Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Pulwama Attack : शहीद जवानों की याद में बने स्मारक का उद्घाटन किया गया, जवानों को दी गई श्रद्धांजलि

Pulwama Attack (पुलवामा की पहली बरसी) : 13 फरवरी को सीआरपीएफ के अतिरिक्त महानिदेशक जुल्फिकार हसन ने स्मारक स्थल का दौरा किया था। इसके बाद उन्होंने कहा था कि यह उन बहादुर जवानों को श्रद्धांजलि देने का तरीका है जिन्होंने हमले में अपनी जान गंवाई।

Pulwama Attack : शहीद जवानों की याद में बने स्मारक का उद्घाटन किया गया, जवानों को दी गई श्रद्धांजलि

Pulwama Attack (पुलवामा की पहली बरसी) : जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में बीते वर्ष 14 फरवरी को आतंकी हमले में करीब 40 सीआरपीएफ जवानों की शाहदत हो गई थी। इसके बाद शहीदों की याद में स्मारक बनाया गया। जिसका उद्घाटन आज लेथपुरा कैंप में हो गया है। जिसके बाद पिछले साल पुलवामा हमले में जान गंवाने वाले 40 सीआरपीएफ जवानों को श्रद्धांजलि दी गई।

महाराष्ट्र के उमेश गोपीनाथ जाधव आज पुलवामा हमले के एक वर्ष के अवसर पर कश्मीर के लेथपोरा में सीआरपीएफ परिसर में पुष्पांजलि समारोह में विशिष्ट अतिथि हैं। हमले में जान गंवाने वाले 40 जवानों के परिवारों से मिलने के लिए उन्होंने भारत भर में 61000 किलोमीटर लंबी यात्रा की है।

बता दें कि 13 फरवरी को सीआरपीएफ के अतिरिक्त महानिदेशक जुल्फिकार हसन ने स्मारक स्थल का दौरा किया था। इसके बाद उन्होंने कहा था कि यह उन बहादुर जवानों को श्रद्धांजलि देने का तरीका है जिन्होंने हमले में अपनी जान गंवाई। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक स्मारक में उन शहीद जवानों के नामों के साथ उनकी तस्वीरें भी हैं। साथ ही सीआरपीएफ का ध्येय वाक्य सेवा और निष्ठा भी होगा।

यह भी पढ़ें : Pulwama Attack : 14 फरवरी को लहू-लुहान हुई थी स्वर्ग जैसी धरती, आतंकियों ने इस तरह हमले को दिया था अंजाम

आदिल अहमद डार ने दिया हमले की वारदात को अंजाम

पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हमला करने वाले आतंकी की उम्र मजह 20 थी। आतंकी का नाम आदिल अहमद डार था। आदिल डार के तार पाकिस्तान स्थित इस्लामी आतंकवादी समूह जैश-ए-मोहम्मद से जुड़े थे। इस हमले की जिम्मेदारी भी जैश-ए-मोहम्मद संगठन ने ही ली थी।

आदिल डार ने विस्फोटक से भरे वाहन से सीआरपीएफ के काफिले की गाड़ी को टक्कर मार दी थी। जिसके बाद जोरदार धमाका हुआ था। धमाके की आजाव कई किलो मीटर दूर तक सुनी गई थी। इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गये थे।

Next Story
Top