Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

प्रमोद जोशी का लेख : उम्मीदों पर हावी असमंजस

भारत के सामने इस साल तीन बड़ी चुनौतियां हैं। ओमिक्रॉन, अर्थव्यवस्था और चुनाव। महामारी का तीनों से रिश्ता है। पिछले साल अप्रैल-मई में दूसरी लहर के कहर को याद करके डर लगता है। भारत को इस बात का श्रेय भी जाता है कि उसने हालात को काबू में करके दिखाया, पर क्या आगामी चुनौती का सामना कर पाएंगे? देश की आजादी के 75वें साल का समापन इस साल होगा। यह ऐतिहासिक वर्ष है। अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष और विश्व बैंक की भविष्यवाणी है कि इस साल भारत की पूरे वेग के साथ वापसी होने वाली है।

प्रमोद जोशी का लेख : उम्मीदों पर हावी असमंजस
X

प्रमोद जोशी

प्रमोद जोशी

नए साल की शुरुआत वैष्णो देवी परिसर में हुई दुखद दुर्घटना के साथ हुई है। कुछ समय पहले लगता था कि 2022 का साल संभावनाओं और समाधानों को लेकर आएगा, पर आज यह कोहरे में लिपटी धूप जैसा है। खट्टा-मीठा या गुनगुना सा एहसास है। शुरुआत एक नए वैश्विक-असमंजस के साथ हुई है। वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी के इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ मीट्रिक्स एंड इवेल्यूएशन (आईएचएमई) का अनुमान है कि अगले दो महीने में कोविड-19 के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित लोगों की संख्या तीन अरब के ऊपर पहुंच जाएगी। यह संख्या पिछले दो साल में संक्रमित लोगों की कुल-संख्या से कई गुना ज्यादा है।

तीन चुनौतियां

भारत के सामने इस साल तीन बड़ी चुनौतियां हैं। ओमिक्रॉन, अर्थव्यवस्था और चुनाव। महामारी का तीनों से रिश्ता है। पिछले साल अप्रैल-मई में दूसरी लहर के कहर को याद करके डर लगता है। भारत को इस बात का श्रेय भी जाता है कि उसने हालात को काबू में करके दिखाया, पर क्या आगामी चुनौती का सामना कर पाएंगे? देश की आजादी के 75वें साल का समापन इस साल होगा। यह ऐतिहासिक वर्ष है। अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष और विश्व बैंक की भविष्यवाणी है कि इस साल भारत की पूरे वेग के साथ वापसी होने वाली है। दुनिया की सबसे तेज अर्थव्यवस्था। 2019 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि 2024-25 तक हम देश को पांच ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था बना देंगे। फिलहाल ऐसा होता लग नहीं रहा है। दस फीसदी या उससे भी ज्यादा की वार्षिक दर हो, तब भी नहीं। फिर भी, शायद इस साल अर्थव्यवस्था तीन ट्रिलियन पार कर लेगी।

ओमिक्रॉन का खतरा

ओमिक्रॉन पहेली बनकर सामने आया है। यह जबर्दस्त तेजी से फैलने वाला वैरिएंट है, इसलिए खतरनाक है, पर इसका असर काफी हल्का है, साधारण फ्लू का दशमांश, इसलिए खतरनाक नहीं है। शायद वह दुनिया को कोविड-19 से बाहर निकालने के लिए आया है। इसके बाद यह बीमारी साधारण फ्लू बनकर रह जाएगी। पर क्या यह 'शायद' सच होगा? नए साल के पहली सुबह तक भारत में एक 145 करोड़ से ज्यादा टीके लग चुके हैं। यह संख्या लक्ष्य से कुछ पीछे जरूर है, पर संतोषजनक है। लक्ष्य था पूरी वयस्क आबादी को टीके लगवाने का, पर ऐसा संभव नहीं हो पाया है। पिछले साल 16 जनवरी से शुरू हुआ टीकाकरण अभियान लगातार जारी है। यह अभियान कई चरणों में चला है। शुरू में हेल्थकेयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स, 50 से अधिक उम्र के लोगों और कोमॉर्बिडिटी वाले लोगों को टीका लगाने की घोषणा हुई थी। बाद में 50 के बजाय 45, फिर 18 से ऊपर और अब किशोरों को भी टीका लगाया जा रहा है। बच्चों की वैक्सीन भी तैयार है। हालांकि भारत में एंटी-वैक्सीन आंदोलन उतना व्यापक नहीं है, जितना अमेरिका और यूरोप में है, पर शुरू से ही वैक्सीन-भय का माहौल है। इसी वजह से बड़ी संख्या में स्वास्थ्य-कर्मियों और फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं ने पहला टीका लगवाने के बाद दूसरा नहीं लगाया। देश में इस बात को लेकर आपत्ति जताई जा रही है कि कानून वैक्सीन अनिवार्य नहीं है, तब ट्रेन, बसों और हवाई-यात्राओं में टीके के प्रमाणपत्र की जरूरत क्यों है?

मोदी की प्रतिष्ठा

गुजरे साल में कोविड-9 से लेकर किसान आंदोलन तक कई कारणों से नरेंद्र मोदी के नेतृत्व को चुनौतियां मिलीं। पेट्रोल की कीमतों ने नाक में दम कर दिया। तीन कृषि-कानूनों को वापस लेकर उन्होंने अपनी निजी प्रतिष्ठा तक को दांव पर लगा दिया। इस साल उन्हें अपनी प्रतिष्ठा को पुनर्स्थापित करने के कुछ मौके मिलेंगे। उन्हें चुनौती देने वाली कोई ताकत सामने नहीं है, पर बंगाल की सफलता से ममता बनर्जी ने खुद को विपक्ष का नेता साबित करने का अभियान शुरू किया है। जिस तरह से गोवा में उनकी पार्टी सक्रिय हुई है, उससे लगता है कि इस साल राजनीतिक पिटारे में कई रोचक संभावनाएं बैठी हैं। इस साल चुनाव ही चुनाव हैं, जिनमें ताकत का पता लगेगा। साल का यक्ष-प्रश्न है, क्या कांग्रेस का क्षरण जारी रहेगा? क्या उसके नए अध्यक्ष की घोषणा होगी? ममता बनर्जी क्या विपक्ष की एकछत्र नेता बनकर उभरेंगी? योगी आदित्यनाथ क्या उत्तर प्रदेश के नए लोह-पुरुष साबित होंगे? ऐसे तमाम सवालों के जवाब इस साल की झोली में हैं।

आर्थिक-मोर्चा

गुजरे साल के आखिरी दिन जीएसटी कौंसिल ने 1 जनवरी से कपड़े पर 5 फीसदी के बजाय 12 फीसदी जीएसटी लगाने के फैसले को स्थगित कर दिया है, पर जूतों पर वृद्धि वापस नहीं ली गई है। व्यापारियों का कहना है कि अभी तक जीएसटी एक स्थिर कर प्रणाली नहीं बन पाई है। विसंगतियों के कारण यह बहुत ही जटिल कर प्रणाली बन गई है। महीने के अंत में आर्थिक समीक्षा के रूप में आर्थिक-संवृद्धि के प्रक्षेपवक्र यानी ट्रैजेक्टरी के पहले संकेतक सामने आएंगे।

आम-बजट को लेकर उत्सुकताएं हैं। उम्मीद है कि ग्रामीण क्षेत्रों में खपत बढ़ाने की खातिर अधिक आवंटन और प्रोत्साहनों की घोषणाएं होंगी। सरकार को इंफ्रास्ट्रक्चर पर निवेश बढ़ाना पड़ा है, जो जारी रहेगा। इससे राजकोषीय घाटा बढ़ेगा। चालू वित्त वर्ष में यह घाटा जीडीपी के 6.8 फीसदी पर भी रहा, तो यह संतोष की बात होगी। बहरहाल 2020-21 में जीडीपी में संकुचन आया था, जिसे पूरा कर लिया गया है। अर्थव्यवस्था कोरोना-पूर्व स्तर पर वापस आ गई है। चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में जीडीपी ग्रोथ 8.4 फीसदी रही है। पहली तिमाही संवृद्धि में 20.1 फीसदी रही। अनुमान है कि वित्त वर्ष के अंत तक अर्थव्यवस्था 9.5 फीसदी की वृद्धि दर हासिल कर लेगी या उसे पार कर जाएगी।

विदेश नीति

विदेश-नीति के मोर्चे पर भारत की सबसे बड़ी परीक्षा अपने आसपास के देशों के साथ रिश्तों को बनाए रखने की है। चीन के साथ 13 दौर की वार्ता के बाद भी पूर्वी लद्दाख का गतिरोध जारी है। मालदीव में भारत-विरोधी ताकतें फिर से सक्रिय हैं, जो इन दिनों इंडिया-आउट अभियान चला रही हैं। इसके पीछे पाक-चीन की भूमिका है। विदेश-नीति की दूसरी परीक्षा अफगानिस्तान में है। भारत ने मध्य एशिया के पांच देशों और ईरान के साथ संपर्क बनाया है, जिसका लाभ मिल रहा है। भारत-अमेरिका सामरिक रिश्तों में सुधार है, पर आर्थिक-रिश्तों में अब भी अड़चनें हैं।

विज्ञान और तकनीक

इस साल गगनयान के दो मानवरहित प्रक्षेपण होंगे। इसके बाद होगी 2023 के शुरू मेंसमानव उड़ान होगी, जिसमें तीन अंतरिक्ष-यात्री जाएंगे। शुक्र-अभियान भी इसी सालभेजा जाएगा, उसके बाद सौर-अभियान आदित्य। महामारी के कारण चंद्रयान-3 में देरी हुई और वह भी इस साल की तीसरी तिमाही में लांच होगा। इसरो ने पृथ्वी की निचली कक्षा में उपग्रह स्थापित करने के लिए स्मॉल सैटेलाइट लांच वेहिकल का विकास भी किया है। इसका पहला प्रक्षेपण 2022 की पहली तिमाही में होगा। यानी एक के बाद एक परीक्षण आप देखेंगे। डीआरडीओ की हाइपर-सोनिक मिसाइल का परीक्षण भी इस साल हो सकता है। तेजस मार्क-2 का पहला प्रोटोटाइप भी इस साल तैयार हो सकता है।

Next Story