Logo
election banner
Delhi Man swallowed Coins and Magnets: रिश्तेदारों का दावा है कि युवक मानसिक रोगी है। उसे सिक्के निगलने की आदत है। युवक को लगता था कि सिक्के और चुंबक निगलने से उसके शरीर में जिंक बनता है।

Delhi Man swallowed Coins and Magnets: दिल्ली के सर गंगा राम अस्पताल में एक अजीब-ओ-गरीब मामला सामने आया है। डॉक्टरों ने सर्जरी कर 26 साल के एक शख्स की आंत से 39 सिक्के और 37 चुंबक के टुकड़े निकाले। इलाज के लिए साथ आए रिश्तेदारों का दावा है कि युवक मानसिक रोगी है। उसे सिक्के निगलने की आदत है। युवक को लगता था कि सिक्के और चुंबक निगलने से उसके शरीर में जिंक बनता है। वह ऐसा बॉडी बिल्डिंग के लिए कर रहा था। कुछ दिन पहले उसे पेट में तेज दर्द उठा तो परिजन उसे सर गंगाराम अस्पताल लेकर आए थे। फिलहाल उसे नया जीवन मिला है। 

कुछ खा नहीं पा रहा था युवक
रिश्तेदारों का कहना है कि इस बात का खुलासा तब हुआ, जब युवक 20 दिनों से बार-बार उल्टी और पेट दर्द से जूझ रहा था। उसे सर गंगा राम अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में लाया गया। मरीज कुछ खा भी नहीं पा रहा था। मरीज को सबसे पहले बाह्य रोगी विभाग में वरिष्ठ सलाहकार डॉ. तरूण मित्तल ने देखा। तब रिश्तेदारों ने खुलासा किया कि वह पिछले कुछ हफ्तों से सिक्के और चुंबक खा रहा था। मरीज मनोरोगी है। इसका भी इलाज चल रहा है। 

सिक्कों के बोझ से आंत में हुई रुकावट
मरीज के रिश्तेदारों ने उसके पेट का एक्स-रे कराया। जिसमें उसके पेट में सिक्कों और चुंबकों की आकृति वाली रेडियो-अपारदर्शी छाया दिखाई दी। पेट के सीटी स्कैन से पता चला कि सिक्कों और चुंबकों का भारी बोझ आंत में रुकावट पैदा कर रहा है। मरीज तुरंत सर्जरी के लिए तैयार हो गया। सर्जरी के दौरान पता चला कि चुंबक और सिक्के छोटी आंत में दो अलग-अलग लूप में मौजूद थे।

आंतों को पड़ा खोलना
चुंबकीय प्रभाव ने दोनों लूपों को एक साथ खींच लिया और इसे नष्ट कर दिया। आंतें खोली गईं और सिक्के और चुंबक बाहर निकाले गए। दोनों लूप दो अलग-अलग एनास्टोमोसेस द्वारा दोबारा जुड़े हुए थे। पेट की जांच की गई तो वहां भारी मात्रा में सिक्के और चुंबक भी मिले। बाद में उसका पेट खोला गया और सभी सिक्के निकाले गए और उसके पेट की मरम्मत की गई।

सात दिन बाद मिली छुट्टी
डॉक्टरों ने कहा कि मरीज के पेट से 1, 2 और 5 रूपए कुल 39 सिक्के और कई आकार के 37 चुंबक निकाले गए। सात दिनों के बाद मरीज को छुट्टी दे दी गई। मरीज की काउंसलिंग की गई तो उसने बताया कि उसने सिक्के और चुम्बक इसलिए खाए क्योंकि उसे लगा कि जिंक शरीर निर्माण में मदद करता है।
 

5379487