Breaking News
प्रतिनिधिमंडल के साथ दो दिवसीय दौरे पर भारत पहुंचे नीदरलैंड के PM मार्क रुट, पीएम मोदी के साथ करेंगे बैठकPM मोदी ने क्रिकेटर विराट कोहली का फिटनेस चैलेंज किया स्वीकार, लिखा- चैलेंज स्वीकार जल्द शेयर करुंगा वीडियोपेट्रोल-डीजल के दामों में 11वें दिन भी जारी बढ़ोत्तरी, पेट्रोल 30 पैसा और डीजल 19 पैसा हुआ मंहगा10वीं दिन भी पाक की तरफ से सीजफायर का उल्लंघन, नौशेरा सेक्टर में 1 घायललगातार हार से कांग्रेस में फंड का टोटा, AICC ने प्रदेश कमेटी के ऑफिस का खर्चा-पानी बंद कियाझारखंड को मिलेगी 27000 करोड़ की सौगात, 25 मई को पीएम मोदी करेंगे शिलान्यासRSS का राहुल गांधी पर तीखा हमला, कहा- खोई जमीन वापस पाने के लिए समाज को बांटने की कोशिशRBSE 12th Science Result 2018: राजस्थान बोर्ड ने साइंस और कॅामर्स का रिजल्ट किया जारी
Top

अशोक कुमार ने इस घटना के बाद कभी नहीं मनाया जन्मदिन

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Oct 13 2017 7:31PM IST
अशोक कुमार ने इस घटना के बाद कभी नहीं मनाया जन्मदिन

13 अक्टूबर 1911 को भागलपुर में जन्में हिंदी सिनेमा के मशहूर अभिनेता अशोक कुमार का असली नाम कुमुद कुमार गांगुली है।

दादा मुनि के नाम से मशहूर अशोक कुमार को दिलीप कुमार और शम्मी कपूर जैसे सितारों के भी सुपरस्टार कह कर बुलाते थे। 

बंगाली परिवार में जन्में दादा मुनि के पिता कुंजलाल गांगुली पेशे से वकील थे। मध्यप्रदेश के खंडवा से अपनी पढाई पूरी करने के बाद अशोक कुमार को बचपन से ही फिल्मों में काम करने का शोक था।

उसी दौरान अशोक कुमार की दोस्ती शशधर से हुई, जिसके बाद दोनों ने अपनी दोस्ती को रिश्तेदारी में बदलते हुए अशोक कुमार ने अपनी इकलौती बहन की शादी शशधर से कर दी।

सन 1934 मे न्यू थिएटर मे बतौर लेबोरेट्री असिस्टेंट काम कर रहे अशोक कुमार को शशधर मुखर्जी ने बाम्बे टॉकीज में अपने पास बुला लिया।

अशोक कुमार ने 1936 मे बांबे टॉकीज की फिल्म 'जीवन नैया' से बतौर अभिनेता फिल्मी सफर शुरू किया। 1937 मे अशोक कुमार ने फिल्म 'अछूत कन्या' से अपने करियर को बुलंदी पर पहुंचा दिया।

1949 मे अशोक कुमार ने बतौर प्रोडक्शन चीफ बाम्बे टाकीज के बैनर सुपरहिट फिल्म महल का निर्माण किया। इस फिल्म की सफलता का आलम ये था कि उन्होंने मधुबाला और लतामंगेश्कर को भी नई बुंलदियों पर पहुंचा दिया था।

एक दिन की बात है अशोक कुमार के जन्मदिन पर उनके भाई किशोर कुमार ने अपने घर में पार्टी रखी, इस पार्टी में कई बड़े सितारे पहुंचे, लेकिन किशोर कुमार नहीं पहुंचे। 

थोड़ी ही देर बाद खबर आई के किशोर कुमार की अचानक मौत हो गई। अशोक कुमार को भाई किशोर कुमार की मौत का ऐसा सदमा लगा कि अशोक कुमार ने अपना जन्मदिन मनाना छोड़ दिया।

अशोक कुमार को 1988 में हिन्दी सिनेमा के सर्वोच्च सम्मान दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया गया। सालों तक दर्शकों के दिल पर राज करने वाले अशोक कुमार का निधन 10 दिसम्बर 2001 को मुंबई में हुआ।

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
ashok kumar not celebrate birthday after kishor kumar death

-Tags:#Ashok Kumar#Ashok Kumar Birthday#Ashok Kumar Film#Kishore Kumar

ADS

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo