदा उठा रहे है।

आपको बता दें कि सोनाक्षी सिन्हा 'कौन बनेगा करोड़पति' में एक सवाल का जवाब न देने पर भी लोगों ने उन्हें जमकर ट्रोल किया था। आलम ये था कि सोनाक्षी सिन्हा के सपोर्ट में उनके पिता और बॉलीवुड एक्टर शत्रुघ्न सिन्हा को सामने आना पड़ा। सोनाक्षी सिन्हा ने हाल ही में साइबर उत्पीड़न के खिलाफ नया अभियान शुरू किया है। '#FullStopToCyberBullying' अभियान में उनका साथ महाराष्ट्र पुलिस के विशेष महा निरीक्षक भी दे रहे है। इसको लेकर सोनाक्षी सिन्हा ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट भी शेयर किया था। साइबर उत्पीड़न के खिलाफ उनकी इस पहल की चर्चा सोशल मीडिया पर जमकर हुई थी।

सोनाक्षी सिन्हा (Sonakshi Sinha) ने अपने इंस्टाग्राम पोस्ट पर लिखा- 'साइबर उत्पीड़न पर रोक अभियान 'मिशन जोश' की पहल है और मैं महाराष्ट्र पुलिस के विशेष महानिरीक्षक प्रताप दीवाकर के मिलकर इसमें काम करूंगी, इसका मकसद जागरूकता फैलाना और लोगों को ऑनलाइन उत्पीड़न, ट्रोल और ट्रोलिंग पीड़ित के मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ने वाले असर के प्रति लोगों को जागरूक करना है।' आपको बता दें कि जून महीने में सोनाक्षी ने अपना ट्विटर अकाउंट डिएक्टिव कर दिया था ताकि नेगेटिविटी से दूर रहा जा सकें।

Next Story