Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Interview: मदालसा शर्मा के ऑन-स्क्रीन लवर मुकेश जे भारती ने ''बप्पी दा जैसा गोल्ड पहनूं'' का खोला राज

डायरेक्टर पार्थो घोष की फिल्म ‘मौसम इकरार के, दो पल प्यार के’ में लीड रोल मुकेश जे भारती ने निभाया है। चार साल पहले प्रीति झिंगयानी के साथ आई फिल्म ‘काश तुम होते’ से उन्होंने डेब्यू किया था।

Interview: मदालसा शर्मा के ऑन-स्क्रीन लवर मुकेश जे भारती ने

डायरेक्टर पार्थो घोष की इसी हफ्ते रिलीज हुई फिल्म ‘मौसम इकरार के, दो पल प्यार के’ में लीड रोल मुकेश जे भारती ने निभाया है। चार साल पहले प्रीति झिंगयानी के साथ आई फिल्म ‘काश तुम होते’ से उन्होंने डेब्यू किया था।

फिल्म ‘मौसम इकरार के, दो पल प्यार के’ में मदालसा शर्मा, अविनाश वाधवान भी अहम किरदार निभा रहे हैं। फिल्म ‘मौसम इकरार के, दो पल प्यार के’ का संगीत बप्पी लाहिरी ने दिया है। बातचीत मुकेश जे भारती से।

चार साल बाद आप फिल्म ‘मौसम इकरार के, दो पल प्यार के’ में नजर आए हैं। इतना गैप किस वजह से लिया?

मैं मार्शल आर्ट्स में ब्लैक बेल्ट हूं। लोग मुझसे एक्शन फिल्में करने के लिए कहते हैं। लेकिन मैं ऐसी फिल्में करना चाहता हूं, जिनमें पूरी फैमिली के एंटरटेनमेंट का ख्याल रखा गया हो। जैसे फिल्म ‘मौसम इकरार के, दो पल प्यार के’ की कहानी है, इसमें एक्शन भी है और इमोशंस भी है।

फिल्म में आपका किरदार क्या है?

मैंने इसमें अमर नाम के एक ऐसे शख्स का रोल किया है, जो पेरिस से इंडिया अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिए आता है। आमतौर पर यह देखा जाता है कि लोग इंडिया से विदेश पढ़ने जाते हैं, लेकिन इस फिल्म का कॉन्सेप्ट अलग है। इसके अलावा इसमें अमर और अंजलि (मदालसा शर्मा) की लव स्टोरी भी है।

मदालसा शर्मा और एक्टर अविनाश वाधवान के साथ वर्किंग एक्सपीरियंस कैसे रहे?

मदालसा शर्मा बहुत अच्छी आर्टिस्ट हैं, फिल्म में उनका लुक भी डिफरेंट है। वह एक बेहतरीन को-एक्टर साबित हुईं। वह बहुत मेहनती हैं। डायरेक्टर को फॉलो करने वाली एक्ट्रेस हैं। अविनाश जी ने भी फिल्म में बहुत अच्छा काम किया है।

वह अंजलि (मदालसा शर्मा) के पिता के रोल में हैं। हमने बचपन में उनकी फिल्में देखी हैं। खुद को लकी मानता हूं कि उनके साथ काम करने का मौका मिला। इतनी सारी फिल्में करने के बावजूद और इतने सीनियर एक्टर होने के बावजूद वह जमीन से जुड़े इंसान हैं।

इस फिल्म का म्यूजिक बप्पी लाहिरी ने दिया है, उनके बारे में क्या कहेंगे?

इस फिल्म में संगीत बहुत खास है। मुझे खुशी है कि बप्पी लाहिरी ने इसका संगीत कंपोज किया है। बप्पी दा एक ऐसे संगीतकार हैं, जिन्होंने एक्टर्स की दो पीढ़ियों के साथ काम किया है।

उन्होंने जहां मिथुन चक्रवर्ती की ढेर सारी फिल्मों में संगीत दिया, जिनके हिट गानों की वजह से वह स्टार बने। अब मिथुन चक्रवर्ती की बहू मदालसा शर्मा की इस फिल्म का संगीत भी उन्होंने दिया है।

मैं खुद को बेहद लकी मानता हूं कि मेरी फिल्म में उनका संगीत है, उनकी आवाज है। एक दिलचस्प बात यह है कि फिल्म में एक ऐसा सॉन्ग है, जिसके बोल में भी बप्पी दा का जिक्र है, गाना है-‘बप्पी दा जैसा गोल्ड पहनूं।’ फिल्म में कुल पांच गाने हैं, सभी सिचुएशनल गीत हैं।

आगे आप किस तरह की फिल्में करना चाहते हैं?

मैं चैलेंजिंग रोल एक्सेप्ट करना चाहता हूं। आज कंटेंट का जमाना है। दर्शक अच्छी कहानी देखना चाहते हैं, ऐसे में मुझे भी नई और अलग-सी कहानियों की तलाश है। स्टार से ज्यादा मुझे एक्टर बनने में विश्वास है।

दिवाली का त्योहार आने वाला है। मुकेश जे भारती यह त्योहार कैसे मनाते हैं?

‘मैं दिवाली अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ सेलिब्रेट करता हूं।रोशनी के इस पर्व पर मैं यही कहना चाहता हूं कि आपका दिल रोशन होना चाहिए, तभी सारे अंधेरे मिटेंगे। इस खुशी के मौके पर हमें जरूरतमंदों का भी ख्याल रखना चाहिए।

उनकी जहां तक संभव हो मदद करनी चाहिए, क्योंकि किसी के अंधेरे जीवन में रोशनी फैलाना ही दिवाली का असल मकसद है। इसके अलावा सभी लोग कोशिश करें कि ईको-फ्रेंडली दिवाली मनाएं, पटाखे न जलाएं।’

Next Story
Top