Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

इंडोसर्जन कांफ्रेंस:एकेडमिक सेशन में 300 यंग सर्जन को मिला ''फैलोशिप अवार्ड''

एकेडमिक सेशन के दौरान आए हुए करीब 300 से अधिक यंग सर्जन को फेलोशिप दिया गया। सर्जन ने गाउन पहन अपनी उपाधि ली।

इंडोसर्जन कांफ्रेंस:एकेडमिक सेशन में 300 यंग सर्जन को मिला

इंडियन एसोसिएशन ऑफ गेस्ट्रो इनटेस्टिनल इंडोसर्जन के वार्षिक कांफ्रेंस के तीसरे दिन कंवोकेशन रखा गया, जिसमें पूरे देश से आए हुए सर्जन की मौजूदगी में ऐसे यंग सर्जन को फैलोशिप अवार्ड दिया गया, जिन्होंने लेप्रोस्कोपिक के क्षेत्र में निरंतर अपनी भागीदारी सिद्ध की है।

एकेडमिक सेशन के दौरान आए हुए करीब 300 से अधिक यंग सर्जन को फेलोशिप दिया गया। सर्जन ने गाउन पहन अपनी उपाधि ली। कांफ्रेंस के तीसरे दिन भी कुछ महत्वपूर्ण टॉपिक पर लेक्चर दिया गया।

यह भी पढ़ेंः सोशल वर्क में कॅरियर, ऐसे बनाएं समाज सेवा के साथ सुनहरा भविष्य

जिसमें कंबाइंड लेप्रो इंडोस्कोपि अप्रोच फॉर हाई वाल्यूम रीनल कलकूली, डिफिकल्ट अपेंडेक्टॉमी, लेप इंटेरोलीथोटॉमी पॉर गाल स्टोन इल्यूस, नोवेल टेक्नीक इन बिलाट्रेल टैप,लेप सर्जरी फॉर मिडियन ऑरक्यूट लिगामेंट स्यांड्रोम, कंपोसिट मेश एक्सप्लेनेटेशन, फॉलोविंग लेप आइपीओएम, लेप मैनेजमेंट, ऑफ पेंक्रीएटिक केंसर, लेप्रोस्कोपिक हिमीकोलेक्ट्रोमी, लेप मैनेजमेंट ऑफ रेक्टल प्रोलेप्स , नर्व स्पेरिंग लेप्रोस्कोपिक टीएमई फॉर रेक्टल केंसर , लेप इंटीरियर रिशेसन जैसे महत्वपूर्ण विषयों चर्चाएं की गई।

यह भी पढ़ेंः छत्तीसगढ़: जेईई एडवांस परीक्षा का टाइम टेबल जारी, जानें कब होगी परीक्षा

विशेषज्ञों ने कहा, साबित होगा फादयेमंद

ऑर्गनाइजिंग ग्रुप राम कृष्ण केयर हॉस्पिटल, सर्जन क्लब रायपुर व मेडिकल कॉलेज के इस कांफ्रेंस में तीनों दिन अपने क्षेत्र के विशेषज्ञ डॉक्टर्स ने अपने अनुभव साझा किए।
इलाज के दौरान आनी वाली समस्याओं से लेकर अपने प्रयोग भी उन्होंने बताए। कांफ्रेंस में शामिल हुए सभी डॉक्टर्स का यह कहना रहा कि यहां दूसरे डॉक्टर्स से मिले अनुभव उनके लिए फायदेमंद साबित होंगे।
लेप्रोस्कोपी तकनीक संबंधी जानकारी में हुई वृद्धि से वे अपनी योग्यता में इजाफा कर जन समान्य तक यह सुविधा को पहुचा सकेंगे । कार्यक्रम के दौरान ऑर्गनाइजिंग ग्रुप कमेटी के सभी अधिकारी व सदस्य मौजूद रहे।
Next Story
Top