Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Triple Talaq Bill In Lok Sabha : हंगामे के बीच संसद में पेश हुआ 'तलाक-तलाक-तलाक', जानें ओवैसी से थरूर तक किसने क्या हमला बोला

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में संसद का मानसून सत्र शुरू हो गया है। इसी क्रम में केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने लोकसभा में तीन तलाक पर बिल पेश किया। तीन तलाक का बिल संसद में पेश होते ही एआईएनआईएम के सांसद ओवैसी और कांग्रेस के शशि थरूर ने संसद में हंगामा कर दिया।

Asaduddin Owaisi and Shashi Tharoor opposes Triple Talaq bill In Lok SabhaAsaduddin Owaisi and Shashi Tharoor opposes Triple Talaq bill In Lok Sabha

मोदी सरकार (Modi Sarkar 2) के दूसरे कार्यकाल में संसद का मानसून सत्र शुरू हो गया है। इसी क्रम में केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद (Union Law Minister Ravi Shankar Prasad) ने लोकसभा (Lok Sabha) में तीन तलाक (Triple Talaq) पर बिल पेश किया। जैसा कि पहले से ही कयास लगाया जा रहा था कि इस बिल के पेश होते ही हंगामा होगा। वही हुआ, तीन तलाक का बिल संसद में पेश होते ही एआईएनआईएम (AINIM) के सांसद ओवैसी (Asaduddin Owaisi) और कांग्रेस के शशि थरूर (Shashi Tharur) ने संसद में हंगामा कर दिया। स्पीकर ओम बिड़ला (Lok Sabha Speaker Om Birla) को बीच में बोलना पड़ा कि मंत्री केवल संसद में बिल पेश कर रहे हैं। इसके बाद सदम में हंगामे के बीच बिल पेश किया गया।

तीन तलाक बिल (Triple Talaq Bill) के समर्थन में 186 वोट पड़े जबकि विरोध में मात्र 74 वोट ही पड़े। बता दें कि तीन तलाक (Triple Talaq) पर बिल पेश करते हुए केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद (Union Minister Ravi Shanakar Prasad) ने कहा कि जनता ने हमें कानून बनाने के लिए चुना गया है। उन्होंने कहा कि मुस्लिम समुदाय (Muslim Community) की महिलाएं इस प्रथा के तहत हर दिन शिकार होती हैं, उनको न्याय दिलाना हमारी सरकार की प्राथमिकता है। इस बिल के लागू होते ही मुस्लिम महिलाओं (Muslim Women) के अधिकारों की रक्षा होने लगेगी।

यह महिला सशक्तिकरण की दिशा में एक मजबूत कदम है। कांग्रेस और ओवैसी के विरोध पर केंद्रीय कानून मंत्री ने कहा कि यह बड़े संकट की बात है कि कांग्रेस ने ट्रिपल तालाक विधेयक लाने का विरोध किया। इससे पहले उन्होंने इसका विरोध नहीं किया था, पिछली बार वे लोकसभा से बाहर चले गए थे। लेकिन आज वे ओवैसी का समर्थन कर इस बिल का विरोध कर रहे हैं जो बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है।

ओवैसी का हमला

इस बिल को लेकर विपक्ष सरकार पर हमला करता रहा। हैदराबाद के सांसद ओवैसी ने कड़ी आपत्ति जताते हुए कहा कि यह धारा 14 और 15 के खिलाफ है। हमारे पास पहले से ही घरेलू हिंसा अधिनियम 2005, सीआरपीसी धारा 125 (Section 125 CRPC), मुस्लिम महिला विवाह अधिनियम (Muslim Marriage Act) है। अगर ट्रिपल तालाक बिल एक कानून बन जाता है तो यह महिलाओं के खिलाफ और भी बड़ा अन्याय होगा।

ओवैसी ने सरकार को घेरते हुए आगे कहा कि अगर कोई आदमी गिरफ्तार हो जाता है, तो वह जेल से भत्ता कैसे देगा? सरकार का कहना है कि अगर कोई मुस्लिम व्यक्ति इस अपराध को करता है तो विवाह बरकरार रहेगा और अगर उसे अदालत द्वारा दंडित किया जाता है तो उसे 3 साल की जेल होगी। वह 3 साल के लिए जेल जाएगा लेकिन शादी बरकरार रहेगी! मोदी क्या कानून बना रहे हैं?

कांग्रेस ने क्या कहा

वहीं कांग्रेस के सांसद व वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने कहा कि इस बिल के लागू होने से मुस्लिम महिलाओं की हालात में किसी तरह का सुधार नहीं होने वाला न ही ये कानून उनके हित में है। मैं इसका समर्थन नहीं करूंगा।

सपा सांसद आजम खान ने क्या कहा

वहीं सपा के सांसद आजम खान ने भी सरकार के तीन तलाक बिल का विरोध किया है। उन्होंने कहा है कि जो कुरान कहता है उनकी पार्टी वही मानती है। उन्होंने इस मुद्दे पर अपनी पार्टी स्टैंड रखते हुए कहा कि कुरान में जो भी लिखा गया है वही सोच हमारी पार्टी रखती है।

इससे पहले उन्होंने कहा था कि इस्लाम से ज्यादा हक महिलाओं को किसी धर्म ने नहीं दिया है। इस्लाम आज से 1500 साल पहले ही महिलाओं को बराबरी का अधिकार दे दिया था। आजम ने कहा कि मुस्लिम धर्म में न ही औरतों को मारा जाता है और न ही उन्हें जलाया जाता है।

Next Story
hari bhoomi
Share it
Top