Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हेमा मालिनी को याद आये अफगानिस्तान में शूटिंग के दिन, कही ये खास बात

इस समय अफगानिस्तान में चारों ओर हाहाकार मचा हुआ है। वहां पर तालिबानियों ने कब्ज़ा कर लिया है। देश के राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी अहमदज़ई समेत कई राजनेता देश छोड़ कर भाग चुकें हैं। एयरपोर्ट पर वहां से भागने वालों में अफरा- तफरी मची हुई है। तो हाल ही में वेटेरन एक्ट्रेस और बीजेपी नेता हेमा मालिनी ने भी अफगानिस्तान की परिस्थितियों पर अपनी राय प्रकट की है। एक्ट्रेस ने इस दौरान अफगानिस्तान में हुई शूटिंग को भी याद किया है।

हेमा मालिनी को याद आये अफगानिस्तान में शूटिंग के दिन, कही ये खास बात
X

इस समय अफगानिस्तान (Afghanistan) में चारों ओर हाहाकार मचा हुआ है। वहां पर तालिबानियों (Talibani) ने कब्ज़ा कर लिया है। देश के राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी अहमदज़ई (Ashraf Ghani) समेत कई राजनेता देश छोड़ कर भाग चुकें हैं। एयरपोर्ट पर वहां से भागने वालों में अफरा- तफरी मची हुई है। लोग अपनी जान बचाने के लिए वहां से कैसे भी कर के बस भाग जाना चाहते हैं। इन हालातों में हर कोई अफगानिस्तन के प्रति अपनी भावनाएं व्यक्त कर रहा है। तो हाल ही में वेटेरन एक्ट्रेस और बीजेपी नेता हेमा मालिनी (Hema Malini) ने भी अफगानिस्तान की परिस्थितियों पर अपनी राय प्रकट की है। एक्ट्रेस ने इस दौरान अफगानिस्तान में हुई शूटिंग को भी याद किया है।


हेमा मालिनी साल 1975 में आयी अपनी फिल्म 'धर्मात्मा' (Dharmatama) की शूटिंग के लिए अफगानिस्तान गयीं थी। यह वहां पर शूट हो रही पहली बॉलीवुड फिल्म थी। फिल्म में हेमा के साथ फिरोज खान (Feroz Khan), रेखा (Rekha), प्रेमनाथ (Premnath), डैनी डेन्जोंगपा (Danny Denzongpa), फरीदा जलाल (Farida Jalal) , रंजीत (Ranjit), हेलेन (Helen) जैसे कलाकारों ने काम किया था। फिल्म के हिट गानें क्या खूब लगती हो को भी वहीं शूट किया गया था। एक मीडिया से बात करते हुए एक्ट्रेस ने कहा, "जिस काबुल को मैं जानती थी वह बहुत सुंदर था और वहां का मेरा अनुभव बहुत अच्छा था। हम काबुल हवाई अड्डे पर उतरे थे, जो उस समय मुंबई हवाई अड्डे जितना छोटा था, और हम पास के ही एक होटल में रुके थे। लेकिन आखिरकार, हमने अपनी शूटिंग के लिए बामियान और बंद-ए-अमीर जैसे स्थानों की यात्रा की और वापस लौटते समय हमने इन लंबे कुर्तों और दाढ़ी वाले लोगों को देखा, जो तालिबानियों की तरह दिखते थे। उस समय अफगानिस्तान में रूसी भी एक फोर्स थे।"


एक्ट्रेस ने आगे बताया, "उस समय वहां कोई समस्या नहीं थी, यह शांतिपूर्ण था और फ़िरोज़ खान ने पूरी ट्रिप का इंतेजाम किया था और यह एक बहुत अच्छी तरह से व्यवस्थित शूटिंग थी। मेरे पिता हमारे साथ शूटिंग पर गए थे और जब हम खैबर पास से गुजर रहे थे, हम सभी भूखे थे इसलिए हम एक ढाबे पर रुक गए। क्योंकि हम शाकाहारी थे, हमने रोटियां खरीदीं और प्याज के साथ खाईं। मैने फिर से उन एक जैसे लंबी दाढ़ी और कुर्ते पहनने वाले इंसानों को देखा। वे बहुत डरावने लग रहे थे, लेकिन मुझे लगता है कि उनमें से ज्यादातर काबुलीवाले थे।" अफगानिस्तान के मौजूदा हालातों पर बात करते हुए एक्ट्रेस ने कहा कि जिस तरह से लोग वहां से अपनी जान बचा कर भागनें की कोशिश कर रहें है ये काफी दुखद है। एयरपोर्ट पर पागल भीड़ बहुत ही डरावनी है और उन्हें नहीं पता कि इस देश के लोगों के साथ क्या होने वाला हैं। साथ ही साथ एक्ट्रेस का कहना यह भी है कि बाक़ी देशों को देश की मदद करनी चाहिए।

Next Story