Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

CDS Bipin Rawat Jayanti: जनरल बिपिन रावत को कई वीरता और विशिष्ट सेवा पुरस्कार से नवाजा गया था, जानें सैन्य सेवाओं के बारे में

सीडीएस एक ऐसी महान शख्सियत थे कि उनके नाम मात्र से दुश्मन के पसीने छूट जाते थे। उन्होंने रक्षा क्षेत्र में भारत को नई ऊंचाइयों तक पहुंचाया है। वह देशप्रेम की अद्वितीय मिसाल थे। बता दें कि बीते साल 8 दिसंबर की तमिलनाडू के पास हेलीकॉप्टर क्रैश में उनकी मौत हो गई थी।

CDS Bipin Rawat Jayanti: जनरल बिपिन रावत को कई वीरता और विशिष्ट सेवा पुरस्कार से नवाजा गया था, जानें सैन्य सेवाओं के बारे में
X

CDS Bipin Rawat Jayanti: देश के पहले सीडीएस जनरल बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat) की आज जयंती है। आज पूरा देश सीडीएस बिपिन रावत को याद कर रहा है। सीडीएस एक ऐसी महान शख्सियत थे कि उनके नाम मात्र से दुश्मन के पसीने छूट जाते थे। उन्होंने रक्षा क्षेत्र में भारत को नई ऊंचाइयों तक पहुंचाया है। वह देशप्रेम की अद्वितीय मिसाल थे। बता दें कि बीते साल 8 दिसंबर की तमिलनाडू के पास हेलीकॉप्टर क्रैश में उनकी मौत हो गई थी। इस हादसे में उनकी पत्नी मधुलिका समेत 14 लोगों की जान गई थी। चलिए जानते हैं सीडीएस बिपिन रावत की सैन्य सेवाओं के बारे में...

सीडीएस बिपिन रावत की सैन्य सेवाएं...

जनरल रावत ने ग्यारहवीं गोरखा राइफल की पांचवी बटालियन से 1978 में अपने करियर की शुरुआत की थी।

1- बिपिन रावत ने जनवरी 1979 में सेना में मिजोरम में प्रथम नियुक्ति पाई।

2- नेफा इलाके में तैनाती के दौरान बिपिन रावत ने बटालियन की अगुवाई की थी।

3- बिपिन रावत ने कांगो में संयुक्त राष्ट्र की पीसकीपिंग फोर्स की भी अगुवाई की थी।

4- बिपिन रावत ने 1 सितंबर 2016 को सेना के उप-प्रमुख का पद संभाला था।

5- बिपिन रावत ने 31 दिसंबर 2016 को सेना प्रमुख का पद संभाला था।

6- 1 जनवरी 2021 को रक्षा प्रमुख (चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ) का पद संभाला।

इन पुरस्कार से नवाजा गया

लगभग 43 वर्षों के अपने करियर के दौरान उन्हें परम विशिष्ट सेवा पदक, उत्तम युद्ध सेवा पदक, अति विशिष्ट सेवा पदक, युद्ध सेवा पदक, सेना पदक, विशिष्ट सेवा पदक, वीरता और विशिष्ट सेवा के लिए सम्मानित किया गया। दो मौकों पर सीओएएस प्रशस्ति और सेना कमांडर प्रशस्ति से भी सम्मानित किया गया था। वहीं 2022 गणतंत्र दिवस के मौके पर उन्हें मरणोपरांत पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था।

और पढ़ें
Next Story