Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

उज्जैन के DM और SP बुधवार की रात क्यों गए थे महाकाल मंदिर, विकास दुबे की गिरफ्तारी पर उठ रहे ये दस सवाल

उज्जैन के डीएम और एसपी बुधवार की रात 10.30 बजे अचानक महाकाल मंदिर पहुंचे थे। सवाल उठ रहे हैं कि डीएम और एसपी का अचानक से उज्जैन के महाकाल मंदिर में पहुंचना और अगली सुबह विकास दुबे की गिरफ्तारी में क्या संबंध है?

उज्जैन के DM और SP बुधवार की रात क्यों गए थे महाकाल मंदिर, विकास दुबे की गिरफ्तारी पर उठ रहे ये दस सवाल
X
विकास दुबे

कानपूर शूटआउट में आठ पुलिसवालों की जान लेने वाला गैंगस्टर विकास दुबे आज गुरूवार को उज्जैन के महाकाल मंदिर से गिरफ्तार कर लिया गया। इस गिरफ्तारी को विकास दुबे की सोची-समझी साजिश मानी जा रही है।

जानकारी के मुताबिक उज्जैन के डीएम और एसपी बुधवार की रात 10.30 बजे अचानक महाकाल मंदिर पहुंचे थे। सवाल उठ रहे हैं कि डीएम और एसपी का अचानक से उज्जैन के महाकाल मंदिर में पहुंचना और अगली सुबह विकास दुबे की गिरफ्तारी में क्या संबंध है?

पुलिस आने तक क्यों मंदिर में ही रहा विकास दुबे

विकास दुबे की गिरफ्तारी के बाद से ही कई सवाल उठने खड़े हो गए हैं। जानकारी के मुताबिक जब विकास दुबे सुबह मंदिर पहुंचा, तब उसने वहां पर्ची कटाकर दर्शन किया। फिर गार्ड को अपना परिचय देकर पुलिस के आने तक वहीं मौजूद रहा। इसके बाद पुलिस ने आकर विकास दुबे को गिरफ्तार कर लिया।

उठ रहे ये सवाल

- कानपूर के शूटआउट में डीएसपी रैंक के सीओ समेत आठ पुलिसवालों की हत्या करने के बाद विकास दुबे दो दिनों तक कानपुर में ही मौजूद रहा। जानकारी के मुताबिक, दो दिनों तक वो शिवली के अपने दोस्त के घर रहा, लेकिन यूपी एसटीएफ और 40 थानों की पुलिस उसे ढूंढ़ने में नाकाम साबित हुई।

- कानपूर के बाद वो एक ट्रक में सवार होकर 92 किमी दूर औरैया पहुंच गया। लेकिन पुलिस उसे नहीं पकड़ पाई।

- औरैया से वो फरीदाबाद गया। उसने 385 किमी की दूरी एक कार में तय की। लेकिन पुलिस की सारी नाकाबंदी फेल हो गई और विकास दुबे पकड़ा नहीं गया।

- फरीदाबाद की सीसीटीवी फुटेज में देखा गया कि वो ऑटो में बैठा। लेकिन पुलिस वहां भी उसे पकड़ पाने में नाकाम रही। फरीदाबाद में वो अपने एक ऱिश्तेदार के घर रूका लेकिन पुलिस आने से पहने फरार हो गया। पुलिस यहां भी फेल हो गई।

- फरीदाबाद से वो उज्जैन गया। उसके पास उज्जैन जाने के दो रास्ते थे। एक तो हरियाणा और राजस्थान के रास्ते वो उज्जैन जा सकता था, या फिर हरियाणा और यूपी के रास्ते से वो मध्यप्रदेश तक पहुंचा था। इस 773 किमी की दूरी में पुलिस उसे नहीं पकड़ पाई।

- जब वो उज्जैन में दर्शन करके निकला तो पुलिस उसका इंतजार कर रही थी। उसकी गिरफ्तारी के लिए किसी एसटीएफ कमांडो या एटीएस की जरूरत नहीं पड़ी। सवाल ये है कि जिसने 6 दिनों तक इतने राज्यों की पुलिस को चकमा दिया, वो पुलिस के आने तक मंदिर में क्यों खड़ा रहा?

- इतने दिनों तक पुलिस के आसपास रहकर भी वो पुलिस को नजर नहीं आया। इससे ये साफ पता लगता है कि इसमें खाकी से लेकर खादी तक वाले लोग मिले हुए है।

- मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि विकास दुबे का सीधा संबंध भाजपा के मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा से है। सवाल ये है कि कांग्रेस खुलकर ऐसा आरोप क्यों लगा रही है?

Next Story