Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

क्या पुंछ में भारतीय सेना के खिलाफ पाकिस्तानी कमांडो भी आतंकवादियों का दे रहे हैं साथ, पढ़ें दावा करने वाली ये रिपोर्ट

एक मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि सुरक्षाबल और स्थानीय पुलिस लगातार आतंकवादियों से लड़ रहे हैं लेकिन उन्हें ट्रेनिंग पाकिस्तान के कमांडो ने दी थी। सेना ने इसको लेकर आशंका जताई है, लेकिन अभी पुष्टि बाकी है।

क्या पुंछ में भारतीय सेना के खिलाफ पाकिस्तानी कमांडो भी आतंकवादियों का दे रहे हैं साथ, पढ़ें दावा करने वाली ये रिपोर्ट
X

भारतीय सुरक्षाबल 

जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) के एलओसी (LOC) इलाकों से लगातार आतंकवादियों की घटना और मुठभेड़ की खबरों के बीच एक बड़ा दावा पुंछ (Poonch Encounter) में किया गया है। एक मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि सुरक्षाबल और स्थानीय पुलिस लगातार आतंकवादियों से लड़ रहे हैं लेकिन उन्हें ट्रेनिंग पाकिस्तान के कमांडो ने दी थी।

सेना के 9 जवान शहीद

दावा किया गया है कि पुंछ के सुरनकोट जंगल में ऑपरेशन में दो जवानों की शहादत के साथ अब तक 9 जवान शहीद हो चुके हैं। इस मुठभेड़ के दौरान अभी तक किसी भी आतंकवादी के मारे जाने की सूचना नहीं मिली है। अभी तक कोई शव भी नहीं बरामद हुआ है। अभी भी कई इलाकों में भारी घेराबंदी और भारी गोलाबारी के बावजूद कम से कम 9 से 10 किलोमीटर के इस जंगल में मुठभेड़ जारी है।

10 अक्टूबर से एलओसी पर मुठभेड़ जारी

नियंत्रण रेखा के पास पुंछ के डेरा वाली गली इलाके में 10 अक्टूबर की रात इन आतंकियों से पहली मुठभेड़ में एक जेसीओ समेत पांच जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद गुरुवार को आतंकियों की तलाश कर रहे सेना के एक दल पर नर खास के जंगलों में घात लगाकर हमला किया गया। इसमें दो जवान शहीद हो गए और एक जेसीओ समेत दो अन्य लापता हो गए। दो दिन बाद कड़े ऑपरेशन के बाद उनके शव बरामद किए गए।

पाकिस्तान को लेकर दावा

सूत्रों ने जानकारी देते हुए बताया कि कई सुरक्षाबलों से बचने के लिए आतंकवादी 8 दिनों से लड़ रहे हैं। उन्हें पाकिस्तानी सेना के कमांडो द्वारा ट्रेनिंग दी गई है। सेना को शक है कि पुंछ एनकाउंटर मे आतंकियों के साथ पाकिस्तानी कमांडो भी हो सकते हैं। लेकिन हम निश्चित रूप से तभी जान पाएंगे जब वे मारे जाएंगे।

जानकारी के लिए बता दें कि ये एनकाउंटर बीती 10 अक्टूबर की रात पुंछ से शुरू हुआ था। मुठभेड़ की शुरुआत में ही एक जेसीओ समेत सेना के 5 जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद पूरे इलाके में सेना और स्थानीय पुलिस ने मिलकर सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया और इस दौरान ये आतंकी सुरक्षाबलों को चकमा देकर भागने में सफल रहे। इसके बाद 14 अक्टूबर को पुंछ के नर खास के जंगलों में इन आतंकियों को सुरक्षाबलों ने घेर लिया था। सर्च ऑपरेशन के दौरान सेना के 4 जवान लापता हो गए। इनमें से 2 के शव बीते शुक्रवार को बरामद हुए और 2 शव शनिवार को मिले। इसके बाद सेना और पुलिस ने मिलकर जंगल में एक लंबा सर्च ऑपरेशन शुरु किया है।

और पढ़ें
Next Story