Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

नरेंद्र मोदी की क्षमताओं का लोहा मानती दुनिया

अभी हाल ही में उनकी तीन देशों फ्रांस, जर्मनी और कनाडा की यात्रा संपन्न हुई है, जिसमें उन्होंने भारत की बदली हुई छवि को दुनिया के सामने प्रभावी ढंग से रखा।

नरेंद्र मोदी की क्षमताओं का लोहा मानती दुनिया

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भारत का प्रमुख सुधारक बताने का खास महत्व है। दरअसल, प्रतिष्ठित टाइम पत्रिका ने दुनिया के सौ प्रभावशाली लोगों पर विशेष अंक निकाला है। उसी में मोदी के बारे में ओबामा ने अपनी टिप्पणी लिखी है। मोदी को सत्ता में आए करीब दस माह हुए हैं और इतनी कम अवधि में उन्होंने देश में बदलाव की अलख जगाई है। विदेशों में वे जिस तरह से देश की आवाज को विस्तार दे रहे हैं, उससे बड़े से बड़े देश भारत की ओर देखने को मजबूर हुए हैं।

राष्ट्र विरोधी तत्वों पर कड़ी कार्रवाई करने की जरूरत

अभी हाल ही में उनकी तीन देशों फ्रांस, जर्मनी और कनाडा की यात्रा संपन्न हुई है, जिसमें उन्होंने भारत की बदली हुई छवि को दुनिया के सामने प्रभावी ढंग से रखा। यही वजह है कि कुछ दिनों पहले विभिन्न कारणों से छोटे-बड़े देश भारत को आंख दिखाने लगे थे और विदेशी निवेशक भारत से मुंह मोड़ने लगे थे अब यहां आने और संबंधों को आगे बढ़ाने के प्रति उत्सुकता दिखाने लगे हैं। उन्हें भारत में संभावना नजर आने लगी है तो उसकी वजह नरेंद्र मोदी के भी प्रयास हैं।

फ्रांस, जर्मनी व कनाडा में मेक इन इंडिया का नारा

वे देशवासियों में लगातार भरोसा पैदा कर रहे हैं। बराक ओबामा ने भारतीय प्रधानमंत्री के बारे में कहा है कि उनके पास विकास करने, गरीबी हटाने, शिक्षा में सुधार लाने और लड़कियों व महिलाओं का सशक्तिकरण करने का महत्वाकांक्षी दृष्टिकोण है। बराक ओबामा के अनुसार गरीबी के दिनों से प्रधानमंत्री बनने तक की मोदी की जीवन यात्रा में भारत के उदय की गतिशीलता और क्षमता की झलक दिखती है।

प्रधानमंत्री के बारे में ओबामा का यह उल्लेख विश्व समुदाय को एक सकारात्मक संदेश जाना स्वाभाविक है। इसे सिर्फ एक नेता का दूसरे नेता की प्रशंसा भर मान कर खारिज नहीं किया जा सकता है बल्कि ओबामा ने नरेंद्र मोदी की वास्तविक क्षमताओं के बारे में जो अनुभव किया है, उसे ही दुनिया को बताया है। इसमें कोई दो राय नहीं कि सत्ता में आने के बाद उनकी सरकार ने देश की आर्थिक क्षमताओं को उभारा है।

हाल ही में अंतर्राष्ट्रीय रेटिंग एजेंसियों ने भारत की आर्थिक साख परिदृश्य को स्थिर से बढ़ाकर सकारात्मक करार दिया है। यही नहीं विश्व बैंक और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष जैसी संस्थाओं ने भी मोदी सरकार के सुधारवादी कदमों से प्रभावित होकर अनुमान लगाया है कि आने वाले साल में भारत आर्थिक विकास के मामले में चीन को पीछे छोड़ देगा और दुनिया की सबसे तेज विकास कर रही अर्थव्यवस्था बन जाएगा।

जाहिर है, इससे भारत के प्रति निवेशकों के मन में सकारात्मक धारणा बनेगी और वे यहां पूंजी निवेश के लिए आकर्षित होंगे। ऐसे समय में जब अंतर्राष्ट्रीय जगत में मोदी सरकार अपने कामकाज से सकारात्मक संदेश देने में सफल हो रही है तब ज्यादातर विपक्षी राजनीतिक दल नकारात्मक संदेश देने का काम कर रहे हैं कि राजग सरकार कॉरपोरेट जगत के हित में काम कर रही है। जिस तरह से कुछ मसलों पर विपक्ष टकराव की स्थिति पैदा कर रहा है या कहें कि बाधा पैदा करने की कोशिश कर रहा है वह कोई शुभ संकेत नहीं है। बेहतर होगा कि सत्तापक्ष तथा विपक्ष विभिन्न मसलों पर आम राय बनाकर देश में आर्थिक विकास की राह आसान बनाएं।

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top