Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

गर्भावास्था में गोंद के लड्डू खाने के फायदे

गर्भावास्था में गोंद के लड्डू खाने के फायदे के बारे में बात करें तो गोंद की तासीर गर्म होती हैं, इसके साथ ही गोंद में गैलेक्टोज, एरेबिक एसिड, कैल्शियम तथा मैग्नीशियम पोटासियम, और शर्कराएँ, कुछ अम्ल और सेलूलोज़ के लवण पाए जाते हैं। जो महिलाओं के शरीर की शक्ति को बढ़ाने के साथ कई बीमारियों से बचाने में भी कारगर भूमिका निभाता है। ऐसे में आज हम आपको गर्भावास्था में गोंद के लड्डू खाने के फायदे बता रहे हैं।

गर्भावास्था में गोंद के लड्डू खाने के फायदे

गर्भावास्था में गोंद के लड्डू खाने के फायदे (Gond ke Laddu Kahane ke Fyade) और गोंद से जुड़ी अन्य जानकारियां लेकर आएं हैं। गर्भावास्था और प्रसव (डिलीवरी) के बाद में गोंद के लड्डू खाना महिलाओं के लिए बेहद फायदेमंद होता है। इससे शिशु का विकास बेहतर होने के साथ शिशु के जन्म के बाद होने वाली शारीरिक कमजोरी दूर करने में सहायक होता है। ऐसे में आइए जानते हैं भारतीय डिस्कवरी डॉट कॉम और टाइनी स्टेप डॉट कॉम के मुताबिक, गर्भावास्था में गोंद के लड्डू खाने के फायदे (Benefits of Gond Laddu In Pregnancy)...




क्या होता है गोंद / What is Gond

गोंद एक बेहद गर्म पदार्थ होता है। जो कोशिका भित्ती के सेलूलोज के टूटने से बनता है। आमतौर पर ये सूखी अवस्था में पाया जाता है। लेकिन पानी के संपर्क में आने पर ये एक चिपचिपे पदार्थ में बदल जाता है। गोंद बबूल, आम और नीम के पेड़ों से पाया जाता है। बबूल के पेड़ से मिलने वाले गोंद का खाने के अलावा औषधि में उपयोग किया जाता है। जबकि अन्य पेड़ों से मिलने वाले गोंद का प्रयोग कागज और कपड़ों को चिपकाने के साथ छपाई के काम आता है।




गोंद का उत्पादन / Gond Production

गोंद का उत्पादन भारत के राजस्थान में सबसे ज्यादा किया जाता है। अफ्रीका के पश्चिम देश सेनीगल के गोंद को दुनिया में सबसे ज्यादा अच्छा माना जाता है। इसके अलावा अस्ट्रेलिया के कई गर्म हिस्सों में गोंद का उत्पादन किया जाता है। गोंद के 3 प्रकार होते हैं। इन्हें बबूल, आम और नीम के पेड़ों से निकाला जाता है।

गोंद के पौषक तत्व / Gond Nutirious Value

गैलेक्टोज

एरेबिक एसिड

कैल्शियम

मैग्नीशियम

पोटेशियम

एसिड

सेलूलोज़

गर्भावास्था में गोंद के लड्डू खाने के फायदे /Benefits of Gond Laddoo in Pregnancy




1. गर्भावास्था में गोंद के लड्डू खाने के फायदे के बारे में बात करें तो इसका सेवन करने से गर्भवती महिलाओं को कमर में होने वाले दर्द और जोड़ों में होने वाले दर्द को कम करने में मदद मिलती है।

2. गर्भावास्था के दौरान और डिलीवरी के बाद महिलाओं के लिए गोंद के लड्डू खाना बेहद फायदेमंद होता है। क्योंकि इससे उनकी शारीरिक कमजोरी दूर होती है और साथ ही शरीर को इंस्टेंट ऊर्जा मिलती है।




3.गर्भावास्था में गोंद के लड्डू खाने से महिलाओं के साथ उनके शिशु दोनों की हड्डियों मजबूत बनती हैं, क्योंकि गोंद में उच्च मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है। इसके साथ ही शिशु के विकास में सही ढंग से हो पाता है।

4.अगर महिलाओं को शिशु स्तनपान कराने में दिक्कत महसूस होती है, तो ऐसे में उन्हें नियमित रुप से 1-2 गोंद के लड्डू का सेवन जरुर करना चाहिए। क्योंकि इससे स्तनों में दूध की मात्रा बढ़ाने में मदद मिलती है।




5. गर्भावास्था के दौरान रोजाना 1-2 गोंद के लड्डू खाने से महिलाओं का इम्यून सिस्टम मजबूत बनता है। जिससे मां के साथ शिशु का मौसमी बीमारियों से बचाव आसान हो जाता है।

6. डिलीवरी के बाद अक्सर महिलाओं को रीढ़ की हड्डी में दर्द की शिकायत होती है। ऐसे में अगर महिलाएं गर्भावास्था में गोंद के लड्डू का रोजाना सेवन करती हैं, तो रीढ़ की हड्डी के दर्द से निजात मिल सकता है।




7.गोंद की तासीर गर्म होती है। जिसकी वजह से गर्भावास्था और डिलीवरी के बाद के दिनों में महिलाओं को ठंड से बचाने के लिए गोंद के लड्डू का सेवन करने की सलाह दी जाती है।

8.अगर आप डायरिया या डायबिटीज के मरीज हैं, तो ऐसे में भी रोजाना गोंद के लड्डू का सेवन करना फायदेमंद साबित होता है। क्योंकि गोंद में मैग्नीशियम पोटेशियम के साथ सेलूलोज पाया जाता है। जिससे इंसुलिन का स्तर सामान्य करने में मदद मिलती है।




9. आयुर्वेद के मुताबिक, मुंह के छालों में भी गोंद के लड्डूओं का रोजाना सेवन करने से कुछ ही दिनों में निजात मिल जाता है।

10. पलाश के पेड़ से मिलने वाले गोंद का नियमित सेवन करने से वीर्य में वृद्धि होती है। इसके साथ ही पाचन संबंधी समस्या से भी छुटकारा मिलता है।




गोंद के लड्डू बनाने की सामग्री / Gond Laddu Recipe

गोंद - 125 ग्राम

छुहारा - 500 ग्राम

सूखा नारियल - 500 ग्राम

गुड़ - 500 ग्राम

घी - 500 ग्राम

बादाम - 125 ग्राम

खसखस - 50 ग्राम

इलायची - 50 ग्राम

मेथी दाना - 30 ग्राम

जायफल पाउडर - 1 छोटा चम्मच

गोंद के लड्डू बनाने की विधि / Gond Ke Laddoo Recipe

1. गोंद के लड्डू बनाने के लिए सबसे पहले एक कढ़ाही में सूखा नारियल,मेथी दाना,सौंफ, खसखस, बादाम और इलायची के दानों को डालकर सुनहरा होने तक भून लें।

2. इसके बाद इन सभी मसालों को एक मिक्सर की मदद से दरदरा पीस लें।

3. अब एक कढ़ाही में घी गर्म करें और उसमें गोंद डालकर 3-5 सेकेंड तक भून लें और अलग बर्तन में रख लें।

4. गोंद को भूनते समय सारा गोंद एक साथ न डालें, इससे कुछ गोंद बिना भुना रह सकता है।

5. इसके बाद कढ़ाही में गोंद में घी गर्म करें और उसमें गुड़ डालकर पिघलने तक पकाएं। जब तक उसमें बुलबुले ना आने लगे।

6. अब पिघले हुए गुड़ और जायफल का पाउडर को भुने हुए गोंद के बर्तन में मिलाएं और एक चम्मच से अच्छे से मिक्स करें और ठंडा होने के लिए रखें।

7. इसके बाद हाथ में घी लगाएं और थोड़ा-थोड़ा मिश्रण लेकर छोटी-छोटे लड्डू का आकार बनाएं और एक एयर टाइट कंटेनर में स्टोर करके रखें।

सुझाव :

आप चाहें तो गोंद के लड्डू में अपनी पसंद के ड्राईफ्रूट्स मिला सकते हैं।

Next Story
Top