Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

आतंकवाद पर पाकिस्तान की ओछी बयानबाजी, अपना रहा है दोहरी नीति

आतंकवाद को लेकर पाक सरकार दोहरी नीति अपना रही है।

आतंकवाद पर पाकिस्तान की ओछी बयानबाजी, अपना रहा है दोहरी नीति
X

पूरी दुनिया जानती है कि भारत एक शांतिप्रिय देश है। वहीं समूचे विश्व में पाकिस्तान की छवि आतंकवादियों के पनाहगार के रूप में बनी हुई है। ऐसे में पाकिस्तान के रक्षा मंत्री और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के सलाहकार सरताज अजीज का यह कहना कि भारत के तालिबान जैसे आतंकियों से रिश्ते हैं तथा वह उनकी मदद कर रहा है और भारत अफगानिस्तान की जमीन का उपयोग पाकिस्तान पर हमले के लिए कर रहा है, उनकी मानसिक दिवालियापन का परिचायक है। इस तरह वहां की सरकार आतंकवाद की गंभीरता को हल्का ही कर रही है और पाकिस्तान की जनता का ध्यान भटकाने की कोशिश कर रही है। वह अपनी नाकामियों को भी छिपाने की कोशिश कर रही है। इससे साफ जाहिर होता हैकि आतंकवाद को लेकर पाक सरकार दोहरी नीति अपना रही है।

ये भी पढ़ेः कश्मीर मुद्दे के बगैर पाकिस्तान की भारत से बात संभव नहीं: सरताज अजीज

लगता है कि पेशावर की वीभत्स घटना से भी वहां की हुकूमत कोई सबक नहीं ले पा रही है। एक तरफ पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ कहते हैं कि सेना आतंकवाद के खिलाफ तब तक जंग जारी रखेगी जब तक यह पूरी तरह पाक की सरजमीं से खत्म नहीं हो जाता। उन्होंने यहां तक कहा कि अच्छे और बुरे तालिबान में फर्क नहीं किया जाएगा, लेकिन भारत पर इस तरह के ओछे आरोप लगाने से साफ होता है कि पाक अब भी आतंकवाद को अच्छे व बुरे की नजर से देख रहा है। अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन कैरी ने भी कहा है कि लश्कर ए तैयबा, तालिबान और हक्कानी नेटवर्क जैसे आतंकवादी समूह भारत सहित पूरे विश्व के लिए खतरा बने हुए हैं। लिहाजा पाकिस्तान को हर हाल में उन आतंकी संगठनों से लड़ना होगा। वह आतंकवाद का पोषक देश है समय समय पर इसके सबूत भी सामने आते रहे हैं। अभी बहुत दिन नहीं बीते जब अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन ने अमेरिकी कांग्रेस को सौंपी अपनी रिपोर्टमें कहा था कि पाकिस्तानी सेना भारत के खिलाफ आतंकवाद को बढ़ावा दे रही है। इसी तरह की बात अफगानिस्तान की खुफिया विभाग के हवाले से भी कहा गया था।

ये भी पढ़ेः पाक का नेशनल एक्‍शन प्‍लान, 500 लोग गिरफ्तार

आज वहां साठ से ज्यादा प्रतिबंधित आतंकी संगठन हैं। पाकिस्तान के कई क्षेत्रों पर उनका व्यापक प्रभाव है। लश्कर ए तैयबा, जमात उद दावा, हक्कानी नेटवर्क, तहरीक ए तालिबान पाकिस्तान आदि दुनिया के खूंखार आतंकी संगठनों की पहचान पाकिस्तान से है। अलकायदा के सभी बड़े आतंकी आज वहीं छिपे हुए हैं। ओसामा बिन लादेन सालों से पाकिस्तान में ही पनाह लिए हुआ था। हाफीज सईद को पाक सरकार तमाम सहूलियतें दे रही है जबकि अमेरिका उसके सिर पर इनाम रखा है। भारत में होने वाले आतंकी हमलों के तार पाक से ही जुड़े होते हैं। पाक सेना जब न तब घुसपैठ कराने के लिए सीमा पर गोलीबारी करती है।

ये भी पढ़ेः हमले के बाद फिर खुला पेशावर का आर्मी स्‍कूल, घटना में हुई थी 132 बच्‍चों की मौत

गत दिनों पाक से आए आतंकवादी समुद्र के रास्ते भारत में नाकाम घुसपैठ करने की कोशिश करते दिखे थे। जाहिर है, पाकिस्तान के इस तरह आरोप लगाने से आतंकियों के हौसले बढ़ेंगे। यदि वह वास्तव में आतंकवाद को समाप्त करना चाहता है तो उसे बिना भेदभाव किए सभी आतंकवादियों को नेस्तनाबूद करना होगा। यदि वहां की सरकार कार्रवाई नहीं करेगी तो ये आतंकी अंतत: उसे ही नुकसान पहुंचाएंगे।

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top