Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

आरके सिन्हा का लेख : हरिद्वार और मथुरा में क्या कर रहे थे जमाती

अब ये बात पूरी दुनिया को पता चल चुकी है कि कोरोना से संक्रमित व्यक्ति बहुत सारे लोगों को वायरस का शिकार बना देता है। इन पकड़े गए तबलीगी जमात के सदस्यों ने न मालूम कितने मासूस लोगों को कोरोना वायरस का शिकार बनाकर मौत के मुंह में धकेल दिया है।

आरके सिन्हा का लेख : हरिद्वार और मथुरा में क्या कर रहे थे जमाती
X

एक बात समझ नहीं आ रही है कि हिन्दुओं के अति महत्वपूर्ण धार्मिक स्थलों हरिद्वार और बनारस में तबलीगी जमात के कार्यकर्ता निजामुद्दीन मरकज से क्यों पहुंचे? उनका इरादा क्या था? यह हरिद्वार और काशी तक ही सीमित नहीं रहा। लगभग सभी महत्वपूर्ण हिन्दू धार्मिक स्थानों पर पहुंच गए। मरकज के जलसे के बाद इन्हें अपने घरों की याद क्यों नहीं आई? किनके निर्देश पर वहां गए।

पहले बात हरिद्वार की। कोरोना वायरस की जांच से बचने का प्रयास कर रहे जमात के पांच सदस्यों के खिलाफ स्थानीय पुलिस ने हत्या के प्रयास का मामला दर्ज किया है। जमात के ये सदस्य राजस्थान के अलवर के रहने वाले हैं और निजामुद्दीन, दिल्ली की मरकज से लौटे थे। वे जांच से बचने के लिए छिपे हुए थे। इनके एक साथी में कोविड-19 संक्रमण की पुष्टि भी हुई है। बार-बार अपील करने और चेतावनी देने के बावजूद ये जांच कराने से बचने के लिए छिप रहे थे? इस कारण उन्होंने अपना और दूसरों का जीवन भी खतरे में डाल दिया। इलेक्ट्रॉनिक निगरानी से उनका पता लगाकर मामला दर्ज किया गया है। आखिर इन्हें जांच से पहरेज क्यों था? इन सवाल का जवाब तो इन्हें देना होगा।

अब बनारस की ओर चलते हैं। वहां पर तबलीगी जमात के दो सदस्यों को कोरोना पॉजिटिव पाया गया। एक तो दशाश्वमेध थाना क्षेत्र में रहता है। सबको पता है कि दशाश्वमेध घाट गंगातट का सुप्रसिद्ध स्थान है। इसका धार्मिक महत्व है। काशीखंड के अनुसार शिवप्रेषित ब्रह्मा ने काशी में आकर यहीं दस अश्वमेध यज्ञ किए थे। यहां प्रयागेश्वर का मंदिर है। हिन्दुओं के इतने महत्वपूर्ण स्थान में वह तबलीगी क्या कर रहा था? किसे नहीं मालूम कि तबलीगी जमात का मूल मकसद तो गैर-मुसलमानों को इस्लाम से जोड़ना है। क्या ये दोनों तबलीगी बनारस में यह सब कर रहे थे? यह मुमकिन लगता है कि ये नवरात्रों में संक्रमण फैलाने के उद्देश्य से आए थे ।

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले से आई खबरों के अनुसार, वहां पर कुछ इंडोनेशिया के जमात कार्यकर्ताओं को पुलिस ने पकड़ा है। बड़ा सवाल यह है कि वे दिल्ली में अपने कार्यक्रम की समाप्ति के बाद सहारनपुर में क्या झक मार रहे थे? सहारनपुर दूर नहीं है हरिद्वार से। ये कोई बहुत पुरानी बात नहीं है जब हरिद्वार सहारनपुर जिले का हिस्सा हुआ करता था। क्या ये सब देश को कोरोना वायरस के जाल में फंसाने के इरादे से घूम रहे थे? इन्हें यह तो पता ही था कि ऋषिकेश-हरिद्वार में लाखों की संख्या में भक्त गंगा स्नान के लिए आएंगे। क्या इनके निशाने पर हिन्दुओं के खास धार्मिक स्थल थे? जाहिर है, इन सवालों के जवाब जांच के बाद ही तो मिल सकेंगे।

इनके हरिद्वार और बनारस में पाए जाने से ये संकेत भी लग रहे है कि ये एक तरह से आत्मघाती संक्रामक मानवबम का काम कर रहे थे। क्या ये हिन्दुओं की बड़ी आबादी को कोरोना के वायरस के जाल में फंसा रहे थे। अकेले उत्तर प्रदेश में ही 287 विदेशी पकड़े गए हैं। इनमें से 211 के पासपोर्ट भी सीज कर दिए हैं। लखनऊ में कई विदेशी नागरिकों को पकड़ा गया, जिन्होंने दिल्ली के निजामुद्दीन के कार्यक्रम में हिस्सा लिया था। अब इन्हें 14 दिन क्वोंरनटाइन करवा कर अब जेल भेज दिया गया है। इसी तरह दो संक्रमित तबलीगी तो महाकालेश्वर मंदिर उज्जैन में ही छिपे हुए थे। यही हाल तमिलनाडु और तेलंगाना के धार्मिक शहरों का भी है।

अब ये बात पूरी दुनिया को पता चल चुकी है कि कोरोना से संक्रमित व्यक्ति बहुत सारे लोगों को वायरस का शिकार बना देता है। इन पकड़े गए तबलीगी जमात के सदस्यों ने न मालूम कितने मासूस लोगों को कोरोना वायरस का शिकार बनाकर मौत के मुंह में धकेल दिया है। दिल्ली में अपने सम्मेलन को खत्म करने के बाद ये सारे देश में गए। जहां भी गए वे कोरोना वायरस का संक्रमण लेकर ही गए। इन्होंने देश के 17 राज्यों में कोरोना के को पहुंचाया। अभी तक देश में कोरोना के कुल रोगियों में इनके द्वारा संक्रमित होने वालों का आंकड़ा तीस फीसदी तक जाता है। सिर्फ तमिलनाडू के एक हजार संक्रमित लोगों में से 900 से ज्यादा तबलीगियों से ही जुड़े हैं। यह केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय का आंकड़ा है। अब जरा सोच लें कि इन्होंने देश को कितने बड़े संकट में डाल दिया है। ये तो भला हो दिन-रात मेहनत कर रहे डाक्टरों, नर्सों, पुलिस, सफाई योद्धाओं का जो इन तबलीगियों का जमीन पर मुकाबला कर रहे हैं। वर्ना मानवता के ये दुश्मन अपने मकसद में सफल हो ही जाते।

एक बात तो साफ तौर पर लग रही है कि तबलीगी जमात के लोग उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश को कोरोना के माध्यम से बड़ा नुकसान पहुंचाने की फिराक में थे। इसलिए ही इन राज्यों में और तेलंगाना, आंध्रप्रदेश और तमिलनाडू में इतने सारे तबलीगी कार्यकर्ता घूम रहे थे। कहना न होगा कि अपने को सच्चा मुसलमान कहने वालों के कारण ही इस्लाम की भी बदनामी हुई है। ये लोग देश के बीस करोड़ मुसलमानों का प्रतिनिधित्व तो कदापि नहीं करते। इन्होंने गाजियाबाद के एमएमजी जिला अस्पताल की महिला नर्सों पर थूका भी। लानत है इन पर। अच्छी बात यह है कि इन तबलीगी जमात के लोगों पर सख्ती कर रही है योगी सरकार की पुलिस। मुख्यमंत्री योगी ने सभी ऐसे आरोपियों पर रासुका के तहत कार्रवाई करने के निर्देश देकर एक नजीर रखी है। जिन्होंने पुलिस की अपील की परवाह नहीं की और जिन्हें बाद में पुलिस को खोजकर पकड़ना पड़ा।

देश के अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों को भी जमातियों पर सख्ती दिखानी चाहिए। यह तो साबित हो गया कि ये देश के कानून को नहीं मानते हैं। ये मानवता के दुश्मन हैं। इन्होंने देश-समाज के साथ जघन्य अपराध किया है। इनका यह कृत्य राष्ट्रद्रोह नहीं तो और क्या है?

कोरोना संकट ने देश को एक बड़ा अवसर भी दिया है कि वह अपने को बदल ले। यहां पर लुंज-पुंज तरीके से शासन न चले। जो भी कानून का उल्लंघन करे उसके खिलाफ कठोर कार्रवाई हो। अब देखिए कि लॉकडाउन के समय पुलिसकर्मियों पर हमलों के समाचार भी लगातार ही मिल रहे हैं। पंजाब में एक पुलिस अधिकारी का हाथ काट देने के मामले से देश सन्न है। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के अपने पैतृक शहर पटियाला में बिना पास के सब्जी मंडी के अंदर जाने से रोकने पर निहंग सिखों ने पुलिसकर्मियों पर तलवारों से हमला कर दिया। इस हमले में एक पुलिसकर्मी का हाथ ही काटकर अलग कर दिया गया। निहंगों ने पुलिसकर्मियों पर हमला किया। ये निहंग हमला करने के बाद एक गुरुद्वारे में छिप गए। गुरुद्वारे से आरोपियों ने कथित तौर पर फायरिंग भी की और पुलिसवालों को वहां से चले जाने के लिए भी कहा। खैर, उन हमलवर निहंगों को पकड़ लिया गया है। तो बात यह है कि चाहे वे निहंग हों या तबलीगी जमात के लोग या फिर भी कोई और। किसी को भी कानून के साथ खिलवाड़ करने की इजाजत न दी जाए। इसमें धर्म और आस्था का सवाल नहीं है। जरा सोचिए कि इन तबलीग जमात के गुंडों और निहंगों में कानून के खिलाफ चलने की हिम्मत कैसे आई। इस तरह से तो देश नहीं चल सकता। देश तो कानून और संविधान के रास्ते पर ही चलेगा। इस बात को सबको समझ लेना चाहिए।

Next Story