Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

रेलवे डीजी आनंद एस खाती ने कहा नहीं जाएगी कोई भी नौकरी, भर्ती भी नहीं होंगी कम

रेलवे डीजी आनंद एस खाती ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि रेलवे में न तो किसी की नौकरी जा रही है और न ही भर्तियां कम की जा रही हैं।

Railway DG Anand S Khati said - no job will not go, recruitment will not be less
X
भारतीय रेल

रेलवे डीजी आनंद एस खाती ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि रेलवे में न तो किसी की नौकरी जा रही है और न ही भर्तियां कम की जा रही हैं। उन्होंने बताया कि ट्रेन संचालन और रखरखाव के लिए आवश्यक किसी भी सुरक्षा श्रेणी की नौकरियों को सरेंडर नहीं किया जाएगा। गैर-सुरक्षा के खाली पदों को सरेंडर करने से रेलवे इन्फ्रास्ट्रक्चर की नई परियोजनाओं के लिए और ज्यादा सेफ्टी वाली वैकेंसी निकालने में मदद मिलेगी। रेलवे में इस्तेमाल हो रही आधुनिक टेक्नोलॉजी के जरिए नए सेक्टर्स बन रहे है। ऐसे में संसाधनों का सही इस्तेमाल करना बहुत जरूरी है। इसीलिए विभिन्न श्रेणियों के पदों के लिए सभी चल रहे भर्ती अभियान हमेशा की तरह जारी रहेंगे। रेलवे में नौकरियों की कटौती नहीं होगी।

भर्तियों का प्रोसेस जारी रहेगा- रेलवे का 65 फीसदी खर्चा कर्मचारियों की वेतन और पेंशन पर होता है। उन्होंने बताया कि साल 2019 में जो 1,46,640 पोस्ट के लिए भर्ती का प्रोसेस शुरू किया गया था वो जारी है, उसमें कोई बदलाव नहीं किया गया है। लेकिन 68 हज़ार नॉन सेफ्टी कैटोगरी में भर्ती बची हुई हैं, इसका रिव्यू किया जा रहा है। आपको बता दें कि मार्च महीने से लागू देशव्‍यापी लॉकडाउन के कारण रेलवे को भारी नुकसान उठा पड़ा है।

रेलवे की ओर से 12 अगस्‍त तक नियमित ट्रेनों का संचालन भी बंद रहेगा। ऐसे में हो रहे भारी नुकसान को कम करने के लिए रेलवे ने अपने खर्च में कटौती का फैसला लिया है, जिसके अंतर्गत नई भर्तियों पर रोक तथा पुरानी भर्तियों की समीक्षा की जा रही है।

आपको बता दें कि शुक्रवार को कई मीडिया रिपोर्ट्स में खबरें आई थीं कि भारतीय रेलवे ने सेफ्टी को छोड़कर सभी नए पदों के लिए आवेदन रद्द कर दिए हैं। अगले आदेश तक फिलहाल रेलवे में कोई नई भर्तियां नहीं होंगी। वहीं, मंत्रालय से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, पिछले 2 सालों में खाली पदों के लिए भर्ती की समीक्षा की जाएगी। सेफ्टी कैटेगरी को छोड़कर 50 फीसदी पदों के लिए वैकेंसी नहीं निकाली जाएंगी।

और पढ़ें
Next Story