Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दीपिका पादूकोण ने एक्सपर्ट से सुसाइड और डिप्रेशन पर की चर्चा, देखें वीडियो

दीपिका अपने इंस्टाग्राम में लगातार स्टोरी शेयर कर रही हैं(Deepika Padukone On Instagram)। वहीं सुशांत (Sushant Singh Rajput) के जाने के बाद दीपिका ने एक पोस्ट शेयर की थी जिसमें लिखा था कि एक व्यक्ति के रूप में जिसे मानसिक बीमारी (Mental Health) के साथ एक जीवित अनुभव हुआ है, मैं बाहर पहुंचने के महत्व के बारे में पर्याप्त तनाव नहीं कर सकती। वहीं दीपिका ने हाल में सोशल मीडिया (Social Media) पर मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों से सुसाइड, डिप्रेशन (Depression) पर बात की।

दीपिका पादूकोण ने एक्सपर्ट से सुसाइड और डिप्रेशन पर की चर्चा, देखें वीडियोदीपिका पादूकोण ने एक्सपरर्ट से की बातचीत (फाइल फोटो)

बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput Suicide) के निधन के बाद से सभी को एक बहुत बड़ा धक्का लगा है। वहीं सुशांत की आत्महत्या के बाद से ज्यादातर लोग इसको लेकर डिबेट करते हुए नजर आ रहे हैं। वहीं लोगों को जागरूक कर रहे हैं। जिसमें एक नाम दीपिका पादूकोण (Deepika Padukone) का भी शामिल है। दीपिका अपने इंस्टाग्राम में लगातार स्टोरी शेयर कर रही हैं (Deepika Padukone On Instagram)। वहीं सुशांत के जाने के बाद दीपिका ने एक पोस्ट शेयर की थी जिसमें लिखा था कि एक व्यक्ति के रूप में जिसे मानसिक बीमारी के साथ एक जीवित अनुभव हुआ है, मैं बाहर पहुंचने के महत्व के बारे में पर्याप्त तनाव नहीं कर सकती। वहीं दीपिका ने हाल में सोशल मीडिया पर मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों से सुसाइड, डिप्रेशन पर बात की। उन्होंने अपने संगठन, लाइव लव लाफ फाउंडेशन के यूट्यूब चैनल पर डॉ श्याम भट और डॉ सौमित्र पाथरे के साथ अपनी बातचीत का एक वीडियो भी शेयर किया है।

मेंटल हेल्थ पर प्राथमिकता देने की जरूरत है

वहीं दीपिका ने वीडियो शेयर करते हुए लिखा है कि मैंने 5 साल से ज्यादा समय पहले यह सफर शुरू किया था। वहीं हाल ही में हुई दुखद घटनाओं ने हमें सभी को एहसास दिलाया है कि अब पहले से कहीं ज्यादा मेंटल हेल्थ पर प्राथमिकता देने की जरूरत है। इसके साथ ही उन्होंने #SuicidePrevention का इस्तेमाल किया है।

15-25 वर्ष के बीच के लोगों में सुसाइड के केस ज्यादा

वीडियो में दीपिका ने आत्महत्या के पीछे के प्राथमिक कारणों के बारे में डॉक्टरों से पूछते हुए नजर आ रही हैं। क्या यह मानसिक बीमारी का परिणाम है या ऐसी किसी घटना से उत्पन्न हो सकती है। जिसपर विशेषज्ञों का कहना है कि 15-25 वर्ष के बीच के लोगों में सुसाइड के केस ज्यादा देखने को मिलते हैं। और सही समय पर हस्तक्षेप से इसे कैसे रोका जा सकता है। उन्होंने इस बात पर भी चर्चा की कि किसी व्यक्ति की आत्महत्या का कारण किसी व्यक्ति या घटना को दोष देना है या नहीं।

उदासी उदास होने के समान नहीं

आपको बता दें कि दीपिका ने पिछले कुछ दिनों में मानसिक स्वास्थ्य पर कई स्टोरी शेयर की हैं। दीपिका ने एक फोटो शेयर की थी जिसमें लिखा था रिपीट आफ्टर मी। उदासी उदास होने के समान नहीं है।

Also Read: Viral Video: जब सुशांत ने डांस के जरिए जीता था लोगों का दिल, परर्फोमेंस के दौरान मां को याद करके रो पड़े थे

पहले भी दीपिका मेंटल हेल्थ पर बात कर चुकी हैं

इससे पहले भी दीपिका मेंटल हेल्थ पर बात कर चुकी हैं। जिसमें उन्होंने बताया था कि एक वक्त था जब वो भी डिप्रेशन का शिकार हो गई थीं। वे उस समय डिप्रेशन में गई जब उनका करियर कामयाबी की तरफ था। वो अपने रिलेशनशिप के कारण काफी स्ट्रेस में आ गई थीं।

Next Story
Top