Logo
election banner
हरियाणा के महेंद्रगढ़ में आयोजित होने वाली राज्य स्तरीय पशु प्रदर्शनी में उत्तम नस्ल के पशु देखने को मिलेंगे। पशु प्रदर्शनी में 11 तरह के 50 श्रेणियों में प्रतियोगिता करवाई जाएंगी। विजेताओं को पुरस्कार देकर सम्मानित किया जाएगा।

Rewari: पशुपालन एवं डेयरी विभाग तथा हरियाणा पशुधन विकास बोर्ड की तरफ से जिला महेंद्रगढ़ के गांव जाट-पाली स्थित केंद्रीय विश्वविद्यालय परिसर में 24 से 26 फरवरी तक आयोजित होने वाली 40वीं राज्य स्तरीय पशुधन प्रदर्शनी में पशुपालकों को उत्तम नस्ल के पशु देखने को मिलेंगे। पशु प्रदर्शनी में 11 तरह के पशुओं की 50 श्रेणियों में प्रतियोगिता आयोजित होगी। विजेता पशु पालक को लाखों रुपए के इनाम दिए जांगे। पशुधन प्रदर्शनी में गाय, भैंस, भेड़, बकरी, ऊंट व घोड़े उत्तम नस्ल के देखने को मिलेंगे। 

11 पशु प्रजातियों की 50 कैटेगरी के उत्तम पशुओं को मिलेगा पुरस्कार

पशुपालन एवं डेयरी विभाग के उप निदेशक डॉ. नसीब सिंह ने बताया कि पशु मेले में 11 पशु प्रजातियों की 50 कैटेगरी के उत्कृष्ट पशुओं को प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय पुरस्कार के अलावा सांत्वना पुरस्कार भी दिया जाएगा। प्रदर्शनी में 50 कैटेगरी में पशु भाग लेंगे, जिनमें मुर्राह नस्ल में मुर्राह प्रजनन योग्य व्यस्क झोटा, मुर्राह व्यस्क झोटा, मुर्राह भैंस दुधारू,  मुर्राह भैंस सूखी, मुर्राह भैंस झोटी, मुर्राह-नर कटडा, मुर्राह भैंस कटड़ी शामिल होंगी। इसी प्रकार हरियाणा प्रजनन योग्य सांड, हरियाणा दुधारू गाय, हरियाणा सूखी गाय, हरियाणा बछड़ी, हरियाणा बैलों की जोड़ी तथा साहीवाल श्रेणी में साहीवाल दुधारू गाय, साहीवाल सूखी गाय, साहीवाल बछड़ी, साहीवाल प्रजनन योग्य सांड, गीर, थारपारकर, राठी व बेलाही नस्ल के अलावा अन्य स्वदेशी मवेशी दुधारू गाय थारपारकर, दुधारू गाय बेलाही, दुधारू गाय राठी, दुधारू गाय गीर, देशी नस्ल के सांड गीर, थारपारकर, राठी व बेलाही, दूध में विदेशी/विदेशी क्रॉस नस्ल कैटेगरी के पशु भाग लेंगे।

इन नस्लों के पशु भी प्रदर्शनी में होंगे शामिल

उपनिदेशक डॉ. नसीब सिंह ने बताया कि पशु प्रदर्शनी में शंकर नस्ल में शंकर नस्ल गाय दुधारू, शंकर नस्ल गाय सूखी, शंकर नस्ल गाय बछड़ी व शंकर नस्ल सांड प्रजनन योग्य भी भाग लेंगे। गौशाला के पशु श्रेणी में गोशाला पशु गाय दुधारू, गोशाला पशु गाय सूखी, गोशाला पशु हरियाणा सांड, गोशाला पशु साहीवाल सांड, गोशाला पशु बछड़ी, अश्वनरल अश्व घोड़ा, घोड़ा-घोड़ी बछेड़ा, बछेड़ी, खस्सी घोड़ा, गधा घोड़ी व गधा घोड़ा शामिल होंगे। इसी प्रकार से ऊट व ऊटनी, भेड़ नाली/देशी /गैर वर्णनात्मक नस्ल में व्यस्क मेढा, तीन व्यस्क भेंड़ों का समूह व युवा मेंढा, हिसार डेल नस्ल में हिसार डेल वयस्क भेड़ का समूह, तीन हिसार डेल वयस्क का समूह, हिसार डेल वयस्क भेड़ा, बकरी-व्यस्क बकरा, बकरी दुधारू व युवा बकरी भाग लेंगे।

प्रदर्शनी में देखने को मिलेंगी पशुओं की कैटवॉक

डॉ. नसीब सिंह ने बताया कि जो पशुपालक इस पशुधन प्रदर्शनी में शामिल होना चाहते हैं, वह अपने नजदीक पशु संस्थान में पंजीकरण कराएं, जिससे वह लक्की ड्रा में शामिल हो सके। राज्य स्तरीय पशु प्रदर्शनी में मनोरंजन के लिए हरियाणवी नृत्य, रागिनी तथा जादू का शो आकर्षण का केंद्र रहेंगे। पशुओं की कैटवॉक सहित ऊट-घोड़े के नृत्य व हैरतंगेज करतब देखने को मिलेंगे। पशुपालक एवं किसानों को इस मेले में पशुपालन, कृषि, बागवानी व मछली पालन से संबंधित आधुनिक तकनीकों, उत्पादों व यंत्रों की जानकारी मिलेगी, जिसके लिए अलग से स्टाल व प्रदर्शनी लगाई जाएंगी।

jindal steel Ad
5379487