Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

देश में 15 अप्रैल से शुरू हो सकती हैं ये कंपनियां, यहां पढ़ें पूरी डिटेल!

इंडस्ट्री सेक्रेटरी गुरु प्रसाद गुप्ता ने बताया कि बड़े और छोटे सेक्टर्स की कंपनियों में काम शुरू करने की अनुमति दी गई है।

देश में 15 अप्रैल से शुरू हो सकती हैं ये कंपनियां, यहां पढ़ें पूरी डिटेल!
X

केंद्र की मोदी सरकार ने रविवार को लॉकडाउन में बड़ी राहत देने की बात कही थी। खबरों की मानें तो मोदी सरकार ने देश में लॉकडाउन के बीच करीब 15 इंडस्ट्री और सड़कों पर दुकान लगाने वालों को काम करने की अनुमति दे दी है।

इन सबके अलावा सरकार ने ट्रक, रिपेयरिंग करने वालों को भी काम करने की अनुमति दी है। केंद्र सरकार ने सभी जरूरी आर्थिक गतिविधियों को शुरू करने के लिए यह निर्णय लिया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस बात की जानकारी होम सेक्रेटरी अजय भल्ला को इंडस्ट्री सेक्रेटरी गुरु प्रसाद गुप्ता ने दी है। उन्होंने यह भी बताया कि बड़े और छोटे सेक्टर्स की कंपनियों में काम शुरू करने की अनुमति दी गई है। इसके अलावा यह भी कहा गया है, काम करने वालों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना जरूरी है।

इन उद्योगों को काम करने की अनुमति

* केंद्र सरकार के द्वारा टेक्सटाइल, ऑटोमोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक मेन्यूफैक्चरिंग जैसा कार्य करने वाली बड़ी कंपनियों को सिंगल शिफ्ट में काम करने की अनुमित दी जा सकती है। लेकिन उन्हें सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना अनिवार्य होगा।

* एक्सपोर्ट करने वाली कंपनियों और लघु उद्योगों को मिनिमम मैनपॉवर के साथ काम करने की अनुमति दी जा सकती है।

* इन उद्योगों को सैनिटाइजेशन, सोशल डिस्टेंसिंग और सुरक्षा के इंतजाम करने पर न्यूनतम कर्मचारियों के साथ काम करने की केंद्र सरकार के द्वारा दी जा सकती है।

- भारी इलेक्ट्रिकल आइटम जैसे:- ऑप्टिक फाइबर केबल सहित टेलीकॉम इक्विपमेंट और पुर्जे, ट्रांसफार्मर और सर्किट व्हीकल्स,

कंप्रेसर और कंडेनसर यूनिट, स्पिनिंग और जिनिंग मिल, स्टील और फेरस अलाय मिल, पावर लूम, रक्षा और संबंधित उत्पाद बनाने वाले यूनिट, सीमेंट प्लांट आदि, लेकिन सुरक्षा सैनिटेशन और डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करने पर अनुमति दी जा सकती है।

- लकड़ी का पल्प और कागज निर्माण इकाइयां, पेंट और डाई उत्पादन की इकाइयां, सभी प्रकार के खाने-पीने की वस्तुएं, प्लास्टिक उत्पादन इकाइयां, बीज प्रोसेसिंग इकाइयां, ऑटो मोबाइल इकाइयां

- रत्न और आभूषण निर्माण की इकाइयां, इसके अलावा सभी एसईजेड और विशेष आर्थिक जोन में उत्पादन की अनुमित रहेगी। लेकिन उन्हें सैनिटाइजेशन और डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करना अनिवार्य होगा।

सरकार ने इन्हें लॉकडाउन से रखा बाहर

* गृह मंत्रालय ने पहले ही लगातार उत्पादन करने वाले उद्योग जैसे:- स्टील, पावर और माइनिंग को लॉकडाउन से बाहर रखा है। लेकिन सैनिटाइजेशन और डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करना अनिवार्य होगा।

* हाउसिंग और कंस्ट्रक्शन सेक्टर को कार्य करने की अनुमति दी जा सकती है। बशर्ते कंपनी को मजदूरों के लिएसाइट पर ही रहने का इंतजाम करना होगा। इसके अलावा कॉन्ट्रैक्टर को सैनिटाइजेशन और डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करना होगा।

* छोटे और बड़े सभी तरह के मालवाहक वाहनों को कहीं भी आने-जाने की अनुमति होगी।

* ऐसे सभी उद्योग को चलाने की अनुमति होगी जिसमें वह कामगारों को ड्यूटी पर बुला सकेंगे। यदि कोई मजदूर काम पर आने में असमर्थ होता है तो कंपनी या व्यक्ति उसे बिना काम के तनख्वाह देने के लिए बाध्य नहीं होगा। यह श्रम मंत्रालय की तरफ से स्पष्ट किया जाएगा।

* फल और सब्जी विक्रेता जैसे सभी स्ट्रीट वेंडर्स को काम करने की अनुमति दी जाएगी।

चुनिंदा मरम्मत यूनिट को ऑपरेट करने की इजाजत होगी

इनमें जैसे:- एयर कंडीशनर, मोबाइल, प्रेस वाले, रेफ्रिजरेटर, टेलीविजन, प्लंबिंग, चर्मकार, इलेक्ट्रीशियन, ऑटोमोबाइल मैकेनिक, साइकिल रिपेयर मैकेनिक को कार्य करने की अनुमित दी जाएगी।

* रबर से बनी चीजों के लिए उत्पादन को मंजूरी दी गई है। रबर से मेडिकल और हेल्थ केयर के साथ ही घरेलू कामों में काम आने वाली चीजें बनती हैं। लेकिन मैन्यूफैक्चिरिंग के दौरान सेफ्टी, सैनिटेशन और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना जरूर है।

लकड़ी या प्लायवुड के जरूर सामान बनाने वाली कंपनियों को अनुमति हो सकती है। फार्मा कंपनी और एफएमसीजी कंपनियां पैकेजिंग में इस्तेमाल करती है।

* कांच और मेटल इंडस्ट्रीज को कम से कम कर्मचारियों के साथ मैन्यूफैक्चिरिंग की मंजूरी।

* बैंक और कस्टम डिजिटल डॉक्यूमेंट्स बॉन्ड्स के साथ स्वीकार कर सकेंगे।

* खेती यानी एग्रीकल्चर से जरूरी सभी गतिविधियों को मंजूरी।

Next Story