Logo
Gardening Tips: तुलसी का पौधा हिंदू धर्म में काफी पवित्र माना जाता है। इसको अगर घर में सही तरीके से लगाया जाए तो कुछ वक्त में ही ये हरा-भरा हो जाता है।

Gardening Tips: हिंदू धर्म में तुलसी के पौधे का विशेष महत्व माना गया है। यही वजह है कि ज्यादातर घरों में इसे लगाया जाता है। बहुत से घरों में इसे लगाने के कुछ वक्त बाद ही सूख जाता है। कई लोग इस बात की शिकायत करते हैं कि तुलसी का पौधा बार-बार लगाने के बाद भी ठीक से पनप नहीं पाता और हरा-भरा होने के बजाय सूख जाता है। ऐसे में तुलसी के पौधे को लगाने का सही तरीका और उसकी देखभाल की सही जानकारी होना अनिवार्य है। 

आप भी अगर इस परेशानी का सामना करते हैं तो कुछ आसान स्टेप्स को फॉलो कर घर में तुलसी का पौधा लगा सकते हैं। थोड़ी सी देखभाल से ही ये पवित्र पौधा आपके घर पर हरा-भरा होने लगेगा। 

तुलसी का पौधा कैसे लगाएं?
ताजे और अच्छी गुणवत्ता वाले तुलसी के बीज चुनें। आप बाजार से या किसी विश्वसनीय स्रोत से बीज प्राप्त कर सकते हैं। बीजों को 24 घंटे के लिए पानी में भिगो दें। एक गमले में जैविक पदार्थों से भरपूर, ढीली और जल निकासी वाली मिट्टी भरें। बीजों को मिट्टी में 1 इंच की गहराई पर बोएं और थोड़ी मिट्टी से ढक दें। मिट्टी को गीली रखें, लेकिन ज़्यादा पानी न दें।  बीज 7-10 दिनों में अंकुरित होने लगेंगे।

इसे भी पढ़ें: Gardening Tips: घर में भी उगा सकते हैं तेजपत्ता, बेहद आसान है लगाने का तरीका, खाने का स्वाद बढ़ाता है यह मसाला

इस तरह करें पौधे की देखभाल
तुलसी को नियमित रूप से पानी देना ज़रूरी है, लेकिन ज़्यादा पानी न दें। मिट्टी को सूखने दें और फिर पानी दें। गर्मी में दिन में दो बार पानी देना पड़ सकता है, जबकि सर्दियों में एक बार पर्याप्त है। तुलसी को दिन में कम से कम 4-6 घंटे धूप की ज़रूरत होती है। इसे ऐसी जगह पर रखें जहाँ सुबह की धूप मिले। धूप कम होने पर कृत्रिम रोशनी का इस्तेमाल कर सकते हैं।

तुलसी को गर्म और उष्णकटिबंधीय जलवायु पसंद है। यह 10°C से 40°C के तापमान में अच्छी तरह उगती है। ठंडी हवाओं और पाले से इसे बचाएं। तुलसी को बहुत ज़्यादा खाद की ज़रूरत नहीं होती है। बारिश के दिनों में एक बार जैविक खाद, जैसे गोबर की खाद या कम्पोस्ट डाल सकते हैं। 

नए विकास को प्रोत्साहित करने और पौधे को घना बनाने के लिए समय-समय पर छंटाई करते रहें। सूखे, पीले और बीमार पत्तों को भी हटा दें। तुलसी कीटों और रोगों के प्रति काफी प्रतिरोधी होती है। लेकिन, अगर आपको कोई समस्या दिखाई देती है, तो नीम का तेल या लहसुन और मिर्च का घोल उपयोग कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: Gardening Tips: घर के गमले में लगाएं इलायची का पौधा, खुशबू से भर जाएगी आपकी बगिया, खरीदने की झंझट होगी खत्म

कुछ अन्य जरूर टिप्स

  • तुलसी के पौधे को हर 2-3 साल बाद बड़े गमले में स्थानांतरित करते रहें।
  • पुराने और सूखे डंठलों को हटाकर पौधे को स्वस्थ रखें।
  • तुलसी के पत्तों को नियमित रूप से तोड़ते रहें क्योंकि इससे नए पत्ते उगने में मदद मिलती है।
  • तुलसी के बीजों को सहेजकर आप नए पौधे भी उगा सकते हैं।
jindal steel hbm ad
5379487