Logo
दिल्ली पुलिस ने एक शातिर चोर का पर्दाफाश कर दिया है, जो चोरी किए हुए बाइक को बेचने के लिए निंजा टेक्निक का इस्तेमाल करता था। चलिए बताते हैं पुलिस की गिरफ्त में कैसे आया आरोपी।

देश की राजधानी में सबसे अधिक सिक्योरिटी है, क्योंकि दिल्ली राष्ट्रीय राजधानी है, लेकिन फिर भी क्राइम के मामले में दिल्ली किसी से पीछे नहीं है। आए दिन दिल्ली में कई बड़ी क्राइम की घटना देखने को मिलती है। अब एक ऐसा ही मामला सामने आया है, जिसमें वाहन चोर बाइक डिलीवरी करने की निंजा टेक्निक अपना रहे थे। चोर नाबालिग को 500 रुपये की लालच देकर उससे बाइक की डिलिवरी करवाता था, लेकिन अब वह पुलिस के हत्थे चढ़ गया है।

चोरी के 10 वाहन हुए बरामद

क्राइम ब्रांच ने चोरी के वाहन खरीदने वाले एक शख्स को गिरफ्तार किया है। इस शातिर चोर का नाम जितेन्द्र उर्फ जीतू है, जो कि मोहन गार्डन का रहने वाला है। इसके पास से चोरी के 10 वाहन बरामद किए हैं। आरोपी नाबालिगों के जरिये चोरी के वाहनों की डिलीवरी लेता था। हर डिलीवरी के बदले नाबालिग को 500 रुपये देते थे, लेकिन आरोपी की यह शातिर चाल अधिक दिनों तक नहीं चल सकी और आखिरकार गिरफ्त में आ गया।

ये भी पढें:- Delhi Water Crisis: पानी की समस्या पर राजनीति तेज, बीजेपी और कांग्रेस ने किया मटका फोड़ प्रदर्शन, AAP की लगा दी क्लास

पुलिस की जाल में कैसे फंसा आरोपी

पुलिस के अनुसार इंस्पेक्टर विजय पाल दहिया की टीम को जीतू के बारे में सूचना मिली थी। इसके बाद उत्तम नगर टर्मिनल के पास ट्रैप लगाया गया। वहां खड़ी एक बाइक को लेने जैसे ही आरोपी पहुंचा उसे पकड़ लिया गया। यह बाइक बिंदापुर इलाके से चोरी की मिली। पूछताछ में आरोपी ने खुलासा किया कि वह चोरी की बाइक का रिसीवर है। उसने यह बाइक प्रिंस नाम के एक व्यक्ति से खरीदी थी। वह नोएडा में रहता है।

ये भी पढ़ें:- Delhi Fire: वसंत विहार में एक दुकान में लगी भीषण आग, लाखों का सामान जलकर खाक, दमकल की 13 गाड़ियों ने पाया काबू

उसने बताया कि इस धंधे में नाबालिगों की मदद ली जाती थी। उनके जरिए चोरी के वाहनों की डिलीवरी लेता था, इसके बदले वह प्रति डिलीवरी उन्हें 500 रुपए देता था। अभी तक वह चोरी की 20 मोटर साइकिलें खरीद चुका था। आरोपी जितेन्द्र हत्या की कोशिश और आर्म्स एक्ट के दो केस में भी शामिल रहा है।

jindal steel Haryana Ad hbm ad
5379487