Logo
election banner
Ambala Dehradun Highway Dispute: हरियाणा के अंबाला से देहरादून हाईवे पर भारतीय किसान यूनियन के नेता गुरनाम सिंह चढूनी ग्रुप ठेकेदार के खिलाफ उतर आए हैं। उन्होंने ठेकेदारों पर अंडरपास बनाने को लेकर घोटाले का आरोप लगाया है।

Ambala Dehradun Highway Dispute: अंबाला-देहरादून हाईवे पर भारतीय किसान यूनियन के नेता गुरनाम सिंह चढूनी ग्रुप ठेकेदार के खिलाफ उतकर आए हैं। उन्होंने आरोप लगाया है कि अंबाला से देहरादून के लिए बनाए जा रहे नेशनल हाईवे पर शहजादपुर के तहत आने वाले गांव तंदवाल बनौदी में अंडर पास की ऊंचाई साढ़े 3 मीटर होनी थी। लेकिन ठेकेदार ने ऊंचा करने की बजाय एक मीटर जमीन की खुदाई कर दी। जिस कारण ग्रामीणों को गाड़ी निकालते समय दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

इन जिलों से पहुंच रहे किसान

जब गांव वालों ने इसका विरोध किया तो  प्रशासन भी ठेकेदार के पक्ष में उतर आए। अब उनके खिलाफ किसान नेता गुरनाम सिंह चढूनी उतर आए हैं। चढूनी ने कुरुक्षेत्र, अंबाला, यमुनानगर और पंचकूला के ज्यादा से ज्यादा किसानों को तंदवाल गांव बनौदी में पहुंचने के लिए कहा है।

किसान नेता का कहना है कि यह ठेकेदार और प्रशासन की तानाशाही है। 33 फीट की सड़क पर केवल 6 फीट ऊंचा पुल बनाया गया है। जबकि नियम के अनुसार यह पुल साढ़े 3 मीटर ऊंचा होना चाहिए था। इस पुल के नीचे से कार, ट्रैक्टर, स्कूल बस तक नहीं निकल पाती है।

Also Read: शंभू रेलवे स्टेशन पर डटे किसान, ट्रेनों की आवाजाही प्रभावित, 53 ट्रेनें कैंसिल 23 के रुट डायवर्ट

किसान नेता ने की केस दर्ज करने की मांग

चढूनी ने आगे कहा कि पुल बनाने पर पहले भी झगड़ा हो चुका है। अब फिर से इसकी ऊंचाई कम कर दी गई है। उनहों ने कहा कि जनता का रास्ता बंद कर देना, इससे बड़ा अन्याय और क्या हो सकता है। साढ़े 3 मीटर के पैसे लते हैं, लेकिन पुल ढाई मीटर का बनाता हैं। यह सीएम नायब सिंह का क्षेत्र है। हाईवे बनाने वालों के खिलाफ केश दर्ज करना चाहिए, लेकिन प्रशासन उल्टा ठेकेदारों का साथ दे रही है।

5379487