Logo
election banner
जींद में आग का कहर: धर्मबीर की सात एकड़, रामदिया की पांच एकड़, जयभगवान की आठ एकड़, भीरा की दो एकड़ और महेंद्र की छह एकड़ में खड़ी फसल आग की भेंट चढ़ गई।

जींद। जिले के गांव उझाना में वीरवार देर रात खेतों में अचानक आग लग गई। आग लगने की सूचना के बाद ग्रामीणों ने आसपास की खड़ी फसलों पर हैरो चलाकर व पानी से आग पर काबू पाने का प्रयास। सूचख्ना के बाद फायर बिग्रेड की दो गाड़ी भी मौके पर पहुंचे तथा कड़ी मशक्त के बाद आग पर काबू पाया। जब तक आग पर काबू पाया तब तक खेतों में खड़ी 31 एकड़ गेहूं की फसल और 10 एकड़ में गेहूं काटने के लिए पशु चारा के लिए भूसा बनाने के लिए छोडे गए फाने व एक जीप आग की चपेट में आने से जल गई। अभी तक आग लगने के कारणों का पता नहीं चल पाया है।

जीप से ग्रामीणों को खेतों तक पहुंचाया
गांवों के खेतों में आग लगने की सूचना के बाद ग्रामीण खेतों की तरफ दौड़ पड़े। आग पर काबू पाने के लिए जल्द ग्रामीणों को खेतों तक पहुंचाने के लिए सुरेश ने जीप के गांव से खेतों तक कई चक्कर काटे। इसी बीच गेहूं के खेतों में भड़की आग ने जीप को भी अपनी चपेट में ले लिया तथा गेहूं की फसलों के साथ जीप भी आग में चलकर स्वाह हो गई। 

किसको कितना नुकसान
वीरवार रात खेतों में लगी आग से उझाना के किसान धर्मबीर की सात एकड़, रामदिया की पांच एकड़, जयभगवान की आठ एकड़, भीरा की दो एकड़ और महेंद्र की छह एकड़ में खड़ी फसल आग की भेंट चढ़ गई। जबकि कृष्ण के 6 एकड़ व पाला के दो एकड़ में खड़े फानों को भी आग ने अपनी चपेट में ले लिया। 

सरकार से मांगा मुआवजा
ग्रामीणों ने कहा कि आग में गेहूं के साथ किसानों के सपने भी खाक हो गए। जिससे किसानों को भारी आर्थिक नुकसान हुआ है। किसानों को हुए नुकसान की भरपाई करने के लिए सरकार नुकसान का आंकलन कर तत्काल प्रभावित किसानों को मुआवजा दें। 

5379487