Logo
election banner
एक्टर आमिर खान ने हाल ही में मीडिया से खुलकर बातचीत की है जिसमें उन्होंने अपने अपकमिंग प्रोजेक्ट्स और प्लानिंग के बारे में बताया है। वह किस तरह की फिल्में बनाना चाहते हैं? उनके लिए एक्टिंग के साथ फिल्म निर्माण, निर्देशन का काम कितना मुश्किल है? इन सभी के बारे में उन्होंने हरिभूमि से बातचीत की है।

Aamir Khan: पिछले दिनों 13 मार्च को आमिर खान ने अपना 59वां जन्मदिन मनाया था। वहीं हाल ही में उन्होंने खुलकर मीडिया से बातचीत की और बताया कि भविष्य में उनकी क्या योजनाएं हैं? वह किस तरह की फिल्में बनाना चाहते हैं? उनके लिए एक्टिंग के साथ फिल्म डायरेक्शन और प्रोडक्शन का काम कितना मुश्किल है? वह अब तक की अपनी फिल्म जर्नी से कितने सैटिस्फाइड हैं? हरिभूमि से बातचीत में आमिर ने इन सभी सवालों का जवाब दिया है। 

14 मार्च को आपका 59वां जन्मदिन था। आपको अपने हर जन्मदिन पर तोहफे मिलते होंगे। इनमें सबसे बड़ा तोहफा आपके लिए  कौन सा रहा?
इस सवाल का जवाब देते हुए आमिर ने कहा- "यकीन कीजिए, बचपन में मेरे जन्मदिन कैसे रहे, क्या तोहफे मिले... मिले भी या नहीं, कुछ ठीक से याद नहीं। जब एक्टर के रूप में काम करने लगा, तो मुझे अपने दर्शकों से बेतहाशा प्यार मिलने लगा। मुझसे प्यार करने वाले ये लोग मुट्ठीभर नहीं, करोड़ों में हैं। इनका प्यार अनडायल्युटेड (प्योर) है। मुझे अगर वे प्यार करते हैं तो उसके एवज में, उन्हें कुछ हासिल होने वाला नहीं, फिर भी उनका बेतहाशा प्यार मुझे हैरान करता है। मेरे अनगिनत जाने-अनजाने फैंस मेरी आंखों में खुशी के आंसू ला देते हैं। बस उनका यह प्यार मेरे लिए सबसे बेशकीमती तोहफा है।"

भविष्य में आपकी क्या योजनाएं हैं?
"योजनाएं तो दिमाग में कई हो सकती हैं, हर बार पूरी हो जाएं ऐसा भी नहीं होता। मैंने अपनी जिंदगी के 59 वर्ष पूरे कर लिए हैं, 60 में कदम रखा है। आने वाले 10-12 सालों में मैं ज्यादा से ज्यादा काम करना चाहता हूं। मैं फिल्मों की कहानी सुनकर निर्माताओं को ‘हां’ कहने में बहुत वक्त लगाता हूं। जाहिर सी बात है, मेरी एक फिल्म तीन साल में बस एक बार रिलीज होती है। अब मैं ऐसा नहीं करूंगा।

बतौर एक्टर, प्रोड्यूसर, डायरेक्टर हर तरह से मेरे आने वाले 10-12 साल बिजी रहेंगे। मुझे काम, नाम, शोहरत इस इंडस्ट्री से मिली। ऑडियंस से बेहद प्यार, कामयाबी मिली। मुझे जो मिला, वो मैं इस इंडस्ट्री को, समाज को लौटाना चाहता हूं। यह कर्ज है मुझपर इन सभी का। मैं सभी के लिए एक कंधा बनना चाहता हूं। मेरे कंधे पर बैठकर लोग आगे बढ़ें। लोग मेरे प्रोडक्शन की फिल्मों में काम करें, फिल्म निर्देशित करें।"

आप किस तरह की फिल्मों का निर्माण करेंगे?
"मैं हर तरह के कंटेंट पर फिल्में बनाना चाहूंगा। हमारे भारतीय बच्चे टॉम एंड जैरी देखते हैं, विदेशी सुपरमैन देखते हैं। मैं अपने सारे देसी सुपर हीरोज पर फिल्में बनाना चाहता हूं। हमारे देश में बच्चों के लिए बहुत से इंस्पायरिंग कैरेक्टर्स हैं, हमें इन पर फिल्में बनानी चाहिए। आपने हमारे प्रोडक्शन की फिल्म ‘लापता लेडीज’ देखी होगी, जिसे किरण राव ने डायरेक्ट किया है। इस फिल्म को बहुत प्यार मिल रहा है।"

आपके लिए एक्टिंग के साथ फिल्म डायरेक्ट-प्रोड्यूस करना मुश्किल नहीं होता?
"फिल्म ‘लगान’ को मैंने प्रोड्यूस किया था और निर्देशन आशुतोष का था। ‘तारे जमीं पर’ से मैं निर्देशन में उतरा, क्योंकि उस समय हालात ऐसे बन गए थे। मैं जिस दिन पूरी तरह से डायरेक्शन में उतरूंगा, एक्टिंग से दूर हो जाऊंगा ताकि मेरा ध्यान निर्देशन से भटके नहीं।"

मुकेश अंबानी के बेटे की शादी में आप तीनों खानों को एक साथ देखा गया था, कहीं मुकेश अंबानी आप तीनों को लेकर फिल्म तो नहीं बनाएंगे?
"देखिए, फिल्म निर्माण सिर्फ पैसों से नहीं होता। फिल्म निर्माण में सबसे जरूरी है जुनून। अपने फिल्म के प्रति प्यार। जब प्यार और जुनून एक साथ हों तो फिल्म बनती है। जिस भी मेकर में फिल्म निर्माण के प्रति पागलपन हो, वही फिल्म बना सकता है, सिर्फ पैसा मायने नहीं रखता।"

आपको ‘मिस्टर परफेक्शनिस्ट’ कहा जाता है। क्या इस तमगे का आप पर कोई प्रेशर रहता है?
"यह तमगा मुझे मीडिया ने दिया है। मैं कैसे अपने बारे में अपनी राय दे सकता हूं? गलतियां मुझसे भी हो सकती हैं, लेकिन मेरी कोशिश रहती है कि गलतियां न करूं। ओवरऑल मेरे लिए फिल्म अच्छी होनी चाहिए। कहानी, स्क्रिप्ट, संवाद, अभिनय अव्वल हो, इसलिए मैं फिल्म पर पूरा ध्यान देता हूं।"

कैसा रहा आपका 35 वर्षों का फिल्मी सफर?
"मेरा ओवरऑल फिल्म सफर तो 50 वर्षों से अधिक का है। मैं जब 4-5 का था, हमारे घर पर डैड (ताहिर हुसैन) चाचा (नासिर हुसैन) से मिलने लेखक, कलाकार आते रहते थे। मैं उनकी बातचीत सुनता रहता था। कहानियां सुनने का शौक तब से जगा। मैंने अपनी होम प्रोड्क्शन फिल्म ‘यादों की बारात’ में बाल कलाकार के रूप में काम किया। जब मैं मात्र 18 साल का था, मैं असिस्टेंट डायरेक्टर बन गया। फिल्मों की दुनिया ही मेरे लिए अपनी दुनिया है। मेरे लिए बस यही काम है। मैं बहुत ग्रेटफुल हूं, अपनी इस फिल्म जर्नी के प्रति।"

आपकी आने वाली फिल्में कौनसी हैं?
‘सितारे जमीं पर’ और ‘लाहौर’, ये दोनों फिल्में इसी साल 2024 में रिलीज होंगी।  

आपके बच्चे खासकर छोटा बेटा आजाद इन दिनों क्या कर रहा है?
जुनैद फिल्मों में बिजी हैं। इन दिनों शूटिंग कर रहे हैं। वह आगे बढ़ने की कोशिश में हैं। हमारे छोटे साहबजादे आजाद अपने दोस्तों में इस कदर खो गए हैं कि यह भूल ही गए हैं कि उनके मां-बाप भी हैं। बेटी आयरा की शादी हो चुकी है।

हम तीनों खान साथ में काम करने के लिए बेकरार हैं
पिछले पचीस वर्षों से बॉलीवुड में ‘खान’ स्टार्स का बोलबाला है। क्या तीनों ‘खान’ (आमिर, शाहरुख, सलमान) को किसी फिल्म में एक साथ देखा जा सकता है? इस सवाल पर आमिर कहते हैं, ‘राजकुमार संतोषी की फिल्म ‘अंदाज अपना-अपना’ में मैं और सलमान साथ थे। ‘करण-अर्जुन’ में सलमान, शाहरुख साथ में थे। हम तीनों की कैजुअल बात इस विषय में हो चुकी है। हम तीनों साथ में काम करने के लिए बेकरार हैं।’ 

(प्रस्तुति- पूजा सामंत)

5379487