Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Ayodhya Land Scam: रणदीप सुरजेवाला बोले- राम के नाम पर घोटाला हुआ है, पीएम चुप क्यों हैं, जानें क्या है मामला

अयोध्या जमीन विवाद को लेकर समाजवादी पार्टी और आम आदमी पार्टी ने जमीन की खरीद में करोड़ों की वित्तीय अनियमितता का आरोप लगाया है। जिसके बाद कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने पीएम मोदी पर निशाना साधा है।

Ayodhya Land Scam: रणदीप सुरजेवाला बोले- राम के नाम पर घोटाला हुआ है, पीएम चुप क्यों हैं, जानें क्या है मामला
X

उत्तर प्रदेश के अयोध्या (Ayodhya) में बन रहे राम मंदिर (Ram Temple) को लेकर एक बड़ा जमीन घोटाला सामने आया है। समाजवादी पार्टी और आम आदमी पार्टी ने राम मंदिर के लिए जमीन की खरीद में करोड़ों की वित्तीय अनियमितता का आरोप लगाया है। जिसके बाद कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने पीएम मोदी पर निशाना साधा है।

विपक्ष ने उठाए सवाल

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, अयोध्या जमीन विवाद को लेकर कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि आस्था का सौदा करना पाप है। भगवान राम आस्था का प्रतीक हैं। भाजपा ने भवगान के चरित्र से कुछ नही सीखा, राम मंदिर चंदे में घोटाला किया गया है। आखिर पीएम चुप क्यों हैं। इस मामले का खुलासा बीते रविवार को हुआ।

सपा और आप ने लगाए आरोप

आम आदमी पार्टी से राज्यसभा सांसद संजय सिंह और अयोध्या से समाजवादी पार्टी के पूर्व विधायक पवन पांडे ने आरोप लगाया कि मंदिर परिसर के लिए खरीदी गई जमीन की डील में गड़बड़ी हुई है। ट्रस्ट ने 2 करोड़ रुपये की जमीन का समझौता सिर्फ 10 मिनट के अंदर ही साढ़े 18 करोड़ रुपये में कर दिया।

ट्रस्ट ने आरोपों को किया खारिज

हालांकि, मंदिर ट्रस्ट ने आरोपों को खारिज कर दिया है। आरोपों पर कहा कि हम आरोपों से डरते नहीं हैं। हम पर महात्मा गांधी की हत्या का भी आरोप लगाया गया है। हम आरोपों का अध्ययन करेंगे। एक संवाददाता सम्मेलन में संजय सिंह ने दावा किया कि अयोध्या में जमीन का गाटा नंबर 243, 244, 246, जिसकी कीमत 5 करोड़ 80 लाख रुपये है। पहले 2 करोड़ रुपये में खरीदा गया था, उसके बाद सुल्तान द्वारा करोड़ों की हेराफेरी की गई। उन्होंने आरोप लगाया कि अयोध्या के मेयर भी इस घोटाले के गवाह बने हैं। जमीन को लेकर दो समझौते हुए हैं।

ट्रस्ट के सदस्य अनिल कुमार मिश्रा दोनों समझौतों के गवाहों में से एक हैं। अयोध्या के मेयर ऋषिकेश उपाध्याय भी आम गवाह हैं। पांडे ने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि ट्रस्ट और मेयर को इस धोखाधड़ी की पूरी जानकारी थी। मंदिर के लिए दिया जाने वाला पैसा करोड़ों हिंदुओं से आता है। इसे धोखे से इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है।

Next Story